अध्यारोपण सिद्धान्त

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

अध्यारोपण सिद्धान्त (superposition principle) या अध्यारोपण गुण के अनुसार, किसी भी रैखिक निकाय में दो या दो से अधिक उद्दीपकों के कारण उत्पन्न कुल अनुक्रिया ((response) उन सभी उद्दीपकों के कारण उत्पन्न अलग-अलग अनुक्रियाओं के योग के बराबर होती है। उदाहरण के लिए यदि इनपुट A के कारण अनुक्रिया X उत्पन्न होती है तथा इनपुट B के कारण अनुक्रिया Y, तो इनपुट (A + B) के कारण उत्पन्न अनुक्रिया का मान (X + Y) होगा।

सन्दर्भ[संपादित करें]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]