कान बजना

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बाहर कोई ध्वनि न हो तब भी कान में कुछ सुनाई पड़ना कान बजना या कर्णक्ष्वेण (Tinnitus) कहलाता है।

टिनिटस शरीर के बाहर से नहीं, बल्कि सिर में अनुभूत/सुनाई देने वाले शोर को वर्णित करने के लिए प्रयुक्त चिकित्सा शब्द है। वे अक्सर बजने वाली या सिसकारी भरने वाली ध्वनियाँ हैं लेकिन वे गहराई से गुंजायमान, खड़खड़ाने, चिटकने वाली ध्वनियाँ, स्पंदित शोर, लयबद्ध, मध्यवर्ती या स्थाई भी हो सकती हैं। वे एक कान में, बाएँ या दाएँ, या दोनों में हो सकती हैं। उनका वॉल्यूम भी बदलता रहता है। प्रभावित लोगों के लिए, ध्वनियाँ काफ़ी अप्रिय हो सकती हैं और उनकी सुनने की क्षमता को बिगाड़ सकती है।

लगभग 40% आबादी को अपने जीवन-काल के एक ही बिंदु पर अपने कानों में अप्रिय ध्वनि का अनुभव हो सकता है और 10 से 20% चिरकालिक टिनिटस से (तीन से ज़्यादा महीनों के लिए) अनुभव कर सकते हैं। ये लक्षण सामान्यतः 40 या अधिक उम्र वाले लोगों में देखे जा सकते हैं। तथापि, सभी उम्र वाले व्यक्तियों को इसका सामना करना पड़ सकता है।

विषय-तालिका[संपादित करें]

1. लक्षण

2. निदान

3. टिनिटस और सुनने की परेशानियाँ

4. टिनिटस और हियरिंग एड्स

5. चिकित्सा के अन्य रूप

6. टिनिटस के स्वरूप

7. उसके उभरने के कारण

8. बुढ़ापे में टिनिटस

9. टिनिटस की रोकथाम