आस्ट्रेलिया दिवस

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
ऑस्ट्रेलिया दिवस
Australia Day.jpg
सिडनी बंदरगाह पर ऑस्ट्रेलिया दिवस, 2004
अन्य नाम स्थापना दिवस, आक्रमण दिवस
अनुयायी ऑस्ट्रेलिया के नागरिक और निवासियों द्वारा
प्रकार National
उद्देश्य 1788 में पहला ब्रिटिश जहाजी बेड़ा पोर्ट जैक्शन पहुँचा
अनुष्ठान सामूहिक मिलन, आतिशबाजी, पिकनिक, पुरस्कार वितरण
तिथि 26 जनवरी
आवृत्ति वार्षिक

आस्ट्रेलिया दिवस प्रतिवर्ष छब्बीस जनवरी को आस्ट्रेलिया की स्थापना के उपलक्ष्य में मनाया जाता है और यह वहाँ का आधीकारिक राष्ट्रीय दिवस है। आस्ट्रेलियाई सरकार एवं जनता बहुत दिन पहले से ही इस उत्सव को मनाने की योजना बनाने लगती है। यह दिवस ऑस्ट्रेलिया के सभी राज्यों में धूमधाम से मनाया जाता है। इस दिन संपूर्ण आस्ट्रेलिया में सार्वजनिक अवकाश होता है।

इतिहास[संपादित करें]

26 जनवरी सन 1788 में ब्रिटेन का पहला जहाज़ी बेड़ा सिडनी पहुंचा था और इस नयी भूमि पर ब्रिटिश झंडा फहरा कर ब्रिटिश अधिपत्य होने की घोषणा की गई थी। तब इसे न्यू हॉलैंड नाम दिया गया था। इस पहले जहाज़ी बेड़े में ब्रिटेन के अपराधियों से भरे हुए ग्यारह जहाज़ थे। ये जहाज़ ब्रिटेन से 13 मई 1787 को रवाना हुए थे। इनमें 1487 यात्री थे, जिनमें से 778 अपराधी थे। इस बेड़े के कप्तान आर्थर फिलिप थे। ब्रिटेन की योजना इस भूमि को बसाकर उसपर अपना अधिकार करने के साथ ही साथ ब्रिटेन की पहले से ही भरी हुई जेलों से अपराधियों को दूर भेजने की भी थी। इस यात्रा के दौरान सात बच्चों ने जन्म लिया कुछ लोग बीमार होकर मर गए। इस कठिन यात्रा में जहाज़ों को रोककर ताज़ा पानी और भोजन लिया गया। यात्रा के बीच रिओ डि जिनारियो में रुकने के बाद फ्लीट का आख़िरी पड़ाव 13 अक्टूबर को दक्षिण अफ्रीका का केप टाउन था और वहां से खाने के अतिरिक्त पौधे और जानवर भी लिए गए जिसमें गाय, बैल, सूअर, बकरी और भेड़ थे। अब सामने था अगाध समुद्र का विस्तार और कठिन यात्रा, जो जनवरी में ऑस्ट्रेलिया पहुँच कर समाप्त हुई। यह समुद्री यात्रा कुल मिलाकर 252 दिनों तक चली और इसे अपने समय की एक ऐतिहासिक यात्रा के रूप में माना जाता है। ये सभी जहाज़ 18-20 जनवरी के बीच न्यू साउथ वेल्ज़ में ‘बोटनी बे’ पहुंचे परन्तु वहां तेज़ हवाओं, ताज़े पानी की कमी और अच्छी मिट्टी के अभाव में वहां से निकल जाना पड़ा। हालांकि वहीं पर पहली बार ऑस्ट्रेलिया के आदिवासियों से आमना-सामना भी हुआ। इक्कीस जनवरी को नाव में बैठकर कप्तान फिलिप दूसरी जगह ढूँढने निकला, पोर्ट जैकसन उसे ठीक लगा और अंततः छब्बीस जनवरी 1788 को जहाज़ों ने वहाँ लंगर डाल दिया। कप्तान फिलिप ने इसे नया नाम दिया 'सिडनी कोव' और ब्रिटेन का झंडा फहरा कर औपचारिक रूप से उसे ब्रिटेन की बस्ती के रूप में घोषित कर दिया। तबसे लेकर आज तक ऑस्ट्रेलिया वासी इस नए राष्ट्र के उदय की खुशी में ऑस्ट्रेलिया डे मनाते हैं।

राष्ट्रीय समारोह[संपादित करें]

आस्ट्रेलिया डे पर देश के हर राज्य में विशेष उत्सवों का आयोजन किया जाता है, लोग सुबह से ही किसी भी सार्वजनिक स्थान पर इकट्ठे होने लगते हैं जैसे पार्क आदि में। झंडा फहराया जाता है, भाषण होता है, महत्वपूर्ण स्थानों पर परेड भी होती है, संगीत का आयोजन होता है, सरकार की तरफ से फ्री बार-बी-नाश्ता भी होता है, जिसमें लोग ब्रेड रोल सौसेज के साथ खाते हैं, बच्चों के लिए तरह-तरह के क्रिया-कलाप आयोजित किये जाते हैं, गैस भरे गुब्बारों की टोकरी में बैठकर बच्चे बहुत खुश होते हैं, नौका दौड़ होती है और पूरे दिन उत्सव का माहौल बना रहता है। रात को आतिशबाजी भी होती है। नए नागरिकों को शपथ दिलाई जाती है और नागरिकता प्रमाण पत्र दिए जाते हैं। ऑस्ट्रेलिया की राजधानी कैनबरा में ऑस्ट्रेलिया डे के अवार्ड्स दिए जाते हैं और पूरा दिन हँसते-हंसाते बीत जाता है। आजकल कुछ भारतीय मूल की संस्थाएं ऑस्ट्रेलिया और रिपब्लिक डे एक साथ मनाती हैं, भारतीय नाच गाने, भाषण के अलावा भारतीय मूल के विद्यार्थियों को हाई स्कूल में उच्च अंकों के लिए उपहार व सम्मान भी दिया जाता है।

आक्रमण दिवस के रूप में[संपादित करें]

ऑस्ट्रलिया के मूल निवासी आदिवासी यूरोपीय लोगों के आने के इस दिन को मूल आदिवासी संस्कृति और प्रकृति के विनाश के रूप में मनाते हैं। 1938 में इसे शोक दिवस (डे ऑफ़ मौर्निंग) नाम दिया गया। बाद में आस्ट्रेलियाई लोगों के आपत्ति करने के कारण इसका नाम बदलकर आक्रमण दिवस (इन्वेज़न डे) या ‘सर्वाइवल डे’ के नाम से पुकारा गया। हालांकि अब एबोरीजल्स स्वयं को ऑस्ट्रेलिया का ही एक हिस्सा मानते हैं और ऑस्ट्रलियन सरकार ने उनके हित में विशेष सुविधाएं उपलब्ध कराई हैं, परन्तु ये उनका इतिहास को याद रखने का एक प्रयास है।