अंदाज़ (1949 फ़िल्म)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
अंदाज़
अंदाज़2.jpg
अंदाज़ का पोस्टर
निर्देशक महबूब ख़ान
निर्माता महबूब ख़ान
लेखक एस॰ अली राज़ा (संवाद)
पटकथा एस॰ अली राज़ा
कहानी शम्स लखनवी
अभिनेता दिलीप कुमार,
राज कपूर,
नर्गिस
संगीतकार नौशाद
संपादक शम्शूद्दीन कादरी
प्रदर्शन तिथि(याँ) 1949
देश भारत
भाषा हिन्दी

अंदाज़ 1949 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। इसका निर्देशन और निर्माण महबूब ख़ान ने किया और नौशाद का संगीत है।[1] इसमें प्रेम त्रिकोण में दिलीप कुमार, नर्गिस और राज कपूर हैं। गीत मजरुह सुल्तानपुरी द्वारा लिखें गए। अपने जारी होने के समय, अंदाज़ सबसे ज्यादा कमाई करने वाली भारतीय फिल्म बनी थी, जब तक कि उसी साल राज कपूर की बरसात ने इसका रिकॉर्ड तोड़ दिया।

संक्षेप[संपादित करें]

नीना (नर्गिस) एक अमीर व्यापारी (मुराद) की बिगड़ैल बेटी है। एक दिन घुड़सवारी करते हुए, वह अपने घोड़े पर नियंत्रण खो देती है और दिलीप (दिलीप कुमार) नाम के एक युवक द्वारा उसे बचाया जाता है। दिलीप तुरंत उसे पसंद करने लगता है और अक्सर उसके घर जाने लगता है जहां वह नीना की मित्र शीला (कुक्कू) के साथ अपने गायन के साथ मनोरंजन करता है। नीना के पिता ने इसे नापसंद करते हैं; वह उसे यह महसूस कराने की कोशिश करते हैं कि दिलीप के साथ इतना समय बिताना बुद्धिमानी नहीं है, क्योंकि दिलीप उनकी दोस्ती को प्यार के रूप में गलत तरीके से देख सकता है। शीला की जन्मदिन की पार्टी के दिन, दिलीप को पता चलता है कि वह नीना के साथ प्यार में पड़ गया है और उसे ये बताने की कोशिश करता है। हालांकि, उसी दिन त्रासदी हो जाती है जब नीना के पिता दिल के दौरे से मर जाते हैं, जिससे नीना बर्बाद हो जाती है। दिलीप उसे सहानुभूति देता है और नीना उसे अपने पिता के व्यवसाय की देखभाल करने की ज़िम्मेदारी और अपने घर में एक अतिरिक्त कमरे में रहने देती है।

दिलीप ने नीना को उसकी भावनाओं के बारे में विश्वास दिलाने की कोशिश की, लेकिन जब उसका मंगेतर राजन (राज कपूर) लंदन से लौट आया तो वो चौंक गया। अंततः राजन और नीना शादी कर लेते हैं, और दिलीप भी शादी के दिन नीना के लिए अपनी असली भावनाओं को प्रकट करता है। दिलीप के रहस्योद्घाटन से नीना चौंक गई क्योंकि वह केवल उसे दोस्त के रूप में सोचती है। दिलीप जाने की कोशिश करता है, लेकिन राजन के किसी भी संदेह से बचने के लिए वहीं रहता है।

कुछ साल बाद, राजन और नीना बेटी के माता-पिता बनते हैं। अपनी बेटी के जन्मदिन पर, दिलीप उपहार के साथ आता है। जब बिजली चली जाती है और उनके घर में अंधेरा हो जाता है। तब नीना गुप्त रूप से दिलीप को यह बताने की कोशिश करती है कि वह उससे प्यार नहीं करती है और उसे चले जाना चाहिए। वो इस बात से अनजान है कि उसने यह सब राजन से कहा है। राजन ने नीना पर दिलीप के साथ संबंध रखने का आरोप लगाया और दिलीप ने राजन की गलतफहमी को दूर करने की कोशिश की। वो उसे मनाने की कोशिश करता है कि वह नीना के बारे में गलत सोच रहा है। क्रोध में, राजन ने दिलीप पर हमला किया और उसे बेहोश कर दिया। वह घर छोड़ देता है और अपनी बेटी को अपने साथ ले जाता है। नीना दिलीप की सहायता के लिए आती है और डॉक्टर को उसे बचाने के लिए कहती है। जब दिलीप जागता है, तो वह आधा पागल होता है और नीना से छेड़छाड़ करने की कोशिश करता है। वो जोर देकर कहता है कि वह वास्तव में उससे प्यार करती है। नीना एक बंदूक उठाती है और दिलीप को मार देती है और फिर कैद की जाती है।

राजन ने दिलीप के साथ नीना के संबंध के बारे में और उसने अपनी बेवफाई को छिपाने के लिए उसे कैसे मार दिया अदालत के समक्ष रखा। जबकि नीना न्यायाधीश के फैसले का इंतजार कर रही होती है, राजन अपनी बेटी को बताता है कि वह वापस नहीं आ रही है और उस गुड़िया को तोड़ देता है जिसे दिलीप ने उसे जन्मदिन पर दिया था। गुड़िया के अंदर उसे नीना के लिए लिखा गया एक पत्र मिलता है, जिसमें कहा गया कि राजन भाग्यशाली है जिसे वह प्यार करती है और उसने अब यह महसूस किया है। पत्र पढ़ने पर, राजन को पता चलता है कि वह नीना के बारे में गलत था और नीना केवल उससे प्यार करती थी। न्यायाधीश ने नीना को उम्रकैद की सजा सुनाई और राजन और उनकी बेटी उसे जेल ले जाने से पहले देखने आए।

मुख्य कलाकार[संपादित करें]

संगीत[संपादित करें]

सभी गीत मजरुह सुल्तानपुरी द्वारा लिखित; सारा संगीत नौशाद द्वारा रचित।

क्र॰शीर्षकगायकअवधि
1."तोड़ दिया दिल मेरा तूने"लता मंगेश्कर3:32
2."उठाये जा उनका सितम"लता मंगेश्कर2:53
3."डर ना मोहब्बत कर ले"लता मंगेश्कर, शमशाद बेगम3:05
4."हम आज कहीं दिल खो"मुकेश3:13
5."झूम झूम के नाचो आज"मुकेश3:13
6."मेरी लाड़ली रे बनी है"लता मंगेश्कर3:19
7."यूँ तो आपस में बिगड़ते हैं"लता मंगेश्कर, मोहम्मद रफ़ी3:20
8."तू कहे अगर जीवन भर"मुकेश3:23
9."कोई मेरे दिल में"लता मंगेश्कर2:55
10."टूटे ना दिल टूटे ना"मुकेश2:42

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "ट्रेजडी किंग का एकछत्र राज". दैनिक जागरण. 30 नवंबर 2013. मूल से 12 फ़रवरी 2014 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 12 दिसम्बर 2018.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]