कटहल

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
कटहल

कटहल का वृक्ष शाखायुक्त, सपुष्पक तथा बहुवर्षीय वृक्ष है। यह दक्षिण तथा दक्षिण-पूर्व एशिया का मूल-निवासी है। पेड़ पर होने वाले फलों में इसका फल विश्व में सबसे बड़ा होता है।[1] फल के बाहरी सतह पर छोटे-छोटे काँटे पाए जाते हैं। इस प्रकार के संग्रन्थित फल को सोरोसिस कहते हैं।

कटहल का लैटिन नाम[संपादित करें]

औनतिआरिस टोक्सिकारीआ (Antiaris Toxicaria)

पत्ते[संपादित करें]

१० सेमी से लेकर २० सेमी लम्बे कुछ चौड़े ,किंचित अंडाकार और किंचित कालापनयुक्त हरे रंग के होते हैं।

पुष्प[संपादित करें]

कटहल में पुष्प स्तम्भ और मोटी शाखाओं पर लगते हैं। पुष्प ५ सेमी से लेकर १५ सेमी तक लम्बे , २-५ सेमी गोल अंडाकार और किंचित पीले रंग के होते हैं

फल[संपादित करें]

बहुत बड़े -बड़े लम्बाई युक्त गोल होते हैं। उसके उप्र कोमल कांटे होते हैं। भार में लगभग २० किलो वजन होता है।

कटहल के बीज के गुण[संपादित करें]

बीज की मींगी वीर्यवर्धक ,वात ,पित्त तथा कफ नाशक होती है। मंदाग्नि रोग वालों को कटहल खाना छोड़ देना चाहिए।

संदर्भ[संपादित करें]