ऍमपी ४

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
एम.पी-४ (एमपीईजी-४ पार्ट १४)
संचिकानाम विस्तार .mp4
इंटरनेट मीडिया प्रकार video/mp4, audio/mp4, application/mp4
प्रकार कोड mpg4
द्वारा विकसित ISO
फॉर्मैट का प्रकार मीडिया कंटेनर
का कंटेनर वीडियो
से विस्तृत QuickTime .mov एवं एमपीईजी-४ पार्ट १२
मानक ISO/IEC १४४९६-१४

एम.पी.ई.जी ४ ISO/IEC १४४९६-१४:२००३, डिजिटल ध्वनि संकेत (ऑडियो सिग्नल) संपीड़न तकनीक होती है।[1] इसमें एमपी3 से कुछ ज्यादा अलग नहीं है, लेकिन एमपी3 की तुलना में यह ज्यादा जटिल होता है। यदि सात बार डी बोलना है, तो ऑडियो फॉर्मेट में इसे डी7 के रूप में लिख दिया जाता है। इससे ऑडियो संचिका संपीड़ित (कंप्रेस) हो जाती है।[2] ऑडियो संचिका की तुलना में वीडियो संचिका को कंप्रेस करना मुश्किल काम होता है। इसमें विशेष प्रकार के कोड तंत्र का इस्तेमाल किया जाता है। कंप्रेशन और डिकंप्रेशन के जरिए चित्रों को फ्रीक्वेंसी डोमेन में स्थानांतरित किया जाता है। इसे कोडेक (कोडर-डीकोडर) कहा जाता है। एमपी4 प्लेयर साधारण तरीके से काम करता है।

इतिहास[संपादित करें]

MPEG-4 भाग 14 अधिक सामान्य ISO/IEC 14496-12:2004 (MPEG-4 भाग 12: ISO बेस मीडिया फ़ाइल स्वरूप) का एक उदाहरण है जो सीधे QuickTime फ़ाइल स्वरूप पर आधारित है। एमपीईजी -4 भाग 14 अनिवार्य रूप से क्विक टाइम फ़ाइल प्रारूप के समान है, लेकिन औपचारिक रूप से प्रारंभिक ऑब्जेक्ट डिस्क्रिप्टर (आईओडी) और अन्य एमपीईजी सुविधाओं के लिए समर्थन निर्दिष्ट करता है। यह आईएसओ/आईईसी१४४९६-१ (एमपीईजी-४ भाग १: सिस्टम्स) के खंड १३ को संशोधित और पूरी तरह से बदल देता है, जिसमें एमपीईजी-४ सामग्री के लिए फ़ाइल प्रारूप पहले निर्दिष्ट किया गया था। एमपीईजी -4 फ़ाइल प्रारूप विनिर्देश क्विकटाइम प्रारूप पर आधारित था जो 2001 में प्रकाशित हुआ था । एमपीईजी -4 फ़ाइल प्रारूप,संस्करण 1 को 2001 में आईएसओ / आईईसी 14496-1: 2001 के रूपमें प्रकाशित किया गया था, जो कि एक संशोधन है। एमपीईजी ४ भाग१: १९९९ में प्रकाशित सिस्टम विनिर्देश (आईएसओ/आईईसी१४४९६-१:१९९९)।  2003 में, MP4 फ़ाइल स्वरूप के पहलेसंस्करण को संशोधित किया गया और MPEG-4 भाग 14: MP4 फ़ाइल स्वरूप(ISO/IEC 14496 14:2003) द्वारा प्रतिस्थापित किया गया, जिसे आमतौर पर MPEG-4 फ़ाइल स्वरूप संस्करण 2 के नाम से जाना जाता है। MP4 फ़ाइल स्वरूप को ISO बेस मीडिया फ़ाइलस्वरूप ISO/IEC 14496 12:2004 में सामान्यीकृत किया गया था, जो समय आधारित मीडिया फ़ाइलों के लिए एक सामान्य संरचनाको परिभाषित करता है। यह बदले में परिवार में अन्य फ़ाइल स्वरूपों के आधार के रूप में उपयोग किया जाता है (उदाहरण के लिए MP4,3GP, Motion JPEG 2000)

उपयोगिता[संपादित करें]

एमपी4 का सबसे बड़ा फायदा है इसकी भण्डारण (स्टोरेज) क्षमता। उदाहरण के तौर पर एक पूरी हिन्दी फिल्म कम से कम दो सीडी में आती है। यदि फिल्म की संचिका को एमपी4 में बदला जाए, तो एक एमपी4 में कम से कम चार-पांच फिल्म आ सकती है। कई मामलों में जहां एमपी4 तकनीक लाभदायक है, तो इस तकनीक के कई नुकसान भी हैं। एमपी 4 की वजह से पाइरेसी की समस्या बढ़ी है। इन संचिकाओं को डाउनलोड करने में समय काफी लगता है। साथ ही इनके बीच-बीच में रुकने की समस्या भी आती है।

जैसे एमपीथ्री संचिका किसी म्यूजिक या ऑडियो संचिका की गुणवत्ता को प्रभावित किए बिना संपीड़ित कर बनाई जाती हैं। ठीक उसी तरह एमपी4 वीडियो संचिका को संपीड़ित कर बनाई जाती है। यह नई तकनीक वीडियो संचिका को इतना घटा देती है कि उन्हें स्टोर करना बेहद आसान हो जाता है। ऑडियो-वीडियो के लिए बनने वाली भारी-भरकम संचिका संपीड़ित होकर एमपी4 के रूप में आती है।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "MP3 & MP4 Full Form क्या होता है?". TechYukti (अंग्रेज़ी में). 2019-10-27. अभिगमन तिथि 2021-05-18.
  2. "Mp4 और Mp3 Full Form क्या है? 101% Genuine Guide". www.technicalcatch.com (अंग्रेज़ी में). 2021-03-27. अभिगमन तिथि 2021-05-18.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]