किंगफिशर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

Kingfisher
Sacred kingfisher nov08.jpg
Sacred Kingfisher
वैज्ञानिक वर्गीकरण
Kingdom: Animalia
संघ: Chordata
वर्ग: Aves
गण: Coraciiformes
उपगण: Alcedines
Families

Alcedinidae
Halcyonidae
Cerylidae

किंगफिशर कोरासीफोर्म्स वर्ग के छोटे से मध्यम आकार के चमकीले रंग के पंक्षियों का एक समूह है। इनका एक सर्वव्यापी वितरण है जिनमें से ज्यादातर प्रजातियाँ ओल्ड वर्ल्ड और ऑस्ट्रेलिया में पायी जाती हैं। इस समूह को या तो एक एकल परिवार एल्सिडिनिडी के रूप में या फिर उपवर्ग एल्सिडाइन्स में माना जाता है जिनमें तीन परिवार शामिल हैं, एल्सिडिनिडी (नदीय किंगफिशर), हैल्सियोनिडी (वृक्षीय किंगफिशर) और सेरीलिडी जलीय किंगफिशर). किंगफिशर की लगभग 90 प्रजातियां हैं। सभी के बड़े सिर, लंबे, तेज, नुकीले चोंच, छोटे पैर और ठूंठदार पूंछ हैं। अधिकांश प्रजातियों के पास चमकीले पंख हैं जिनमें अलग-अलग लिंगों के बीच थोड़ा अंतर है। अधिकांश प्रजातियां वितरण के लिहाज से उष्णकटिबंधीय हैं और एक मामूली बड़ी संख्या में केवल जंगलों में पायी जाती हैं। ये एक व्यापक रेंज के शिकार और मछली खाते हैं, जिन्हें आम तौर पर एक ऊंचे स्थान से झपट्टा मारकर पकड़ा जाता है। अपने वर्ग के अन्य सदस्यों की तरह ये खाली जगहों में घोंसला बनाते हैं, जो आम तौर पर जमीन पर प्राकृतिक या कृत्रिम तरीके से बने किनारों में खोदे गए सुरंगों में होते हैं। कुछ प्रजातियों, मुख्यतः द्वीपीय स्वरूपों के विलुप्त होने का खतरा बताया जाता है।

वर्गीकरण और विकास[संपादित करें]

तीन परिवारों का वर्गीकरण जटिल है और कहीं अधिक विवादास्पद है। हालांकि आम तौर पर इन्हें कोरासीफोर्म्स वर्ग में रखा जाता है, लेकिन इस स्तर से नीचे भ्रम पैदा होने लगता है।

पारंपरिक रूप से किंगफिशर को तीन उप-परिवारों के साथ एक परिवार, एल्सिडिनिडी माना जाता था, लेकिन पक्षी वर्गीकरण में 1990 के दशक की क्रांति के बाद, पहले तीन उप-परिवारों को अब परिवार के स्तर से कहीं ऊंचा कर दिया गया है। यह परिवर्तन गुणसूत्र और डीएनए संकरण के अध्ययन द्वारा समर्थित था, लेकिन इस आधार पर इसे चुनौती दी गयी कि सभी तीन समूह अन्य कोरासीफोर्म्स के संदर्भ में मोनोफाइलेटिक हैं। यही उन्हें उपवर्ग एल्सिडाइन्स के रूप में वर्गीकृत करने का कारण है।

वृक्षीय किंगफिशर को पहले डेसिलोनिडी का पारिवारिक नाम दिया गया था लेकिन फिर हेल्सियोनिडी को प्राथमिकता दी गयी।

किंगफिशर की विविधता का केंद्र है ऑस्ट्रेलेसियन क्षेत्र, लेकिन ऐसा माना जाता है कि इस परिवार की उत्पत्ति यहाँ नहीं हुई, इसके बजाय ये उत्तरी गोलार्द्ध में विकसित हुए और कई बार ऑस्ट्रेलेसियन क्षेत्र पर आक्रमण किया।[1] जीवाश्म किंगफिशर का उल्लेख 30-40 मिलियन वर्षों पहले, जर्मनी में व्योमिंग और मध्य इयोसीन चट्टानों में निम्न इयोसीन चट्टानों से किया गया मिलता है। और अधिक हाल ही के जीवाश्म किंगफिशर का उल्लेख ऑस्ट्रेलिया के मिओसिन चट्टानों में (5-25 मिलियन वर्षों पहले) किया गया मिलता है। कई जीवाश्म पक्षियों का संबंध ग़लती से किंगफिशर से जोड़ दिया गया है, जिनमें केंट में लोअर इयोसीन चट्टानों के हैल्सियोमिस शामिल हैं जिन्हें एक गल भी समझा जाता है, लेकिन अब इन्हें एक विलुप्त परिवार का एक सदस्य माना जाता है। उनमें किंगफिशर की 85,000 प्रजातियाँ हैं। [2] साँचा:Cladogram

तीनों परिवारों में एल्सिडिनिडी अन्य दो परिवारों पर आधारित हैं। अमेरिका में पायी जाने वाली कुछ प्रजातियाँ, जो सभी सेरीलिडी परिवार से हैं, यह बताती हैं कि पश्चिमी गोलार्द्ध में इनकी छिटपुट मौजूदगी केवल दो मूल नयी बस्तियाँ बनाने वाली प्रजातियों के परिणाम स्वरुप है। यह परिवार प्राचीन युग में सबसे अधिक हाल ही में मिओसिन या प्लिओसीन में विविधतापूर्ण तरीके से अपेक्षाकृत हैल्सियोनिडी से विभाजित हुआ है।[1]

वितरण और आवास[संपादित करें]

फिजी में एक कॉलर युक्त किंगफिशर.इस प्रजाति का विस्तार दक्षिण प्रशांत क्षेत्र में अफ्रीका से टोंगा तक है।

किंगफिशर का एक सर्वदेशीय वितरण है जो संसार के समस्त उष्णकटिबंधीय और शीतोष्ण क्षेत्रों में मौजूद है। ये ध्रुवीय क्षेत्रों और विश्व के कुछ अत्यंत शुष्क रेगिस्तानों में नहीं पाए जाते हैं। कई प्रजातियाँ, विशेष रूप से दक्षिण और पूर्व प्रशांत महासागर में पायी जाने वाली प्रजातियाँ द्वीप समूहों में पहुँच गयी हैं। प्राचीन युग के उष्णकटिबंधीय और आस्ट्रेलेशिया इस समूह के लिए महत्त्वपूर्ण क्षेत्र हैं। यूरोप और उत्तरी अमेरिका मेक्सिको के उत्तरी भागों में इनकी संख्या बहुत ही कम है जहाँ सिर्फ एक आम किंगफिशर (आम किंगफिशर और पट्टीदार किंगफिशर क्रमशः) और कुछ असामान्य या प्रत्येक बहुत ही स्थानीय प्रजातियाँ रहती हैं: (दक्षिण पश्चिम अमेरिका में चक्रदार किंगफिशर और हरे किंगफिशर, दक्षिण-पूर्व यूरोप में धब्बेदार किंगफिशर और सफ़ेद-गले वाले किंगफिशर). अमेरिका के आसपास पायी जाने वाली छः प्रजातियों में से चार क्लोरोसेराइल जीनस में करीबी संबंध वाले हरे किंगफिशर और दो मेगासेराइल जीनस में बड़े कलगीदार किंगफिशर हैं। यहाँ तक कि उष्णकटिबंधीय दक्षिण अमेरिका में केवल पाँच प्रजातियों के साथ-साथ शीतकालीन पट्टीदार किंगफिशर पाए जाते हैं। इसकी तुलना में, छोटे से अफ्रीकी देश जाम्बिया में इसके 120 x 20 मीटर (192 x 32 किलोमीटर) क्षेत्र में आठ निवासी प्रजातियाँ मौजूद हैं।[2]

व्यक्तिगत प्रजातियों में आम किंगफिशर की तरह व्यापक विस्तार हो सकता है, जो आयरलैंड से समूचे यूरोप, उत्तरी अफ्रीका और एशिया से ऑस्ट्रेलेशिया में सुदूर सोलोमन द्वीपों तक, या धब्बेदार किंगफिशर जिसका समूचे अफ्रीका और एशिया में व्यापक फैलाव है। अन्य प्रजातियों का बहुत संकीर्ण विस्तार है, विशेष रूप से द्वीपीय प्रजातियाँ जो एक एकल छोटे द्वीप में स्थानिक तौर पर रहते हैं। कोफियाऊ पैराडाइज किंगफिशर न्यू गीनिया के पास एक छोटे से द्वीप कोफियाऊ तक ही सीमित हैं।[2]

किंगफिशर एक विस्तृत रेंज के आवासों में रहते हैं। हालांकि वे अक्सर नदियों और झीलों के साथ जुड़े रहे हैं, दुनिया की आधी से ज्यादा प्रजातियाँ जंगलों और जंगली जल-धाराओं में पायी जाती हैं। ये एक विस्तृत रेंज के अन्य आवासों में भी रहते हैं। ऑस्ट्रेलिया के लाल-पीठ वाले किंगफिशर अत्यंत शुष्क रेगिस्तानों में रहते हैं, हालांकि किंगफिशर सहारा जैसे अन्य शुष्क रेगिस्तान में नहीं पाए जाते हैं। अन्य प्रजातियाँ पहाड़ों में ऊंचे स्थानों पर रहती हैं और कई प्रजातियाँ उष्णकटिबंधीय कोरल प्रवाल द्वीपों में रहती हैं। कई प्रजातियों ने अपने आप को मानव द्वारा रूपांतरित आवासों में रहने के लिए अनुकूलित कर लिया है, विशेष रूप से जो वुडलैंड्स के लिए अनुकूलित हैं और कई प्रजातियों को खेती या कृषि क्षेत्रों के साथ-साथ शहरों और कस्बों के पार्कों एवं बागीचों में पाया जा सकता है।[2]

आकृति विज्ञानं[संपादित करें]

न्यू गीनिया के पैराडाइज किंगफिशर के समूह के पास एक असामान्य रूप से लंबी पूंछ होती है।

किंगफिशर की सबसे छोटी प्रजाति अफ्रीकी बौना किंगफिशर (इस्पिडिना लेकोंटी) है, जिसका औसतन वजन 10.4 ग्राम और आकार 10 सेमी (4 इंच) है। कुल मिलाकर सबसे लंबा जायंट किंगफिशर (मेगासेराइल मैक्सिमा) है जिसका औसत वजन 355 ग्राम (13.5 औंस) और आकार 45 सेंटीमीटर (18 इंच है। हालांकि परिचित ऑस्ट्रेलियाई किंगफिशर जिसे लाफिंग कूकाबुरा (डैसेलो नोविगिनी) के रूप में जाना जाता है जो संभवतः सबसे भारी प्रजाति है, क्योंकि 450 ग्राम (1 एलबी) से बड़े व्यक्तिगत किंगफिशर दुर्लभ नहीं हैं।

ज्यादातर किंगफिशर के पंख चमकीले होते हैं जिनमें हरा और नीला सबसे आम रंग होता है। रंगों की चमक न तो चमकीलेपन (अमेरिकी किंगफ़िशरों को छोड़कर) या धब्बों के कारण होता है बल्कि इसकी बजाय यह पंखों की बनावट के कारण होता है, जिसकी वजह से नीली रोशनी (टिंडाल इफेक्ट) छिटकती रहती है।[3] ज्यादातर प्रजातियों में अलग-अलग लिंगों के बीच कोई अंतर नहीं होता है, अगर कोई अंतर होता भी है तो वह बहुत कम (10% से कम) होता है।[2]

किंगफिशर के पास एक लम्बी, चाकू-जैसी चोंच होती है। चोंच आम तौर पर लम्बी होती है और मछलियों का शिकार करने वाली प्रजातियों में कहीं अधिक संकुचित होती हैं और जो प्रजातियाँ जमीन से शिकार करती हैं उनकी चोंच अपेक्षाकृत छोटी और अधिक चौड़ी होती हैं। सबसे बड़ी और सबसे असामान्य चोंच फावड़े जैसी चोंच वाली कूकाकुरा की होती है, जिसका उपयोग शिकार की खोज में जंगली जमीन में खोदने के लिए किया जाता है। आम तौर पर इनके पैर छोटे होते हैं, हालांकि जमीन पर पलने वाली प्रजातियों के पास लंबे टारसी होते हैं। अधिकांश प्रजातियों के पास चार पैर की उंगलियाँ होती हैं, जिनमें से तीन आगे की और नुकीली होती हैं।

अधिकांश प्रजातियों की आँखों की पुतलियाँ गहरे भूरे रंग की होती हैं। किंगफिशर की दृष्टि उत्कृष्ट होती है; ये द्विनेत्री दृष्टि में सक्षम होते हैं और यह माना जाता है कि इनके पास विशेष रूप से एक अच्छी रंग दृष्टि होती है। इनकी आँखों की हरकतें नेत्र कोटरों के अंदर सीमित रहती हैं, इसकी बजाय शिकार को खोजने के क्रम में ये अपने सिर को इधर-उधर घुमाते रहते हैं। इसके अलावा ये पानी के नीचे शिकार करते समय पानी के अपवर्तन और प्रतिबिंब के लिए क्षतिपूर्ति करने में सक्षम हैं और पानी के अंदर गहराई का सही तरीके से अंदाजा लगाने में सक्षम हैं। इनके पास पलकें झपकाने वाली झिल्लियाँ भी होती हैं जो पानी में दुबकी लगाते समय आँखों की सुरक्षा के लिए इन्हें ढँक कर रखती हैं; धब्बेदार किंगफिशर में एक हड्डी जैसी प्लेट होती है जो पंक्षियों के पानी में डुबकी लगाते समय पूरी आँख में इधर से उधर फिसलती रहती है।

आचरण[संपादित करें]

आहार और भोजन[संपादित करें]

हालांकि किंगफिशर अक्सर मछली के साथ जुड़े रहे हैं, अधिकांश प्रजातियाँ अन्य शिकार भी खाती हैं। यहाँ सायपन में एक कॉलर युक्त किंगफिशर ने एक छिपकली को पकड़ा है।

किंगफिशर विविध प्रकार की चीजों को खाते हैं। ये मछली का शिकार करने और खाने के लिए सबसे अधिक प्रसिद्ध हैं और कुछ प्रजातियाँ पछली पकड़ने में विशेषज्ञ हैं लेकिन अन्य प्रजातियाँ क्रस्टेशियनों, मेंढकों और अन्य उभयचरों, एनिलिड कृमियों, घोंघों, कीटों, मकड़ियों, सेंटीपीड्स, सरीसृपों (सांप सहित) और यहाँ तक कि पंक्षियों और स्तनधारियों को भी खा लेती हैं। व्यक्तिगत प्रजातियाँ कुछ चीजों में विशेषज्ञ हो सकती हैं या विविध प्रकार के शिकार ग्रहण कर सकती हैं और व्यापक वैश्विक वितरण वाली प्रजातियों के लिए अलग-अलग तरह की आबादी के अलग-अलग आहार हो सकते हैं। वुडलैंड और जंगली किंगफिशर मुख्यतः कीटों, विशेष तौर पर टिड्डों को ग्रहण करते हैं, जबकि जलीय किंगफिशर मछली ग्रहण करने में कही अधिक विशेषज्ञ होते हैं। लाल-पीठ वाले किंगफिशर को अपने बच्चों को खिलाने के लिए फेयरी मार्टिंस के मिट्टी के घोंसलों में प्रहार करते हुए देखा गया है।[4] किंगफिशर आम तौर पर एक ऊँचे स्थान से शिकार करते हैं, जब कोई शिकार दिखाई पड़ता है किंगफिशर इसे छीनने के लिए नीचे की ओर झपट्टा मारता है और इसके बाद वापस ऊँचे स्थान पर लौट जाता है। सभी तीन परिवारों के किंगफिशर एक बड़े शिकार को मारने के क्रम में और सुरक्षात्मक काँटों और हड्डियों को विखंडित करने या तोड़ने के लिए एक ऊँचे स्थान पर बैठकर इस पर चोट करते हैं। शिकार पर चोट करने के बाद इसे हेर-फेर किया जाता है और इसके बाद इसे निगल लिया जाता है।[2]

प्रजनन[संपादित करें]

किंगफिशर क्षेत्रीय होते हैं, जहाँ कुछ प्रजातियों में इन क्षेत्रों की सख्ती से सुरक्षा की जाती है। ये आम तौर पर एक पत्नीक होते हैं, हालांकि कुछ प्रजातियों में सहकारी प्रजनन भी देखा गया है। कुछ प्रजातियों में सहकारी प्रजनन काफी आम है,[2] उदाहरण के लिए लाफिंग कूकाबुरा जहाँ बच्चे को बड़ा करने में सहायक मुख्य प्रजनन वाली जोड़ी की मदद करते हैं।[5]

जंगलों में रहने वाले कई किंगफ़िशरों की तरह पीली-चोंच वाले किंगफिशर अक्सर पेड़ों पर बने दीमकों के घोंसलों में अपना घोंसला बनाते हैं।

सभी कोरासीफोर्म्स की तरह किंगफिशर खाली जगहों में घोंसला बनाते हैं जिनमें ज्यादातर प्रजातियाँ जमीन में खोदे गए बिलों में घोंसला बनाती हैं। इस तरह के बिल आम तौर पर नदियों, झीलों या मानव निर्मित खाइयों के जमीनी किनारों और तटों में होते हैं। कुछ प्रजातियाँ पेड़ों के छिद्रों में, जड़ से उखड़े हुए पेड़ों की जड़ों में लगी हुई मिट्टी में, या वृक्षों पर बने दीमकों के घोंसलों (टर्मिटेरियम) में घोंसला बना सकती हैं। ये दीमकों वाले घोंसले जंगली प्रजातियों में आम हैं। घोंसले किसी सुरंग के अंत में एक छोटे से कक्ष का रूप ले लेते हैं। घोंसला खोदने की जिम्मेदारियां आपस में बाँट ली जाती हैं, प्रारंभिक खुदाई के दौरान पक्षी काफी ताकत के साथ एक चुने हुए स्थान पर उड़ सकते हैं और ऐसा करने में पंक्षियों ने एक दूसरे को बुरी तरह घायल भी कर दिया है। सुरंगों की लंबाई में प्रजातियों और स्थान के अनुसार अंतर होता है, टर्मिटेरियम में घोंसले जमीन पर खोदे गए घोंसलों की तुलना में अनिवार्य रूप से अधिक छोटे होते हैं और कठोर आधार में बने घोंसले नरम मिट्टी या बालू पर बने घोंसलों के मुकाबले छोटे होते हैं। दर्ज किये गए सबसे लंबे सुरंग विशालकाय किंगफिशर के हैं, जिन्हें 8.5 मीटर लंबा पाया गया है।[2]

किंगफिशर के अंडे सदैव सफेद और चमकदार होते हैं। विशेष पंजे का आकार अलग-अलग प्रजातियों में अलग-अलग होता है; कुछ सबसे बड़ी और सबसे छोटी प्रजातियाँ कम से कम प्रति क्लच दो अंडे देती हैं, जबकि अन्य 10 अंडे दे सकती हैं, औसत 3 से 6 अण्डों के आस-पास है। दोनों लिंग अंडों को सेते हैं।[2]

मनुष्यों के साथ संबंध[संपादित करें]

ओरिएंटल बौने किंगफिशर को बोर्नियो की दुसुन जनजाति के योद्धाओं द्वारा एक अपशकुन माना जाता है।

किंगफिशर आम तौर पर शर्मीले पक्षी हैं, लेकिन इसके बावजूद ये मानव संस्कृति में व्यापक रूप से दिखाई देते हैं, जो सामान्यतः इनके चमकीले पंखों या कुछ प्रजातियों में दिलचस्प आचरण के कारण है। पवित्र किंगफिशर के साथ-साथ अन्य प्रशांत क्षेत्रीय किंगफिशर को पोलीनेशियनों द्वारा पूजा जाता था, जो यह मानते थे कि समुद्रों और लहरों पर इनका नियंत्रण था। बोर्नियो के दुसुन लोगों के लिए ओरिएंटल बौने किंगफिशर को एक बुरा शगुन माना जाता है और जो योद्धा लड़ाई के लिए जाते समय इसे देख लेता है उसे घर लौट जाना होता है। अन्य बोर्नियाई जनजाति के लोग पट्टीदार किंगफिशर को एक शगुन पक्षी मानते हैं, हालांकि आम तौर पर इसे एक अच्छा शगुन मानते हैं। हैल्सियोन किंगफिशर की तरह एक पौराणिक पक्षी है, जिसके नाम पर इसके परिवार का नाम हैल्सियोनिडी दिया गया है।

"ओविड और हाइजिनस दोनों यह भी बताते हैं कि "हैल्सियोन डेज", सर्दियों के उन सात दिनों के अंदर, जब कोई भी तूफ़ान नहीं आता है, इनके लिए व्युत्पत्ति का मूल रूपांतरित हो जाता है। वे कहते हैं कि प्रत्येक वर्ष मूल रूप से यही वो सात दिन थे (वर्ष के सबसे छोटे दिन के दोनों तरफ) जिनके दौरान एल्सियोन ([किंगफिशर के रूप में]) ने अपने अंडे दिए और तटों पर अपने घोंसले बनाए और जिसके दौरान उसके पिता, हवाओं के देवता एयोलस ने हवाओं को रोक दिया था और लहरों को शांत कर दिया था जिससे कि वह अपना काम सुरक्षित तरीके से पूरा कर सके। तक से यह कहावत आम तौर पर एक शांतिपूर्ण समय को परिभाषित करने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली शब्दावली बन गयी है।

किंगफिशर (एल्सिडो एथिस) की व्युत्पत्ति अस्पष्ट है; या शब्द किंग'ज़ फिशर से आया है, लेकिन इस नाम का प्रयोग क्यों किया जाता है यह ज्ञात नहीं है।[6].

स्थिति और संरक्षण[संपादित करें]

रुफौस-कॉलर युक्त किंगफिशर को इसके वर्षावनीय आवासों के तेजी से नष्ट होने के कारण संकट के कगार पर वर्गीकृत किया जाता है।

कई प्रजातियों के बारे में यह माना जाता है कि ये मानवीय गतिविधियों के कारण संकट में हैं और इनपर विलुप्त होने का खतरा मंडरा रहा है। इनमें से अधिकांश जंगली प्रजातियां हैं, विशेष रूप से द्वीपीय प्रजातियाँ जिनका एक सीमित वितरण है। जंगलों की कटाई या दुर्दशा के कारण हुए आवासीय नुकसान और कुछ मामलों में नई प्रजातियों ने इनके लिए संकट पैदा कर दिया है। फ्रेंच पोलीनेशिया के मार्केसन किंगफिशर को आवासीय नुकसान और नए पशुओं द्वारा की गयी दुर्दशा के कारण और संभवतः नयी प्रजातियों द्वारा शिकार के संयुक्त कारणों से गंभीर खतरे में होने के रूप में सूचीबद्ध किया गया है।[7]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Moyle, Robert G (2006). "A Molecular Phylogeny of Kingfishers (Alcedinidae) With Insights into Early Biogeographic History". Auk 123 (2): 487–499. doi:10.1642/0004-8038(2006)123[487:AMPOKA]2.0.CO;2. 
  2. Woodall, Peter (2001). "Family Alcedinidae (Kingfishers)". In del Hoyo, Josep; Elliott, Andrew; Sargatal, Jordi. Handbook of the Birds of the World. Volume 6, Mousebirds to Hornbills. Barcelona: Lynx Edicions. पृ॰ 103–187. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-84-87334-30-6. 
  3. Bancroft, Wilder; Emile M. Chamot, Ernest Merritt and Clyde W. Mason (1923). "Blue Feathers". The Auk 40 (2): 275–300. http://elibrary.unm.edu/sora/Auk/v040n02/p0275-p0300.pdf. 
  4. Schulz, M (1998). "Bats and Other Fauna in Disused Fairy Martin Hirundo ariel Nests". Emu 98 (3): 184–191. doi:10.1071/MU98026. 
  5. Legge, S; A. Cockburn (2000). "Social and mating system of cooperatively breeding laughing kookaburras (Dacelo novaeguineae)". Behavioral Ecology and Sociobiology 47 (4): 220. doi:10.1007/s002650050659. 
  6. Douglas Harper (2001). "Online Etymology Dictionary". http://www.etymonline.com/index.php?search=king&searchmode=term. अभिगमन तिथि: 2007-07-14. 
  7. Birdlife International (2009). "Todiramphus godeffroyi". Red List. IUCN. http://www.iucnredlist.org/apps/redlist/details/142177/0. अभिगमन तिथि: 12 दिसम्बर 2009. 

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]