कैलिपर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
वर्नियर कैलिपर
आन्तरिक दूरी मापन में प्रयुक्त साधारण कैलिपर

कैलिपर (caliper) दूरी मापन की युक्ति है। इसका उपयोग धातुकारी (मेटलवर्किंग), यांत्रिक प्रौद्योगिकी, फिटिंग, गनस्मिथिंग आदि में होता है।

कैलिपर अनेक रूप एवं आकार में मिलते हैं। अपने सरलतम रूप में यह परकार की शक्ल का होता है जिसकी दोनो टांगे अन्दर की तरफ या बाहर की तरफ मुड़ी हों। आजकल अधिक जटिल एवं शुद्ध मापन के लिये वर्नियर कैलिपर और डिजिटल वर्नियर कैलिपर प्रयोग किये जाते हैं।

दो बिन्दुओं के बीच की दूरी मापने के लिये कैलिपर की टांगों को इतना फैलाते हैं कि उसके पैर के अन्तिम बिन्दु इन दो बिन्दुओं पर आ बैठें। इसके बाद कैलिपर को वहाँ से हटाकर किसी पटरी (रूलर) या अन्य दूरीपापक यंत्र से इसके पैर के सिरों के बीच की दूरी माप ली जाती है।

प्रकार[संपादित करें]

  • अन्तःमापी कैलिपर (inside caliper)
  • वहिर्मापी कैलिपर (outside caliper)
  • विभाजक कैलिपर (divider caliper)
  • विषमपाद कैलिपर (oddleg caliper)
  • वर्नियर कैलिपर (Vernier caliper)
  • डायल कैलिपर (Dial caliper)
  • आंकिक कैलिपर (Digital caliper)
  • माइक्रोमीटर कैलिपर (Micrometer caliper)

वर्नियर कैलिपर[संपादित करें]

वर्नियर कैलिपर के विभिन्न भाग :
  1. बाहरी जबड़े: किसी वस्तु का बाहरी व्यास या मोटाई मापने के लिये
  2. भीतरी जबड़े: किसी वस्तु का आन्तरिक व्यास मापने के लिये
  3. गहराई मापी: किसी वस्तु या छिद्र की गहराई नापने के लिये
  4. मुख्य पैमाना: इस पर मिमी (mm) में निशान बने होते हैं।
  5. मुख्य पैमाना: इस पर इंच एवं उसके छोटे भाग में निशान बने होते हैं।
  6. वर्नियर पैमाना : यह मुख्य पैमाने के 1/10 mm या बेहतर शुद्धता से वह दूरी बताता है जो मुख्य पैमाने पर दो चिह्नों के बीच होने से सीधे ठीक-ठीक पढ़ी नही जा पाती।
  7. वर्नियर पैमाना : उपरोक्त को इंच मे पढ़ता है।
  8. रीटेनर (Retainer): इसे कस देने पर गतियोग्य भागों की गति रोक देता है। मापने के बाद हिलने-डुलने पर भी माप नहीं बदल पाती।

वर्नियर कैलिपर, डायल कैलिपर एवं आंकिक कैलिपर दूरी का अधिक शुद्धता से सीधा मापन प्रदान करते हैं। कार्यसिद्धान्त की दृष्टि से वे एक ही हैं; केवल इनका पाठ अलग-अलग विधि से लिया जाता है।

इनमें एक मुख्य पैमाना होता है जो अचल होता है। दूसरा पैमाना, जिस पर एक संकेतक (प्वाइंटर) होता है, इसके उपर घिसककर चलता है। इससे पढ़ने की सबसे सरल रीति है कि संकेतक की स्थिति को बिना वर्नियर पर ध्यान दिये सीधे पढ़ लिया जाय। किन्तु इसमें परिशुद्धता कम होती है क्योंकि सबसे छोटे दो खानों के बीच संकेतक की स्थिति को अन्दाज से समझ लिया जाता है। (जैसे 0.4 या 0.2 आदि)

वर्नियर का कार्य-सिद्धान्त[संपादित करें]

वर्नियर द्वारा मापन की विधि
वर्नियर पैमाने का पाठ पढ़ने की विधि

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]