एक्यूट कोरोनरी सिंड्रोम

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
Acute coronary syndrome
वर्गीकरण एवं बाह्य साधन
आईसीडी-१० I20.0
ईमेडिसिन emerg/31 
एम.ईएसएच D054058

' तीव्र कोरोनरी सिंड्रोम (ACS) उन तिन बिमारियों में से एक है जो ह्रदय की धमनी से जुडी हुई है। एसटी एलिवेशन मायोकार्डिअल इन्फार्क्शन (30%) नॉन एसटी एलिवेशन मायोकार्डिअल इन्फार्क्शन (25%) अथवा अस्थायी एंजाइना (38%).[1]

तीव्र कोरोनरी सिंड्रोम (ACM) के प्रकार गलशोथ और हृदयपेशीय रोधगलन के दो रूप है जिसमें हृदय क्षतिग्रस्त हो जाता है। इनका नाम (इलैक्ट्रोकार्डियोग्राम (ECD/EKG) के अनुसार रखा गया है। ACM के प्रकार बीना ST अनुभाग हृदयपेशीय रोधगलन NSTEMI और ST सहीत अनुबाग उत्थान हृदयपेशीय रोधगलन (STEMI)[2] है। MI के ACM में वर्गीकरण के कारण से इसमें भी विविधता हो सकती है।[3]

ACS और स्थिर गलप्रदाह को विशिष्ट किया जाना चाहिए,स्थिर गलप्रदाह परिश्रम के दौरान विकसित होता है। जबकि इसके विपरीत, गलशोथ अचानक होता है, जयादातर विश्राम करते समय या फिर कम परिश्रम करते हुए होता है। प्रारंभ में गलप्रदाह को गलशोथ को समझा जाता है। क्योंकि यह, ह्रदय धमनी में एक नई समस्या का संकेत है।

ACS को कोरोनरी घनास्त्रता के अलावा कोकीन उपयोग के साथ भी जुड़ा जोड़ा जा सकता है।[4] कार्डियक सीने में दर्द एनीमिया के कारण निश्‍चलन या ब्राडीकार्डिया (ह्रदय मंदता-अधिक धीमी गति से हृदय की दर) टैकीकार्डिया (अधिक तेजी से दिल की दर) की वजह से भी हो सकता है।

संकेत व लक्षण[संपादित करें]

ह्रदय में रक्त प्रवाह की कमी के कारण सीने में जकड़न होती है, जो बाईं बांह और जबड़े के कोण तक विक्रीत होती है। इसमे डायाफोरेसिस (पसीना), मतली, उल्टी, साथ सांस की तकलीफ भी होती है। कई मामलों में, अनियमित अनुभूति होती है, विविद प्रकार से दर्द की अनुभूति होती है या फिर बिलकुल नहीं होती (संभावनता महिलाओ और मदुमेह रोगियों मे). कुछ बीमार घबराहट हो सकता है रिपोर्ट है, चिंता की भावना या एक आसन्न कयामत जा रहा है तीव्रता से महसूस की और एक कुछ बीमार घबराहट, व्याकुलता या चिंता की भावना महसूस कर सकते है तथा उग्र अस्वस्थ हो सकते है।

एक दबाव के रूप में सीने में बेचैनी का वर्णन निदान सहायता में एक छोटे उपयोगिता के रूप में ACS के लिए विशिष्ट नहीं है।[5]

रोग की पहचान[संपादित करें]

तीव्र कोरोनरी सिंड्रोमस का वर्गीकरण.[6]

इलेक्ट्रोकार्डियोग्राम[संपादित करें]

इलैक्ट्रोकार्डियोग्राम की जांच के बाद तीव्र सीने की दर्द को विश्वासपूर्वक विविद किया जा सकता है।[7] अगर इसमें उग्र हृदय शातिरस्त का संकेत (ST खंड में उत्थान, नई बायीं वर्ग शाखा मार्गरोधित), तत्कालीन दिल के दौरे का इलाज - रक्तवाहिकासंधान (angioplasty) या थ्रोम्बोलिसिस शुरू कर दिया जाता है (नीचे देखें). इस तरह के बदलाव के अभाव में, यह संभव नहीं है की तुरंत गलशोथ और NSTEMI के बीच भेद किया जाये.

इमेजिंग और रक्त परीक्षण[संपादित करें]

क्यूंकि यह सीने की दर्द का मुख्य कारण है, आमतौर बीमार व्यक्ति आपातकालीन विभाग में कई परीक्षण कराते है, जैसे कि सेने का एक्स-रे, रक्त परीक्षण (हृदयपेशीय मार्करों जैसे कि ट्रॉपोनिन इ या टी और डी-डाइमर अगर फेफड़े से संबंधित होने का शक होता हैं) तथा दूरमापी विज्ञान (दिल धड़कन की निगरानी के लिए)

भविष्यवाणी स्कोर[संपादित करें]

ACI-TIPI स्कोर निदान में सहायता करने के लिए पर्योग प्रयोग किया जा सकता; रिकॉर्ड प्रवेश से 7 चर का उपयोग का प्रयोग करके पता लगाया जा सकता है की रोगी को हृदयपेशीय[8] स्थानिक-अरक्तता हो सकती है। उदाहरण के लिए अनियमित परीक्षण के अनुसार पुरुष जिनको सेने में दर्द होता है परन्तु ECG या तो सामान्य होता है या कोई निदान नहीं हो पता, ऐसे पुरुषो को तीव्र कोरोनरी सिंड्रोम होने की संभावना जादा होती है महिलाओ के बनिस्पत. इस अध्ययन में संवेदनशीलता 65.2% और विशिष्टता 44% थी।[9] इस विशेष अध्ययन में ८.४% को तीव्र कोरोनरी सिंड्रोम का निदान हुआ, जिसका मतलब है एक पुरुष जिसको सेने में दर्द की परेशानी है उसे कोरोनरी सिंड्रोम होने की संभावना ९.६% है जबकि ना होने की संभावना[1]

इस अध्ययन के एक दूसरे पलटन में पाया गया की व्यायाम एलेक्त्रोकर्दिओग्रफ्य कोरोनरी सिंड्रोम के निदान में सफल साबित नहीं हुआ। ४७% रोगियों को 6 वर्ष की जाँच के शुरुवात में ECG के नकारात्मक नतीजे मिले.[10] औसतन 2.21 सालो तक ECG की रेखाओ की विशेषताएं देखकर यह देखा गया है की आराम करते हुए ECG 0.७२ अंक और व्यायाम करते हुए 0.74 अंकित है।

रोकथाम[संपादित करें]

अक्सर, एक्यूट कोरोनरी सिंड्रोम अठेरोस्क्लेरोसिस द्वारा परिहृद् में हुए नुक्सान को दर्शाता है। एथेरोसक्लेरोसिस के प्राथमिक रोकथाम के लिए : स्वस्थ भोजन का निवारण, उच्च रक्तचाप बचाव के लिए व्यायाम, मदुमेह से बचाव, धूम्रपान से परहेज और कोलेस्ट्रॉल की नियंत्रित मात्रा का दयां करना चाहिए. इनसे परहेज के लिए एस्पिरिन का प्रयोग किया जा सकता है, हलाकि इस्स्में कुछ जोखिम भी है। हृदयपेशीय रोधगलन में इसके दुसरे निवारण की चर्चा की गयी है।

स्कॉटलैंड में मार्च २००६ के बाद सभी संलग्न सार्वजनिक स्थानों में धूम्रपान पर प्रतिबंध किया गया था। इससे वहाँ तीव्र कोरोनरी सिंड्रोम के लिए एक अस्पताल के प्रवेश में 17 प्रतिशत की कमी दखी गयी .इसमें 67% की कमी धूम्रपान करने वालों में देखी गयि है।[11]

उपचार[संपादित करें]

स्टेमि[संपादित करें]

यदि इसिजि (एसटि उत्थान, नयाबंडल-ब्रांच ब्लॉक या पृष्ठ एमाआइ प्रतिरूप), थ्रोम्बोलाइटिक्स जांचा जा सकता है या फिर प्राथमिक कोरोनरी एंजियोप्लास्टी निष्पादित किया जा सकता है। थ्रोमलाइटिक्स में फिब्रिनोल्य्सिस किया जाता है जिससे रक्तातंच ख़तम हो जाता है। जिसके कारण कोरोनरी परिहृद् धमनी को खोल देता है। प्राथमिक कोरोनरी एंजियोप्लास्टी में एक लचीली मूत्रशलाका को जघनास्थिक या रेडियल धमनी में डाला जाता है जिससे की दिल में रूकावटो की पहचान हो सके. जब अक्लिऊशान पाए जाते हैं, वे आमतौर पर तैनाती स्टेंट और हस्तक्षेप किया जा सकता है पर यंत्रवत् के साथ एंजियोप्लास्टी घाव को कलप्रिट लेशन कहा जाता है, इससे हृदय को नुकसान होता है। इलाज का सुझाव देते हैं कि तेजी से ट्राइएज, स्थानांतरण और उपचार आवश्यक है।[12] अमेरिकी कॉलेज प्रशासन ऑफ़ थ्रांबोलिटिक कार्डियोलोजी (ACC) के अनुसार घर से अस्पताल ले जाने की समय सीमा 30मिनट और घर से गुब्बारित पारकुटेनियस कोरोनरी इंटरवेंशन (PCI) की समय सीमा 90 मिनट से जादा नहीं होनी चाहिए.यह पाया गया कि एसिसि के निर्देशों की अनुशार अधिकतर थ्रोम्बोल्य्सिस का वितरण स्टेमि से पीड़ित रोगियों के बीच है, पिसिआइ से ज़्यादा है।[13]

एनस्टेमि और एनएसटिइ-एसिएस[संपादित करें]

यदि इसिजि नन-एसटि खंड में उत्थान नहीं दिखता एसिएन का प्रयोग किया जाता है। रोगी अभी भी एक नन-एसटि उत्थान मी (एनस्टेमि) का सामना करना पड़ा हो सकता है तीव्र कोरोनरी सिंड्रोम और गलशोथ का प्रयोगसिद्ध उपचार एस्पिरिन, हेपरिन (आमतौर पर एक कम आणविक रूप एनोक्सापरिन) तथा क्लोपोइदोग्रेल, के साथ ग्लिसरीन ट्रीनैट्रेट और ओपिअड अगर दर्द रहती है।

एक रक्त परीक्षण आमतौर पर दर्द की शुरुआत के बाद कार्डियक बारह घंटे ट्रोपोनिंस के लिए प्रदर्शन किया। यदि यह सकारात्मक है, तो तुरंत ही कोरोनरी एंजियोग्राफी की जाती है। अगर ट्रोपोनिंन ऋणात्मक है, एक ट्रेडमिल व्यायाम परीक्षण या एक थालियम स्किन्टिग्राम किया जा सकता है।कोकीन जुड़े ACS एक तरीके में प्रबंधित किया जाना चाहिए की बीटा ब्लॉकर को छोड़कर तीव्र कोरोनरी सिंड्रोम के साथ रोगियों के लिए इसी तरह के अन्य प्रयोग नहीं किया जाना चाहिए और }बेंज़ोडियाज़ेपाइंस जल्दी प्रशासित किया जाना चाहिए.[14]

एनस्टेमि{/} में एक काउहोट अध्ययन के अनुसारएनस्टेमि रोगियों, स्टेमि) और समान था सांख्यिकीय, मृत्यु दर के रूप में एक PCI के बाद वर्ष की तुलना में मरीजों% के साथ स्टेमि (3.4 बनाम 4.4%., P = 0.40)[15] हालांकि, एनस्टेमि "प्रमुख कार्डियक घटनाओं" (माइक्रोकार्डियाल इनफ्राकशान) रिभासकुलाइज़ार, स्ट्रोक या पुनर्वहन्‍याकरण (24.0 % vs 16.6%, P = 0,007)

पूर्वानुमान[संपादित करें]

टिआइएमआइ अंक[संपादित करें]

टिआइएमआइ जोखिम अंक[16] रोगियों के जोखिम को जाचने में सहायता मिलती है तथा[17][18] स्वतंत्र रूप से पुष्टि भी की जा सकती है।

निदान के लिए बायोमार्करस[संपादित करें]

नैदानिक मार्कर का उद्देश्य है ACS द्वारा रोगियों की पहचान की जा सके जबकि दय की मांसपेशी क्षति के कोई सबूत नहीं हो.

  • इस्किमिआ-संशोधित (आईएमए) एलबुमिन - इस्किमिआ के मामलों में - एक एलबुमिन समनुरूपण बदलाव आता है और इसकी जोड़ने की क्षमता के लिए संक्रमणकालीन होता है। IMA को एलबुमिन इस्किमा की जाँच के लिए भी प्रयोग किया जाता है।

इसका प्रयोग इस्किमिआ की जाँच में प्रयोग होता है और नैदानिक परीक्षण भी सीमित है।

  • (MPO) मेलोपेरोअक्सिडेस - MPO परिसंचारी, एक ल्युकोसैट एंजाइम स्तर, ACS के पश्चात् जल्द ही तरक्की और हालत के लिए एक प्रारंभिक मार्कर के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है।
  • ग्लाइकोजन Phosphorylase Isoenzyme BB-(GPBB) इस्किमिआ कार्डियक इस्किमिआ का शुरुवाती सूचक है और एक Phosphorylase है ग्लाइकोजन isoenzyme का भी
  • Troponin ACS की सुचना देर से देता है।

जोखिम स्तरीकरण के लिए बायेमार्कर[संपादित करें]

शकुन मार्करों ka उद्देश्य एसिएस के पेथोफिज़ियोलजि के विभिन्न घटकों को प्रतिबिंबित है। उदाहरण के लिए:

  • Natriuretic पेप्टाइड - दोनों प्रकार बी natriuretic (बीएनपी) और पेप्टाइड एन टर्मिनल प्रो बीएनपी के लिए ACS निम्नलिखित मौत तथा दिल की विफलता के जोखिम की भविष्यवाणी लागू किया जा सकता है।
  • Monocyte chemo आकर्षक (MCP -1) प्रोटीन - अध्ययन का एक संख्या में दिखानी के लिए ACS के बाद एक प्रतिकूल परिणामों के उच्च जोखिम के साथ रोगियों की जाँच किया जाता hai.

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Acute Coronary Syndrome".
  2. Grech ED, Ramsdale DR (2003). "Acute coronary syndrome: unstable angina and non-ST segment elevation myocardial infarction". BMJ. 326 (7401): 1259–61. PMC 1126130. PMID 12791748. डीओआइ:10.1136/bmj.326.7401.1259. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  3. "Dorlands Medical Dictionary:acute coronary syndrome".
  4. Achar SA, Kundu S, Norcross WA (2005). "Diagnosis of acute coronary syndrome". Am Fam Physician. 72 (1): 119–26. PMID 16035692.
  5. Woo KM, Schneider JI (2009). "High-risk chief complaints I: chest pain--the big three". Emerg. Med. Clin. North Am. 27 (4): 685–712, x. PMID 19932401. डीओआइ:10.1016/j.emc.2009.07.007. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  6. Alpert JS, Thygesen K, Antman E, Bassand JP. (2000). "Myocardial infarction redefined--a consensus document of The Joint European Society of Cardiology/American College of Cardiology Committee for the redefinition of myocardial infarction". J Am Coll Cardiol. 36 (3): 959–69. PMID 10987628. डीओआइ:10.1016/S0735-1097(00)00804-4.
  7. Chun AA, McGee SR (2004). "Bedside diagnosis of coronary artery disease: a systematic review". Am. J. Med. 117 (5): 334–43. PMID 15336583. डीओआइ:10.1016/j.amjmed.2004.03.021.
  8. Selker HP, Griffith JL, D'Agostino RB (1991). "A tool for judging coronary care unit admission appropriateness, valid for both real-time and retrospective use. A time-insensitive predictive instrument (TIPI) for acute cardiac ischemia: a multicenter study". Medical care. 29 (7): 610–27. PMID 2072767.
  9. Goodacre, S; Pett, P; Arnold, J; Chawla, A; Hollingsworth, J; Roe, D; Crowder, S; Mann, C; Pitcher, D (2009). "Clinical diagnosis of acute coronary syndrome in patients with chest pain and a normal or non-diagnostic electrocardiogram". Emergency medicine journal : EMJ. 26 (12): 866–70. PMID 19934131. डीओआइ:10.1136/emj.2008.064428.
  10. Sekhri, N; Feder, GS; Junghans, C; Eldridge, S; Umaipalan, A; Madhu, R; Hemingway, H; Timmis, AD (2008). "Incremental prognostic value of the exercise electrocardiogram in the initial assessment of patients with suspected angina: cohort study". BMJ(Clinical research ed.). 337: a2240. PMC 2583389. PMID 19008264. डीओआइ:10.1136/bmj.a2240.
  11. Pell JP, Haw S, Cobbe S; एवं अन्य (2008). "Smoke-free Legislation and Hospitalizations for Acute Coronary Syndrome". New England Journal of Medicine. 359 (5): 482. PMID 18669427. डीओआइ:10.1056/NEJMsa0706740.
  12. ब्लांकेनशिप जे सि और स्केलडिं के ए. रैपिड ट्राइएज, स्थानांतरण और मियोकार्डियाल उपचार अनुभाग ऊंचाई-अनुसूचित जनजाति के साथ साथ पारकुटेनियस कोरोनरी इंटरवेंशन मरीजों के लिए . एक्यूट कोरोनरी सिनड्रोमस. 2008, 9 (2) :59-65
  13. Janda, SP; Tan, N (2009). "Thrombolysis versus primary percutaneous coronary intervention for ST elevation myocardial infarctions at Chilliwack General Hospital". The Canadian journal of cardiology. 25 (11): e382–4. PMC 2776568. PMID 19898701.
  14. McCord J, Jneid H, Hollander JE; एवं अन्य (2008). "Management of cocaine-associated chest pain and myocardial infarction: a scientific statement from the American Heart Association Acute Cardiac Care Committee of the Council on Clinical Cardiology". Circulation. 117 (14): 1897–907. PMID 18347214. डीओआइ:10.1161/CIRCULATIONAHA.107.188950. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  15. Cox, DA; Stone, GW; Grines, CL; Stuckey, T; Zimetbaum, PJ; Tcheng, JE; Turco, M; Garcia, E; Guagliumi, G (2006). "Comparative early and late outcomes after primary percutaneous coronary intervention in ST-segment elevation and non-ST-segment elevation acute myocardial infarction (from the CADILLAC trial)". The American journal of cardiology. 98 (3): 331–7. PMID 16860018. डीओआइ:10.1016/j.amjcard.2006.01.102.
  16. Antman EM, Cohen M, Bernink PJ; एवं अन्य (2000). "The TIMI risk score for unstable angina/non-ST elevation MI: A method for prognostication and therapeutic decision making". JAMA. 284 (7): 835–42. PMID 10938172. डीओआइ:10.1001/jama.284.7.835.
  17. Chase M, Robey JL, Zogby KE, Sease KL, Shofer FS, Hollander JE (2006). "Prospective validation of the Thrombolysis in Myocardial Infarction Risk Score in the emergency department chest pain population". Annals of emergency medicine. 48 (3): 252–9. PMID 16934646. डीओआइ:10.1016/j.annemergmed.2006.01.032.
  18. Pollack CV, Sites FD, Shofer FS, Sease KL, Hollander JE (2006). "Application of the TIMI risk score for unstable angina and non-ST elevation acute coronary syndrome to an unselected emergency department chest pain population". Academic emergency medicine : official journal of the Society for Academic Emergency Medicine. 13 (1): 13–8. PMID 16365321. डीओआइ:10.1197/j.aem.2005.06.031.