आकस्मिक संभोग

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

किशोरों और नौजवानों या किसी भी आयु के लोगों बीच आकस्मिक संभोग उस यौन सम्बंध को कहते हैं जिसमें किसी स्नेह भाव या लम्बे समय के रिश्ते की आस के बिना लोग इस प्रक्रिया का भाग बनते हैं। आधुनिक काल में बहुप्रचलित इंटरनेट से प्राप्त मानव सम्बंधों का अपार ज्ञान, विभिन्न डेटिंग ऐप, बाज़ार में उपलब्ध गर्भ निरोधक हर आयु के लोगों को, विशेष रूप से युवकों और युवतियों को इस दिशा में अपनी ओर आकर्षित करते हैं। [1]

दुष्प्रभाव[संपादित करें]

  • इस से यौन संचारित रोगों का खतरा बढ़ जाता है।
  • समाज में अवांछित गर्भावस्था के मामलों और नाजयज़ बच्चों के जन्म में वृद्धि हो सकती है।
  • सामाजिक अराजकता और मनोवैज्ञानिक समस्याएँ उत्पन्न हो सकती हैं।[1]

खेद की भावना[संपादित करें]

अचानक बने यौन संबंध में कई ऐसी वजहें होती हैं जिनसे दोनों पक्षों के लिए खेद और पछतावे की स्थिति पैदा हो सकती है। नैतिकता के स्तर पर भी खेद की भावना घर करती है और यौन संक्रमण का भी डर लगा रहता है।[2]

पश्चिमी देशों में शोध और वहाँ के लोगों के विचार[संपादित करें]

न्यूयॉर्क और कॉर्नेल यूनिवर्सिटी में 371 स्टूडेंट्स पर लगातार 9 महीने तक हुई शोधार्थियों के अध्ययन में ये नतीजा निकलकर आया कि युवकों के रवैये और मानव स्वभाव से यह स्पष्ट है कि यदि आकस्मिक संभोग से गैर-प्रतिबद्धता और आवश्यक प्रसन्नता की सामयिक प्राप्ति के कारण स्वीकार योग्य है। [3]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]