ऑर्सन वेल्स

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
ऑर्सन वेल्स
Orson Welles 1937.jpg
21 वर्ष की आयु में वेल्स
जन्म जॉर्ज ऑर्सन वेल्स
6 मई 1915
केनोशा, विस्कॉन्सिन, संयुक्त राज्य अमेरिका
मृत्यु अक्टूबर 10, 1985(1985-10-10) (उम्र 70)
लॉस एंजेलिस, कैलिफोर्निया, संयुक्त राज्य अमेरिका
मृत्यु का कारण हृदयाघात
स्मारक समाधि रोंडा, स्पेन
व्यवसाय
  • अभिनेता
  • निर्देशक
  • लेखक
  • निर्माता
अंतिम स्थान रोंडा, स्पेन
पुरस्कार 14वां ऑस्कर सम्मान, फिल्म सिटिजेन केन में श्रेष्ठ पटकथा लेखन के लिए(1941)
सम्मान में ऑस्कर सम्मान (1970)
हस्ताक्षर
Orson Welles signature.svg

ऑर्सन वेल्स अमेरिकी अभिनेता, लेखक, फिल्म निर्देशक और निर्माता थे। वेल्स रंगमंच रेडियो और फिल्म तीनों माध्यमों में बेहतर काम के लिए जाने जाते हैं। उन्हें मात्र 23 साल की उम्र में एच.जी वेल्स के उपन्यास द वार ऑफ द वर्ल्ड्स के रेडियों रूपांतरण के निर्देशन के लिए प्रसिद्धि मिल गई थी। वेल्स अपनी पहली फीचर फिल्म सिटिजन केन से एक फिल्म निर्देशक के रूप में स्थापित तो हो गए लेकिन हॉलीवुड के स्टूडियों तंत्र के लिए वो जीवनपर्यंत एक आउटसाइडर ही रहे।

जीवन परिचय[संपादित करें]

वेल्स का जन्म संयुक्त राज्य अमेरिका के विस्कोंसिन के केनोशा शहर में हुआ था। वेल्स का नामकरण उनके परदादा और केनोशा के प्रभावशाली अटॉर्नी ऑर्सन एस .हेड के नाम पर किया गया। एक समृद्ध परिवार में जन्म लेने के बावजूद वेल्स को अपने बचपन में बड़ी कठिनाइयों और संकटों का सामना करना पड़ा। उनके माता-पिता वेल्स के बचपन में ही अलग हो गए। वेल्स के पिता का व्यवसाय अत्यधिक शराब के सेवन करने की वजह से चौपट हो गया जिसके बाद वेल्स की मां को आर्टस् इंस्टीट्यूट में पियानो बजाकर अपने बच्चों को पालना पड़ा। लेकिन वेल्स जब मात्र नौ साल के थे तब उनकी मां का देहान्त हो गया। इसके बाद वेल्स वाटसन परिवार के पास व्योमिंग चले आए। वेल्स इस बीच थोड़ी अवधि के लिए अपने पिता के साथ भी रहे लेकिन इस दौरान एक पिता को पुत्र की देखभाल करने की बजाय पुत्र को ही अपने पिता को संभालना पड़ा। वेल्स जब 15 साल के थे तब अत्यधिक शराब के सेवन की वजह से किडनी फेल हो जाने पर वेल्स के पिता का निधन हो गया।

वेल्स ने छोटी उम्र में ही रोडियो और रंगमंच के लिए काम करना शुरू कर दिया था,जिसमें उन्हें लगातार सफलता मिली। पिता के देहान्त के बाद वेल्स अपनी बची-खुची जमापूंजी लेकर यूरोप की यात्रा पर निलक पड़े। वेल्स आयरलैंड के मशहूर गेट थिएटर पहुंचे और वहां के प्रबंधक से खुद का परिचय ब्राडवे स्टार के रूप में दिया। ऑडिशन के बाद वेल्स को वहां काम मिल गया लेकिन ब्रिटेन में वेल्स को कोई बड़ी सफलता हाथ नहीं लगी और वो वापस अमेरिका लौट आए।

फिल्म निर्माण[संपादित करें]

अमेरिका में रेडियो और रंगमंच पर सफलता मिलने के बाद आरकेओ रेडियो की ओर से वेल्स को दो फिल्में बनाने का प्रस्ताव मिला। वेल्स ने पटकथा लेखक हरमन जे मैनकेविच के साथ मिलकर एक कहानी पर कार्य शुरू किया। कहानी अमेरिका के मीडिया मुगल विलियम रैंडोल्फ हर्स्ट के जीवन पर आधारित थी। वेल्स ने इस फिल्म परियोजना के लिए हॉलीवुड के बेहतरीन तकनीशियनों को अपनी टीम में जोड़ा जिसमें छायाकार ग्रेग टौलैंड भी शामिल थे। हालांकि वेल्स ने कलाकारों के चयन में अपने मरकरी थिएटर के नवोदित कलाकारों को तरजीह दी। इस फिल्म के साथ ही हॉलीवुड के कई कलाकारों ने फिल्म जगत में पदार्पण किया।

इस फिल्म की शूटिंग दस सप्ताह में पूरी की गई। लेकिन इस फिल्म का निर्माण इतना आसान नहीं था। हर्स्ट को जब इस फिल्म के बारे में पता चला तो उसने अपने अखबारों में इस फिल्म से संबन्धित किसी भी प्रकार के विज्ञापन और खबरों पर रोक लगा दी और फिल्म के निर्माता आरकेओ रेडियो पर फिल्म के प्रोजेक्ट को बंद करने का दबाव डाला। निर्माता को फिल्म की कुल लागत से भी ज्यादा धन देने का प्रस्ताव दिया गया, ये कहकर कि वो फिल्म के सभी प्रिंट और निगेटिव को नष्ट कर दे।

सम्मान[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]