खेल इंडिया ट्रस्ट

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
उ प्र, उत्तराखंड भारत
खेल इंडिया ट्रस्ट
बडौत एवं हरिद्वार
Logo Khel India Trust
शूटिंग, वुशु, तीरंदाजी

खेल इंडिया ट्रस्ट बडौत में शुरू किया गया एक ऐसा ट्रस्ट हैं जो भिन्न भिन्न प्रकार के खेलो से जुड़े खिलाडियों को प्रोत्साहित करने हेतु एवं नौजवान पीढ़ी को खेल सभ्यता से जोड़ने हेतु बनाया गया हैं।

जुलाई 2016 से इस ट्रस्ट की शुरुआत, ट्रस्ट के अध्यक्ष भगत सिंह तोमर ने की। भगत सिंह तोमर स्वयं राष्ट्रिय स्तर के रायफल शूटिंग खेल के खिलाडी रह चुके हैं। खेल इंडिया ट्रस्ट निशानेबाजी, तीरंदाजी, वुशु और कबड्डी जैसे खेलो में खिलाडियों को प्रोत्साहित कर रहा हैं। पिछले साल, सितम्बर माह में खेल इंडिया ट्रस्ट की प्रबंधन समिति ने चार होनहार निशानेबाजों को गोद लेकर उनकी प्रतिभा को तराशने का निर्णय लिया। सितम्बर 2016 में बड़ौत राइफल क्लब पर आयोजित कार्यक्रम में दर्जनों आवेदनों में से चार निशानेबाजों का चयन किया गया।[1]

खेल इंडिया ट्रस्ट कार्यकारणी[संपादित करें]

ट्रस्ट के मुख्य संरक्षक अमित राय जैन, अध्यक्ष भगत सिंह, सचिव दीपक तोमर हैं।[2] ट्रस्ट ने समूचे देश भर में अपने कार्य की रफ़्तार बढाने हेतु, भिन्न भिन्न राज्यों से भी प्रसिद्द खिलाडियों को अपने साथ जोड़ा हैं और इसमें मीरंग जमीर एक प्रसिद्द नाम हैं। मीरंग जमीर को रायफल शूटिंग खेल के लिए स्पोर्ट्स डायरेक्टर (इंडिया लेवल) बनाया गया हैं।[3]

खेल इंडिया ट्रस्ट - बढ़ते कदम[संपादित करें]

ट्रस्ट के अध्यक्ष भगत सिंह तोमर के पास 17 वर्षो का रायफल शूटिंग ट्रेनिंग देने का एक विशाल अनुभव हैं। अतः खेल इंडिया ट्रस्ट, रायफल शूटिंग खेल में अच्छे परिणाम दे रही हैं। परन्तु, इसके आगे जाकर ट्रस्ट की वुशु खेल अकादमी भी बेहतर परिणाम देने लगी हैं। वुशु खेल के कोच, राज विपिन जोशिया के अथक प्रयास से टीम ने जिला स्तरीय प्रतियोगिता में पदक जीते।[4]

उत्तराखंड में खेल इंडिया ट्रस्ट[संपादित करें]

उत्तर प्रदेश में खेल इंडिया ट्रस्ट का मुख्य कार्यालय बडौत जिला बागपत में हैं। अब, ये ट्रस्ट उत्तराखंड में भी नौजवान खिलाडियों के प्रोत्साहन हेतु हरिद्वार में एक अकादमी खोल चुका हैं। खेल इंडिया ट्रस्ट ने शिवालिकनगर के एक कांप्लेक्स में खेल इंडिया शूटिंग ट्रेनिंग एकेडमी का शुभारंभ किया। एकेडमी शूटिंग प्रशिक्षण शिविर भी आयोजित कर रही है। शिविर में बच्चों और युवाओं को शूटिंग का प्रशिक्षण प्रदान किया जाएगा। ट्रस्ट का उद्देश्य बच्चों और युवाओं को निशानेबाजी का प्रशिक्षण प्रदान कर राष्ट्रीय और अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर उनकी प्रतिभा को निखारना है। यहाँ पर प्रदेश अध्यक्ष के रूप में मदन लाल को नियुक्त किया गया हैं। [5]

उत्तराखंड स्टेट शूटिंग चैंपियनशिप मेें 56 पदक[संपादित करें]

खेल इंडिया शूटिंग ट्रेनिंग एकेडमी बडौत परिसर में 27 अगस्त, रविवार को आयोजित सम्मान समारोह में देहरादून मेें हुई 16 वी उत्तराखंड स्टेट शूटिंग चैंपियनशिप मेें पदक झटकने वाले विजेता शूटरों को सम्मानित किया गया। इस आयोजित सम्मान समारोह का शुभारंभ ट्रस्ट के मुख्य संरक्षक अमित राय जैन और ट्रस्ट के संस्थापक भगत सिंह ने संयुक्त रूप से दीप जलाकर किया। संस्थापक भगत सिंह ने बताया 17 से 24 अगस्त तक देहरादून में उत्तराखंड स्टेट शूटिंग चैंपियनशिप चली। इसमें खेल इंडिया शूटिंग ट्रेनिंग एकेडमी बडौत एवं हरिद्वार के शूटरों ने अच्छा प्रदर्शन कर 21 स्वर्ण पदक सहित कुल 56 पदक जीते। इनमेें अक्षित तोमर, विवेक तोमर, अभय तोमर, आयूस तोमर, दिग्विजय, उज्ज्वल सिंह, अनुज, अर्जुन, सूरज मान, शुभम, कुणाल, गुड्डन तोमर, विशुराज, पंकज राणा, सौरभ, राहुल तोमर, अंकुर, युवराज, कनिष्क, राजन, भगत सिंह, नवीन तोमर, दीपक, पुष्पेंद्र, मदनलाल, सूरज शामिल रहे। इन सभी विजेताओं ने सितंबर माह में मुंबई में होने वाली आल इंडिया शूटिंग चैंपियनशिप के लिए क्वालीफाई किया है। विजेता शूटरों को ट्राफी और प्रमाण पत्र देकर सम्मानित किया।[6]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "खेल इंडिया ट्रस्ट ने गोद लिए प्रतिभाशाली निशानेबाज". दैनिक जागरण. दैनिक जागरण. 26 सितम्बर 2016. अभिगमन तिथि 31 जुलाई 2017.
  2. "बड़ौत राइफल क्लब पर आयोजित कार्यक्रम". रफ़्तार न्यूज़. रफ़्तार न्यूज़. 2016.
  3. "Merang Jamir appointed Khel India Trust Sports Director" (अंग्रेज़ी में). eastern mirror. eastern mirror. 2017. अभिगमन तिथि 29 april 2017. |accessdate= में तिथि प्राचल का मान जाँचें (मदद)
  4. "खेकड़ा में संपन्न हुई वुशू चैंपियनशिप में बड़ौत के खिलाडिय़ों का जलवा". amar ujala. amar ujala. 2017. अभिगमन तिथि 23 जुलाई 2017.
  5. "पदक जीतकर देश का नाम रोशन करें प्रशिक्षु". हिंदुस्तान मीडिया. हिंदुस्तान मीडिया. 2017. अभिगमन तिथि 22 जून 2017.
  6. "विजेता शूटरों को सम्मानित किया". अमर उजाला. २०१७. अभिगमन तिथि 28 अगस्त 2017.