आचार्य (बहुविकल्पी)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search


आचार्य शब्द के कई अर्थ हैं :

  1. अध्यापक या गुरू
  2. आध्यात्मिक गुरू (जो उपनयन कराता है तथा वेद की शिक्षा देता है)[1]
  3. किसी विद्वान व्यक्ति को सम्मान देने के लिए उसके नाम के पूर्व लगने वाला सम्मान सूचक शब्द
  4. पुरोहित या पारिवारिक पंडित जो घर में समस्त संस्कार व अनुष्ठान करवाता है।
  5. संगीतज्ञ, वंश या धर्म का प्रधान, बड़ा, बूढ़ा[2]
  6. पांडवों के गुरू द्रोण का उपनाम।[3]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. आप्टे, वामन शिवराम (1969). वामन शिवराम आप्टे, संपा॰. संस्कृत हिन्दी कोश. दिल्ली, पटना, वाराणसी भारत: मोतीलाल बनारसीदास. पृ॰ 141. |access-date= दिए जाने पर |url= भी दिया होना चाहिए (मदद)
  2. "शब्दकोश". शब्दकोश.कॉम. अभिगमन तिथि 28 जुलाई 2007.
  3. प्रसाद, कालिका (2000). राजबल्लभ सहाय, मुकुन्दीलाल श्रीवास्तव, संपा॰. बृहत हिन्दी कोश. वाराणसी भारत: ज्ञानमंडल लिमिटेड. पृ॰ 120. |access-date= दिए जाने पर |url= भी दिया होना चाहिए (मदद)