काला बाज़ार (1960 फ़िल्म)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
काला बाज़ार
काला बाज़ार (1960).jpg
काला बाज़ार का पोस्टर
निर्देशक विजय आनन्द
निर्माता देव आनन्द
लेखक विजय आनन्द
अभिनेता देव आनन्द,
वहीदा रहमान,
नन्दा,
हेलन
संगीतकार एस॰ डी॰ बर्मन
प्रदर्शन तिथि(याँ) 1960
देश भारत
भाषा हिन्दी

काला बाज़ार 1960 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। इसे नवकेतन फिल्म्स के लिए देव आनन्द द्वारा निर्मित किया गया। देव के छोटे भाई विजय आनन्द द्वारा लिखित और निर्देशित फिल्म में देव आनन्द, वहीदा रहमान, विजय आनन्द, चेतन आनन्द, नन्दा, मदन पुरी, लीला चिटनिस, मुमताज़ बेग़म और हेलन ने अभिनय किया। एस॰ डी॰ बर्मन ने संगीत तैयार किया, जबकि गीत शैलेन्द्र द्वारा लिखें गए थे।

संक्षेप[संपादित करें]

रघुवीर (देव आनन्द) अपनी विधवा माँ, एक बहन, सपना (नन्दा) और एक छोटे भाई के साथ गरीबी में रहता है। वह बम्बई में बेस्ट के लिये कंडक्टर के रूप में काम करता है। एक यात्री के साथ झगड़े के बाद उसे निकाल दिया जाता है और वह दूसरा रोजगार पाने में असमर्थ है। इसके बाद उसने लिबर्टी टॉकीज़ में ब्लैक में सिनेमा टिकट बेचना शुरू कर दिया जहाँ 'मदर इंडिया' की स्क्रीनिंग के दौरान रिकॉर्ड भीड़ आ रही है। वह पहले कालू के साथ काम करता है, फिर कई अन्य गरीब और बेघर पुरुषों की भर्ती करता है। इसके वाद वह नकदी से भरा बैग चुराता है और फिर गणेश (मदन पुरी) के क्षेत्र में जाता है और उसे अपने समूह के साथ मिलकर काम करने के लिए मजबूर करता है। उसके पास इतनी संपत्ति हो जाती है कि वह अपने पूरे परिवार को मरीन ड्राइव के एक विशाल फ्लैट में ले आता है।

फिर वह अलका सिन्हा (वहीदा रहमान) को देखता है और उसके प्यार में पड़ जाता है। उसके पास रहने के लिये है वह यहाँ तक ​​कि ऊटी की यात्रा भी करता है। फिर उससे मित्रता करता है, यहाँ तक ​​कि उसे खुश करने की कोशिश में अपना जीवन भी खो देता है। फिर यह पता लगता है कि वह नन्दकुमार चट्टोपाध्याय (विजय आनन्द) से सगाई कर चुकी है। मोहभंग होने पर, वह वापस लौटता है और काला बाजारी को छोड़ देने और सही रास्ते पर आने का फैसला करता है। लगभग एक साल बाद वह अलका से मिलता है, उसका परिचय उसके परिवार से कराता है और पाता है कि वह उसकी ओर आकर्षित है और नन्दकुमार को छोड़ सकती है। वह उसके माता-पिता से मिलने के लिए पूरी तरह तैयार है, लेकिन फिर उसका मन बदल जाता है और वह घर वापस आ जाता है। वह फिर नन्दकुमार से अलग हो जाती है और रघुवीर को बताती है। दोनों साथ में अपने परिवार को खुशखबरी देने के लिए घर लौटते हैं।

मुख्य कलाकार[संपादित करें]

संगीत[संपादित करें]

सभी गीत शैलेन्द्र द्वारा लिखित; सारा संगीत एस॰ डी॰ बर्मन द्वारा रचित।

क्र॰शीर्षकगायनअवधि
1."खोया खोया चाँद खुला आसमाँ"मोहम्मद रफ़ी4:40
2."रिमझिम के तराने लेके आई बरसात"मोहम्मद रफ़ी, गीता दत्त2:52
3."अपनी तो हर आह एक तूफान"मोहम्मद रफ़ी4:35
4."ना मैं धन चाहूँ"गीता दत्ता, सुधा मल्होत्रा3:57
5."साँझ ढली दिल की लगी"मन्ना डे, आशा भोंसले3:52
6."तेरी धूम हर कहीं"मोहम्मद रफ़ी3:36
7."सच हुए सपने तेरे"आशा भोंसले3:46

नामांकन और पुरस्कार[संपादित करें]

प्राप्तकर्ता और नामांकित व्यक्ति पुरस्कार वितरण समारोह श्रेणी परिणाम
देव आनन्द फिल्मफेयर पुरस्कार फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ अभिनेता पुरस्कार नामित

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]