उद्गीथाचार्य

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

उद्गीथाचार्य ऋग्वेद के प्रमुख भाष्यकारों में एक थे। आचार्य उद्गीथ सायणाचार्य के पूर्ववर्ती थे। इनका निवास कर्नाटक के निकट था। आचार्य सायण ने अपने भाष्य में इनकी व्याख्या का उपयोग किया है।[1]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. वैदिक साहित्य और संस्कृति, आचार्य बलदेव उपाध्याय, शारदा संस्थान, वाराणसी, संस्करण-2006, पृष्ठ-47.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]