एहोल अभिलेख

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

एहोल के एक जैन मंदिर की दीवारों में वातापी के चालुक्य शासकों का प्रारंभिक इतिहास एवं इस वंश के महान शासक पुलकेशिन द्वितीय (610-643 ई.) की विभिन्न विजयों की सूची उत्कीर्ण की गई है। यह एक प्रशस्ति रूप है, जिसे ‘एहोल प्रशस्ति‘ या ‘एहोल अभिलेख‘ कहा जाता है। यह अभिलेख संस्कृत भाषा मे ७वी सदी मे रवि कीर्ति ने लिखा।[1] इसमें पुल्केशन द्वितिया वा हर्ष वर्धन के मध्य हुए युद्ध का वर्णन मिलता है। जिसमे हर्ष पराजय हुआ। इसी अभिलेख मे संस्कृत के महान कवि कालिदास का उल्लेख मिलता है।

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "ऐहोल अभिलेख किससे संबंधित है, एहोल प्रशस्ति में किस युद्ध का वर्णन है, राजा हर्ष की पराजय का संदर्भ किस अभिलेख में मिलता है". अभिगमन तिथि 2 अप्रैल 2022.