अपनापन (1977 फ़िल्म)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

{ सुषमा मायापुरी फिल्मी दुनिया फिल्मी कलियां माधुरी चित्रलेखा तथा विविध भारती के रेडियो प्रोग्राम से प्राप्त जानकारी |date=1978 हिंदी फिल्मी पत्रिकाओं द्वारा प्राप्त जानकारी}}

इस फिल्म को देखकर आने के बाद मेरी दीदी ने कितनी तारीफ की थी की इसे देखने की इच्छा मेरे मन में बड़ी बलवती हो गई थी उन्होंने बताया था की उच्च महत्वाकांक्षी आत्म केंद्रित करियर ओरिएंटेड बदमाश रीना राय अपने पति जितेंद्र को छोड़कर किसी पैसे वाले बुजुर्ग इफ्तेखार से शादी कर लेती है और अपने सो कॉल्ड कैरियर को ऊंचा उठाने की राह पर अपने बच्चे पति और सास को छोड़कर चल देती है बाद में जिसे सुलक्षणा पंडित और जितेंद्र अपनी मां के साथ पालता है और खुशहाल जिंदगी व्यतीत करता रहता है फिर कहानी में मोड़ तब आता है जब कुछ साल बाद अपने हॉस्टल में रहने वाले बच्चे से मिलने बोलो जाते हैं और वहां रीना राय भी अपने करोड़पति पति के साथ कितने मिलती है और जैसे ही वह सुलक्षणा पंडित और इस बच्चे के साथ हिल मिल जाती है तभी पता चलता है यह बच्चा तो जितेंद्र का है अर्थात रीना ही तो उस बच्चे की मां है तो उस बच्चे को पाने की खातिर रीना राय जाने किन हरकतों का अंजाम देती है परंतु एक बहुत अच्छे रोल में संजीव कुमार सभी दर्शकों को और साथ ही साथ रीना राय को इतना अच्छा पूरी फिल्म में समझाते हैं की वह अपनी खलनायिका की हरकतों को रोकती है और अपनी खुशी से जिस कैरियर की खातिर वह सब छोड़ दी रहती है उसे अपनी नियति समझकर खुद को अपने हाल पर छोड़ देती है इसे सिद्ध होता है की हर काम करने से पहले सोच विचार करना आवश्यक है क्योंकि समय निकलने के बाद पछतावा के सिवा आपको कुछ नहीं मिलेगा पिक्चर के शुरू में जिस बच्चे के समोसा से गंदे हाथों को वह हिकारत की नजर से देखती है अंत में वैसे ही समोसा से गंदे हाथों को अपने हाथों से पकड़कर इतना और रोती है प्यार करती है कि दर्शकों की आंखें द्रवित हो जाती है फिल्म के सभी गाने शानदार है आदमी मुसाफिर है आता है जाता है यह गीत हमेशा के लिए दर्शकों के मन में गूंजता रहता है थैंक्यू जे ओम प्रकाश लक्ष्मी प्यारे आनंद बक्शी और सभी कलाकार इस फिल्म में संजीव कुमार ने 35 40 की उम्र में 6570 वर्ष के बुजुर्ग का किरदार किया था और वैसा करने की हिम्मत कोई हीरो नहीं कर सकता इसीलिए संजीव कुमार अपनी एक्टिंग अदायगी के कारण अजर अमर हो गया है रामेश्वरी की जगह सुलक्षणा पंडित पढ़ा जाए

अपनापन
अपनापन (1977 फ़िल्म).jpg
अपनापन का पोस्टर
अभिनेता संजीव कुमार
प्रदर्शन तिथि(याँ) , 1977
देश भारत
भाषा हिन्दी

अपनापन १९७७ में बनी एक हिन्दी भाषा की फिल्म है। इस फिल्म की कहानी में नायक दिल्ली में नया आता है व उसका एक महिला के साथ प्यार हो जाता है। बाद में नायिका को पता चलता है की नायक पहले से शादीशुदा है व उसके एक बच्चा भी है।

संक्षेप[संपादित करें]

चरित्र[संपादित करें]

मुख्य कलाकार[संपादित करें]

दल[संपादित करें]

संगीत[संपादित करें]

रोचक तथ्य[संपादित करें]

परिणाम[संपादित करें]

बौक्स ऑफिस[संपादित करें]

समीक्षाएँ[संपादित करें]

नामांकन और पुरस्कार[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]