गीतिका जाखड़

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गीतिका जाखड़ (जन्म: १८ अगस्त १९८५) एक भारतीय महिला पहलवान हैं। इन्होने २०१४ में ग्लासगो कामनवेल्थ गेम्स में 63 किलोग्राम भार वर्ग में सिल्वर मेडल जीता।[1]

वे ३ बार की वर्ल्ड चैंपियन कनाडा की पहलवान डी. लोपेज से फाइनल में हार गई। पहलवान गीतिका जाखड़ को खेल और कुश्ती विरासत में मिली है। उनके दादा अत्तर सिंह जाखड़ अपने जमाने के जाने-माने पहलवान रहे हैं। पिता सत्यवीर सिंह जाखड़ अच्छे एथलीट रहे हैं और कोच भी हैं। हरियाणा पुलिस में डीएसपी हिसार के अग्रोहा में जन्मी गीतिका जाखड़ देश की पहली अर्जुन अवॉर्डी महिला पहलवान है। वह कॉमनवेल्थ कुश्ती चैंपियनशिप में २ बार गोल्ड मेडल, एशियन गेम्स में सिल्वर मेडल और जूनियर वर्ल्ड चैंपियनशिप में सिल्वर मेडल जीत चुकी है। गीतिका ९ बार भारत केसरी रह चुकी हैं।[2]

सन्दर्भ[संपादित करें]