अधिनियम

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

अधिनियम केन्द्र में संसद या राज्य में विधानसभा द्वारा पारित किसी विधान को कहते हैं। जब संसद या विधानसभा में किसी विषय को प्रस्तावित करते हैं तो उसे विधेयक या बिल कहते हैं। संसद या विधानसभा की सर्वसम्मति या सर्वाधिक मतों से पारित होने के बाद उस बिल या विधेयक को अधिनियम का दर्जा मिल जाता है।[1]

विधान के कई उद्देश्य हो सकते हैं: विनियमित करना, प्राधिकृत करना, उल्लिखित करना, प्रदान करना (धन), मंजूरी देना, अनुदान देना, घोषित करना या प्रतिबंधित करना। यह किसी गैर-विधायी अधिनियम के विपरीत हो सकता है जिसमें विधायी अधिनियम के तहत एक कार्यकारी या प्रशासनिक निकाय द्वारा या एक विधायी अधिनियम को लागू करने के लिए अपनाया जाता है।[2]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. See Article 289(3) of the Treaty on the Functioning of the European Union
  2. Wim Voermans (December 2009). "Is the European Legislator after Lisbon a real Legislature?". Legislacao Cadernos de Ciencia de Legislacao. 50: 391–413 [402]. Within the category of legal acts provided for by the TFEU, a distinction is made between legislative acts and non-legislative acts. Legislative acts are decisions adopted under the ordinary or special legislative procedure (Article 289(3) of the TFEU) and non-legislative acts are decisions that are adopted pursuant to delegation or for the purpose of implementing a legislative act (Articles 35 See Article 288 of the TFEU, last 290 and 291 of the TFEU)

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]