गेब्रियल बोरिक

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

गेब्रियल बोरिक (स्पेनी: Gabriel Boric) चिली के केंद्र-वामपंथी राजनीतिज्ञ हैं।[1] वह 2011 की चिली की लामबंदी में एक महत्वपूर्ण छात्र नेता थे और 2014 से वह चिली के चैम्बर ऑफ़ ड्यूपिटीज़ हैं।[2]

वह अति दक्षिणपंथी राजनीतिज्ञ जोस कास्तो को पछाड़कर 2021 के चुनावों के दौरान चिली के राष्ट्रपति चुने गए। इनका राष्ट्रपति कार्यकाल 11 मार्च 2022 से शुरू होगा।[3]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Molina, Federico Rivas (2021-12-19). "Gabriel Boric, la nueva cara de la izquierda en América Latina". El País (स्पेनी में). अभिगमन तिथि 2021-12-21.
  2. El Mostrador (2021-12-20). "Gabriel Boric, el líder estudiantil del 2011 que se abrió camino a La Moneda 10 años después". El Mostrador (स्पेनी में). अभिगमन तिथि 2021-12-21.
  3. "José Antonio Kast reconoce su derrota". https://www.facebook.com/RadioDuna (स्पेनी में). अभिगमन तिथि 2021-12-21. |website= में बाहरी कड़ी (मदद)