कांटी थर्मल पावर स्टेशन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
कांटी थर्मल वाष्प शक्ति प्रतिष्ठान
Kantithermal.png
कांटी थर्मल पावर स्टेशन की भारत के मानचित्र पर अवस्थिति
कांटी थर्मल पावर स्टेशन
Location of कांटी थर्मल पावर स्टेशन
आधिकारिक नाममुजफ्फरपुर थर्मल पावर स्टेशन
देशभारत
स्थानकाँटी मुजफ्फरपुर, बिहार
निर्देशांक26°24′01″N 85°01′20″E / 26.400249°N 85.022321°E / 26.400249; 85.022321निर्देशांक: 26°24′01″N 85°01′20″E / 26.400249°N 85.022321°E / 26.400249; 85.022321
स्थितिOperational
नियुक्त करने की तारीख1985
संचालकBSEB
ताप विद्युत केंद्र
प्राथमिक ईंधनCoal
विद्युत उत्पादन
इकाइयाँ परिचालन2 X 110 MW
नेमप्लेट क्षमता220 MW

कांटी थर्मल पावर स्टेशन अथवा जॉर्ज फ़र्नान्डिस थर्मल पावर प्लांट स्टेशन (जीएफटीपीएस) अथवा मुजफ्फरपुर थर्मल पावर स्टेशन[1][2] बिहार के भारतीय राज्य की राजधानी, पटना से 90 किमी दूर काँटी मुजफ्फरपुर में स्थित है। यह कांटी बिजली उत्पाद निगम लिमिटेड (केबीबीएनएल) द्वारा संचालित है,[3] जो एनटीपीसी और बीएसईबी पटना के बीच एक संयुक्त उद्यम है। एनटीपीसी के 64.57% और बीएसईबी 35.43% के साथ संयुक्त उद्यम कंपनी के बहुतांश शेयर हैं। संयंत्र 2003 के बाद से कार्यात्मक नहीं रहा है, हालांकि 2013 के अंत तक तीन सफल परीक्षण चलाने ने बिजली के वाणिज्यिक उत्पादन का मार्ग प्रशस्त किया है। नवंबर 2013 में नीतीश कुमार ने कहा कि कांटी में एक और 500 एमडब्ल्यू बिजली संयंत्र स्थापित किया जाएगा। 195 मेगावाट की पहली इकाई बीएचईएल द्वारा मार्च 2015 में 2x195 मेगावाट के संयंत्र में चालू की गई थी। 13 जून 2016 को 2 X 195 मेगावाट की दूसरी इकाई चालू की गई थी। मुजफ्फरपुर थर्मल पावर स्टेशन की मौजूदा क्षमता 610 मेगावाट है। एक और 500 मेगावाट विस्तार परियोजना भी योजना बनाई गई है। कांटी थर्मल को कोयले की निर्बाध आपूर्ति के लिए रेल कनेक्टिविटी मिल जायेगी।[4] कपरपुरा स्टेशन से कांटी यार्ड तक का विद्युतीकरण पूरा कर लिया जायेगा।[5]

इतिहास[संपादित करें]

पहली बार 1985 में शुरू हुआ, कांटी पावर प्लांट की स्थापित क्षमता 110 × 2 मेगावाट है। 1 9 02 2 मेगावाट की एक अतिरिक्त क्षमता तैयार की जा रही है और यह दिसंबर 2014 तक पूरा हो जाने की संभावना है। बिहार भारत का सबसे बिजली पीड़ित राज्य है; और हमारे वर्तमान राष्ट्र उत्थान के मुद्दे पर, एक उत्कृष्ट और स्वच्छ 'थर्मल पावर स्टेशन' एक आवश्यकता है। कांटी ताप विद्युत संयंत्र, 1985 में मुजफ्फरपुर के तत्कालीन सांसद जॉर्ज फ़र्नान्डिस के प्रयासों से अस्तित्व में आया। 1978 में जॉर्ज का पहला कार्यकाल मुजफ्फरपुर के सांसद के रूप में शुरू हुआ। नवंबर 2014 में, उनके योगदान को स्वीकार करने के लिए कांती प्लांट का नाम जॉर्ज फर्नांडिस थर्मल पावर प्लांट के रूप में बदल दिया गया था। 17 अप्रैल 2018 को, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की अध्यक्षता में बिहार राज्य कैबिनेट ने कांटी थर्मल पावर स्टेशन को एनटीपीसी लिमिटेड (राष्ट्रीय तापविद्युत निगम लिमिटेड) को सौंपने की मंजूरी दे दी।[6] 15 मई 2018 को, बिहार सरकार ने थर्मल प्लांट को 33-वर्षीय पट्टे के लिए राष्ट्रीय थर्मल पावर कॉरपोरेशन को सौंपने के लिए समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए।[7][8][9]

संचालन[संपादित करें]

06/9/2006 को एनटीपीसी के साथ 'वैशाली पावर जेनरेटिंग कंपनी लिमिटेड (वीपीजीसीएल)' नामक एक सहायक कंपनी मुजफ्फरपुर थर्मल पावर स्टेशन (2 * 110 एमडब्ल्यू) को लेने के लिए- इक्विटी का 51% योगदान; और शेष इक्विटी का योगदान बिहार राज्य विद्युत बोर्ड द्वारा किया गया था। 10 अप्रैल, 2008 को कंपनी का नाम 'कांति बिजली उत्पाद निगम लिमिटेड' रखा गया था। वर्तमान इक्विटी इक्विटी एनटीपीसी द्वारा 64.57% और बीएसईबी द्वारा 35.43% है। कंपनी मौजूदा इकाई के पुनर्निर्माण और आधुनिकीकरण कर रहा है। इसकी मरम्मत और आधुनिकीकरण की कुल लागत रु। से अधिक है 500 करोड़। स्टेशन में 2X110 मेगावाट की स्थापित क्षमता है। दोनों इकाइयां नवीकरण और आधुनिकीकरण के अधीन हैं। 220X2 MW की एक अतिरिक्त क्षमता तैयार की जा रही है और यह दिसंबर 2014 तक पूरा हो जाने की संभावना है। मार्च 2013 में, दो पुरानी इकाइयों का नवीकरण कार्य पूरा हुआ। एमटीपीएस ने 1 नवंबर, 2013 से 94 मेगावाट की स्थापना के साथ व्यावसायिक उत्पादन शुरू किया। यह पहली पीढ़ी है 2002 के बाद से 11 वर्षों में

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "बिजली के क्षेत्र में बिहार ने बढ़ाया एक और कदम, पढ़ें".
  2. http://www.jagran.com/bihar/muzaffarpur-flood-16575630.html
  3. https://hindi.news18.com/news/bihar/patna-electricity-connection-to-all-by-december-2017-says-nitish-kumar-1176708.html
  4. "बाढ़, बरौनी, कांटी और नवीनगर थर्मल पावर को मिलेगी रेल कनेक्टिविटी".
  5. "कांटी थर्मल पावर स्टेशन तक चलेगी इलेक्ट्रिक मालगाड़ी".
  6. "Bihar to hand over its three thermal power plant to NTPC".
  7. "State happy with power deal".
  8. "बिहार : एनटीपीसी के हवाले बरौनी, कांटी व नवीनगर प्लांट, सस्ती होगी बिजली".
  9. "NTPC signs MoU with Government of Bihar; aims to improve performance of Power Sector in Bihar".