गुरुत्वानुवर्तन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
एक चीड़ के पौधे को टेढ़ा करने के तुरंत बाद के २४ घंटों में तनों में ऋण-गुरुत्वानुवर्तन से चोटियों की दिशा में बदलाव

गुरुत्वानुवर्तन (gravitropism, geotropism) किसी जीव की ऐसी वृद्धि होती है जो गुरुत्वाकर्षक बल के उद्दीपन से प्रभावित हो। यदी बढ़ाव गुरुत्वाकर्षण की ओर हो तो इसे धन-गुरुत्वानुवर्तन (positive gravitropism) कहते हैं और यदि यह गुरुत्वाकर्षण से विपरीत दिशा में हो तो इसे ऋण-गुरुत्वानुवर्तन (negative gravitropism) कहते हैं। पौधों और फफूंद (फ़ंगस) के तनों में ऋण-गुरुत्वानुवर्तन होता है जिस कारणवश वे ऊपर की दिशा में उगते हैं जबकि उनकी जड़ों में धन-गुरुत्वानुवर्तन होता है।[1][2]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Darwin, Charles; Darwin, Francisc (1881). The power of movement in plants. New York: D. Appleton and Company. अभिगमन तिथि 24 April 2018.
  2. Perrin, Robyn M.; Young, Li-Sen; Narayana Murthy, U.M.; Harrison, Benjamin R.; Wang, Yan; Will, Jessica L.; Masson, Patrick H. (2017-04-21). "Gravity Signal Transduction in Primary Roots". Annals of Botany. 96 (5): 737–743. PMC 4247041. PMID 16033778. आइ॰एस॰एस॰एन॰ 0305-7364. डीओआइ:10.1093/aob/mci227.