कुंदनिका कपाड़िया

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
कुंदनिका कपाड़िया
Kundanika Kapadia (July 2018).jpg
नंदीग्राम आश्रम में कपाड़िया, जुलाई 2018
जन्म11 जनवरी 1927 (1927-01-11) (आयु 93)
लीम्बडी, गुजरात, भारत
मृत्यु2020
व्यवसायउपन्यासकार, कहानीकार और निबंधकार
भाषागुजराती
उल्लेखनीय सम्मानसाहित्य अकादमी पुरस्कार गुजराती (1985)
जीवनसाथीमकरंद दवे (वि॰ 1968; नि॰ 2005)

कुंदनिका कापडीआ गुजराती भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास सात पगलां आकाशमां के लिये उन्हें सन् 1985 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।[1] कुंदनिका कपाड़िया (जन्म 11 जनवरी 1927), भारत के एक गुजराती उपन्यासकार, कहानीकार और निबंधकार हैं।

जिंदगी[संपादित करें]

कुंदनिका कपाड़िया का जन्म 11 जनवरी 1927 को लिम्बर्दी (अब सुरेन्द्रनगर जिले, गुजरात) में नरोत्तमदास कपाड़िया के घर हुआ था। उन्होंने अपनी प्राथमिक और माध्यमिक शिक्षा गोधरा से पूरी की। उन्होंने 1942 में भारत छोड़ो आंदोलन में भाग लिया। 1948 में, उन्होंने बॉम्बे विश्वविद्यालय से संबंधित भावनगर के सामलदास कॉलेज से इतिहास और राजनीति में बीए पूरा किया। वह मुंबई स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स से संपूर्ण राजनीति में एमए के लिए भर्ती हुई लेकिन परीक्षाओं में उपस्थित नहीं हो सकी। उन्होंने 1968 में मुंबई में गुजराती कवि मकरंद दवे से शादी की। उसने 1985 में वलसाड के पास वंकल गाँव के पास एक आश्रम नदीग्राम की सह-स्थापना की। वह अपने नदीग्राम के लोगो द्वारा ईशामा के रूप में जानी जाती है। उन्होंनेयत्रिक (1955-1957) और नवनीत (1962-1980) का संपादन किया। [2] [3] [4] [5] [6] [7] [8]

कार्य[संपादित करें]

स्नेहधन उनका पेन नाम है। परोध थाटा पहेला (1968) उनका पहला उपन्यास है जिसके बाद उन्होंने अग्निपीपासा लिखा (1972) में। उन्होंने सत पगला आकाशम् (सेवन स्टेप्स इन द स्काई, 1984) में लिखा, जिसने उनकी आलोचकों की प्रशंसा प्राप्त की और उन्हें अपना सर्वश्रेष्ठ उपन्यास माना, जिसने नारीवाद की खोज की। [2] [3] [4] [7] [9] [10] [11]

उनकी पहली कहानी प्रेमना अनसू है जिसने जन्मभूमि अखबार द्वारा आयोजित अंतर्राष्ट्रीय कहानी प्रतियोगिता में उन्होंने अपना दूसरा पुरस्कार जीता। उसके बाद उन्होंने और कहानियाँ लिखना शुरू कर दिया। प्रेमना अनसू (1954) को उनके कहानी संग्रह के रूप में प्रकाशित किया गया है। उनके अन्य कहानी संग्रह वधु न वधु सुंदर (1968), कागल्नी होदी (1978), जावा दैशु तामने (1983) और मानुष्या थ्वु (1990) हैं। उनकी कहानियां दर्शन, संगीत और प्रकृति का खोज करती हैं। उनकी चुनिंदा कहानियों को कुंदनिका कपाड़िया नी श्रेष्ठ वर्तो (1987) के रूप में प्रकाशित किया गया है। वह धूमकेतु, शरत चंद्र चट्टोपाध्याय, रवींद्रनाथ टैगोर, शेक्सपियर से प्रभावित हैं। [2] [3] [4] [7]

द्वार आने दीवाल (1987) और चन्द्र तारा वृक्षा वादल (1988) उनके निबंध संग्रह हैं। अक्रांद आने आक्रोश (1993) उनकी जीवनी संबंधी कृति है। उन्होंने परम समीप (1982), जरुखे दिवा (2001) और गुलाल ऐं गुंज़र का संपादन कियापरम समीप उनकी लोकप्रिय प्रार्थना संग्रह है। [2] [3] [4] [7]

उन्होंने लौरा इंगल्स वाइल्डर के काम का वसंत अवशे (1962) के रूप में अनुवाद किया। उन्होंने मैरी एलेन चेज़ की ए गुड़ली फेलोशिप का दिलबर मैत्री (1963) और बंगाली लेखक रानी चंद के यात्रा-वृतांत को पूर्णकुंभ (1977) के रूप में अनुवादित किया । उनके अनुवाद की अन्य रचनाएँ हैं पुरुषार्थन पगले (1961), फ्लोरेंस स्कोवेल शिन की द गेम ऑफ़ लाइफ एंड हाउ टू प्ले इट इसे जीवन एक खेल (1981) के रूप में , एलेन केडी के ओपनिंग द डोर विदिन को उघाड़ता द्वार अनंता और स्वामी राम के लिविंग विद द हिमालयन मास्टर, हिमालयन सिद्ध योगी (1984) के रूप में अनुवाद किया । [2] [3] [5] [7]

पुरस्कार[संपादित करें]

उन्हें गुजराती साहित्य परिषद और गुजराती साहित्य अकादमी से कई पुरस्कार मिले हैं। चंद्र तारा वृक्ष वादल ने उन्हें गुजरात साहित्य अकादमी पुरस्कार जीता। उन्हें सत पगला आकाशमा के लिए 1985 में गुजराती के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। [2] [3] [7] [12] 1984 में उन्हें धनजी कांजी गांधी सुवर्ण चंद्रक प्राप्त हुआ। [5]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "अकादमी पुरस्कार". साहित्य अकादमी. मूल से 15 सितंबर 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 11 सितंबर 2016.
  2. Brahmabhatt, Prasad (2010). અર્વાચીન ગુજરાતી સાહિત્યનો ઈતિહાસ - આધુનિક અને અનુઆધુનિક યુગ (History of Modern Gujarati Literature – Modern and Postmodern Era) (गुजराती में). Ahmedabad: Parshwa Publication. पपृ॰ 252–255. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-93-5108-247-7.
  3. "કુન્દનિકા કાપડિયા (Kundanika Kapadia)". Gujarati Sahitya Parishad (गुजराती में). मूल से 17 सितंबर 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2016-12-28. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> अमान्य टैग है; "GSP" नाम कई बार विभिन्न सामग्रियों में परिभाषित हो चुका है सन्दर्भ त्रुटि: <ref> अमान्य टैग है; "GSP" नाम कई बार विभिन्न सामग्रियों में परिभाषित हो चुका है सन्दर्भ त्रुटि: <ref> अमान्य टैग है; "GSP" नाम कई बार विभिन्न सामग्रियों में परिभाषित हो चुका है सन्दर्भ त्रुटि: <ref> अमान्य टैग है; "GSP" नाम कई बार विभिन्न सामग्रियों में परिभाषित हो चुका है सन्दर्भ त्रुटि: <ref> अमान्य टैग है; "GSP" नाम कई बार विभिन्न सामग्रियों में परिभाषित हो चुका है
  4. Susie J. Tharu; Ke Lalita (1993). Women Writing in India: The twentieth century. Feminist Press at CUNY. पपृ॰ 254–256. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1-55861-029-3. मूल से 27 जून 2014 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 19 मार्च 2020.
  5. "Nandigram : A center for Service and Sadhana". Nandigram. मूल से 24 सितंबर 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2016-12-28.
  6. Neelam Kumar (1 January 2002). Our Favourite Indian Stories. Jaico Publishing House. पृ॰ 16. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-81-7224-978-6.
  7. Kartik Chandra Dutt (1999). Who's who of Indian Writers, 1999: A-M. Sahitya Akademi. पृ॰ 567. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-81-260-0873-5. मूल से 5 मई 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 19 मार्च 2020.
  8. Jane Eldridge Miller (2002). Who's who in Contemporary Women's Writing. Psychology Press. पपृ॰ 165–166. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-415-15981-4.
  9. Amar Nath Prasad (2004). New Lights on Indian Women Novelists in English. Sarup & Sons. पृ॰ 257. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-81-7625-477-9.
  10. Mohan Lal (1992). Encyclopaedia of Indian Literature: Sasay to Zorgot. Sahitya Akademi. पृ॰ 3830. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-81-260-1221-3. मूल से 12 फ़रवरी 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 19 मार्च 2020.
  11. K. V. Surendran; A.R. Shukla (1 January 1999). "Kundanika Kapadia's Seven Steps in the Sky:A Voice in Argument". Indian Women Writers: Critical Perspectives. Sarup & Sons. पपृ॰ 171–175. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-81-7625-072-6.
  12. "Sahitya Akademi Awards". Sahitya Akademi (अंग्रेज़ी में). मूल से 4 March 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 28 December 2016.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]