अनत्त

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बौद्ध धर्म में, अनत्ता (पालि) या अनात्मन् (संस्कृत) वह सिद्धान्त है जो कहता है कि जीवित प्राणियों में अविनाशी, शाश्वत आत्मा नहीं होती।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]