आहारीय पोटैशियम

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पोटाशियम एक भौतिक तत्त्व है, जो मानव शरीर के लिए अत्यधिक महत्त्वपूर्ण है। यह सदा ही किसी एसिड के साथ पाया जाता है। खनिज की कमी वाली मिट्टी खनिज की कमी वाला आहार उत्पन्न करती है, जिसका सेवन शरीर की कोशिकाओं से पोटाशियम लेने के लियें विवश करता है, जिससे सम्पूर्ण शरीर-रसायन विक्षुब्ध हो जाता है। पोटाशियम की कमी विशेष रूप से गर्भवती महिलाओं में मिट्टी, दीवार का चूना इत्यादि या विशिष्ट प्रकार की मिट्टी भी खाने की इच्छा पैदा करती है।

पोटाशियम, पेशियों, स्नायुओं की सामान्य शक्ति, हृदय की क्रिया और एन्जाइम प्रतिक्रियाओं के लियें आवश्यक है और शरीर के तरल सन्तुलन को नियमित करने में सहायक होता है। इसकी कमी से स्मरण-शक्ति का मांसपेशियों की कमजोरी, अनियमित हृदय-गति और चिड़चिड़ापन हो सकते है। इसकी अधिकता से हृदय की अनियमितायें हो सकती है। पोटाशियम कोमल ऊतकों के लिये ्वही कार्य करता है, जो कैल्शियम शरीर के कठोर ऊतकों के लिये है। पोटाशियम कोशिकाओं के भीतर और बाहर के तरलों का विद्युत-अपघटनी सन्तुलन बनाये रखने के लिये भी महत्वपूर्ण है। आयु के साथ पोटेशियम का अन्र्तग्रहण भी बढना आवश्यक होता है। पोटाशियम की कमी मानसिक सतर्कता के अभाव, पेशियों की थकावट विक्षाम करने में कठिनाई, सर्दी-जुकाम, कब्ज, मतली, त्वचा की खुजली और शरीर की मांसपेशियों में ऐठन के रूप में दिखाई होती है। सोडियम का बढा हुआ अन्र्तग्रहण शरीर की कोशिकाओं में से पोटैशियम की हानि को बढा देता है। अधिक पोटाशियम से रक्त-नलिकाओं की दीवारें कैल्शियम निक्षेप से मुक्त रखी जा सकती है।

विकसित देशों में सेब के आसव का सिरका पोटेशियम का एक उत्तम स्रोत है। यह शरीर की वसाओं को जलाने में मदद करता है। गायों पर किये गये प्रयोगों में सेब के आसव के सिरके से गायों में गठिया समाप्त हो गया अरुअ दूध का उत्पादन बढ गया।

स्रोत[संपादित करें]

गेंहूं के अंकुर, छुहारे, खमीर, आलू, मूंगफ़ली, बन्दगोभी, मटर, केले, सूखे मेवे, नारंगी और अन्य फ़लों के रस, खरबूजे के बीज, मुर्गे, मछली और सबसे अधिक पैपरिका और सेब के आसव का सिरका।