एक आदिम रात्रि की महक

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

एक आदिम रात्रि की महक एक कथा-संग्रह है जिसके रचायिता फणीश्वर नाथ रेणु हैं। इस संग्रह की कहानियाँ हैं

  1. एक आदिम रात्रि की महक - एक रेलवे कर्मचारी के नौजवान सहायक की ज़िन्दगी
  2. तबे एकला चलो रे - गाँव के एक भैस की कहानी जो राजनीतिक भूमिका अदा करता है