कालिया (1981 फ़िल्म)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
कालिया
कालिया.jpg
कालिया का पोस्टर
निर्देशक टिन्नू आनन्द
निर्माता इकबाल सिंह
लेखक इन्दर राज आनन्द (संवाद)[1]
अभिनेता अमिताभ बच्चन,
आशा पारेख,
परवीन बॉबी,
अमज़द ख़ान,
प्राण
संगीतकार राहुल देव बर्मन
प्रदर्शन तिथि(याँ) 25 दिसंबर, 1981
देश भारत
भाषा हिन्दी

कालिया 1981 में बनी हिन्दी भाषा की फ़िल्म है। इसका कहानी लेखन और निर्देशन टिन्नू आनन्द द्वारा किया गया। इकबाल सिंह इसके निर्माता है। फिल्म में अमिताभ बच्चन (शीर्षक भूमिका में), परवीन बॉबी, आशा पारेख, कादर ख़ान, प्राण, अमज़द ख़ान और के एन सिंह हैं। संगीत राहुल देव बर्मन का है, जबकि गीत मजरुह सुल्तानपुरी के हैं।

संक्षेप[संपादित करें]

कालिया (अमिताभ बच्चन) अपने बड़े भाई शामू (कादर ख़ान), भाभी शांति (आशा पारेख) और उनकी छोटी बेटी मुन्नी के साथ रहता है। वह पड़ोसी के बच्चों के साथ खेलते हुए अपना समय काटता है। उसका बड़ा भाई मिल में काम के दौरान अपनी बाहें खो देता है। वह अपनी नौकरी खो देता है और उसे इलाज के लिए अब पैसे की जरूरत होती है। कालिया अपने भाई के मालिक, सहानी सेठ (अमज़द ख़ान) से भीख माँगता है, लेकिन वह मना कर देता है। कालिया पैसा पाने के लिए सहानी की तिजोरी में घुस जाता है, लेकिन बहुत देर हो चुकी होती है और भाई की मौत हो जाती है। सहानी, कालिया को जेल भेज देता है। वहाँ उसे नौ महीने की सजा होती है। यह वह जगह है जहाँ वह उन आदमियों से मिलता है जो उसे अपराध की दुनिया में ले जाते हैं। रिहाई के बाद, कालिया अब अलग आदमी होता है।

वह और उसके साथी मिल में सोने की चोरी करते हैं जो कि मालिक ने तस्करी के लिये रख रखा था। फिर वह अपने भाई की मृत्यु के बदले के रूप में मिल को जला देता है। वह फिर से जेल भेजा जाता है, इस बार दो साल के लिए। उसके साथी उसकी भाभी को यह बताकर झूठ बोलते हैं कि वह अमेरिका में उसके और उसकी बेटी के लिए बहुत पैसा कमा रहा है। वे गरीब से अमीर हो जाते हैं। जेल में, कालिया जेलर (प्राण) से मिलता है, जिसकी बेटी का एक कैदी ने अपहरण कर लिया था जब वह छोटी थी। कालिया को जेल से रिहा किए जाने के बाद, वह बदला लेने की कोशिश कर रहा होता है और आखिरकार एक महिला (परवीन बॉबी) के साथ मिल जाता है। मिल का मालिक अब कालिया की भतीजी का अपहरण कर लेता है और उसकी माँ को हत्या के मुकदमे में कालिया के खिलाफ गवाही देने के लिए मजबूर करता है। वह हत्या का दोषी पाया जाता है जो उसने नहीं की और अपनी भतीजी को ढूंढने के लिए जेल से भाग जाता है। सबसे पहले, वार्डन उसका पीछा करता है और जब वह उसकी सच्ची कहानी जान जाता है, तो वह उसकी मदद करने का फैसला करता है। वे मिल के मालिक की जगह पर जाते हैं और पाते हैं छोटी लड़की के साथ-साथ भाभी भी मरने वाले होती है।

मुख्य कलाकार[संपादित करें]

संगीत[संपादित करें]

सभी गीत मजरुह सुल्तानपुरी द्वारा लिखित; सारा संगीत राहुल देव बर्मन द्वारा रचित।

क्र॰शीर्षकगायकअवधि
1."जहाँ तेरी ये नजर है"किशोर कुमार5:23
2."जब से तुमको देखा"आशा भोंसले, किशोर कुमार5:44
3."कौन किसको बाँध सका"मोहम्मद रफ़ी6:15
4."सनम तुम जहाँ"आशा भोंसले4:50
5."तुम साथ हो जब अपने"किशोर कुमार, आशा भोंसले4:40
6."दिल तो देते नहीं"आशा भोंसले5:17

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "बिग बी के डायलॉग को अखबार ने बताया कादर खान का, महानायक ने ट्वीट कर बताई हकीकत". जनसत्ता. 2 जनवरी 2019. अभिगमन तिथि 19 मई 2019.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]