अंगिरा मैन्यु

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

अंगिरा मैन्यु अथवा अह्रिमान् पारसी धर्म में नकारात्मक अथवा विनाशक शक्तियों के स्वामी के रूप में वर्णित है। यह अहुर मज़्द के विरोधी देवता के रूप में स्वीकार किया गया है। यह पारसी धर्म की मौलिक संकल्पना माना जाता है,[1] हालाँकि, अन्य प्राचीन धर्मों में वर्णित द्वैतवाद की भांति इस अहुर मज़्द - अह्रिमान् रुपी संकल्पना को भी ईश्वर-शैतान, शुभ-अशुभ, सत्य-असत्य या पाप-पुण्य की शक्तियों के द्वैतवाद के रूप में देखा जाता है।[2] अहुर मज़्द को जीवन, प्रकाश और नैतिकता का स्रोत माना गया है और अहिरमन को अन्धकार तथा मृत्यु का।[3]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Duchesne-Guillemin, Jacques (1982), "Ahriman", Encyclopaedia Iranica, 1, New York: Routledge & Kegan Paul, पपृ॰ 670–673
  2. Shobha Nigam. Pashchatya Darshan Ke Sampraday. Motilal Banarsidass Publishe. पपृ॰ 77–. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-81-208-2469-0.
  3. Arjuna Chaube Kaśyapa (1952). Viśva kē itihaāsa aura sabhyatā kā paricaya. Rājarājeśvarī Pustakālaya.