सूंस तारामंडल

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
सूंस (डॅल्फ़ाइनस) तारामंडल
हबल अंतरिक्ष दूरबीन द्वारा खींची गई सूंस तारामंडल में दिखने वाले ऍन॰जी॰सी॰ ६९३४ नामक गोल तारागुच्छ की तस्वीर

सूंस या डॅल्फ़ाइनस तारामंडल खगोलीय गोले के उत्तरी भाग में दिखने वाला एक तारामंडल है जो खगोलीय मध्यरेखा के काफ़ी समीप पड़ता है। यह अंतर्राष्ट्रीय खगोलीय संघ द्वारा जारी की गई ८८ तारामंडलों की सूची में शामिल है और दूसरी शताब्दी ईसवी में टॉलमी ने जिन ४८ तारामंडलों की सूची बनाई थी उनमें भी शामिल था।

अन्य भाषाओँ में[संपादित करें]

सूंस तारामंडल को अंग्रेज़ी में "डॅल्फ़ाइनस कॉन्स्टॅलेशन" (Delphinus constellation, 'ऍ' स्वर के उच्चारण पर ध्यान दें) कहा जाता है। सूंस उसी जलीय स्तनधारी प्राणी का हिंदी नाम है जिसे अंग्रेज़ी में "डॉल्फ़िन" कहते हैं।

तारे और अन्य वस्तुएँ[संपादित करें]

सूंस तारामंडल में ५ मुख्य तारे हैं, हालांकि वैसे इसमें १९ तारों को बायर नाम दिए जा चुके हैं। इनमें से ५ के इर्द-गिर्द ग़ैर-सौरीय ग्रह परिक्रमा करते हुए पाए गए हैं। इस तारामंडल के मुख्य तारे और अन्य वास्तुएँ इस प्रकार हैं -[1]

  • अल्फ़ा डॅल्फ़ाइनाइ (α Delphini) - यह एक B9 IV श्रेणी का +३.७७ मैग्नीट्यूड (चमक) वाला तारा है। दूरबीन से देखने पर यह वास्तव में ७ तारों का एक बहु तारा मंडल ज्ञात हुआ है, जिनमें से दो तो एक-दूसरे से गुरुत्वाकर्षण से बंधे हुए हैं और बाक़ी केवल देखने में उनके नज़दीक लगते हैं। इस तारे को सुआलोसिन (Sualocin) भी कहते हैं।
  • बेटा डॅल्फ़ाइनाइ (β Delphini) - यह एक F5 IV श्रेणी का +४ मैग्नीट्यूड वाला तारा है। यह भी वास्तव में ५ तारों का बहु तारा मंडल है, जिनमें से दो गुरुत्वाकर्षण से बंधे हुए हैं और बाक़ी केवल दिखने में समीप हैं। इस तारे को रोटानॅव (Rotanev) भी कहते हैं।
  • गामा डॅल्फ़ाइनाइ (γ Delphini) - यह एक दोहरा तारा है जिनमें से एक (γ1 Del) F7 V श्रेणी और +५.१४ मैग्नीट्यूड का तारा है और दूसरा (γ2 Del) K1 IV श्रेणी और +४.२७ मैग्नीट्यूड का तारा है।
  • डॅल्टा डॅल्फ़ाइनाइ (δ Delphini) - यह एक A7 III श्रेणी और +४.४३ मैग्नीट्यूड का तारा है।
  • ऍप्सिलन डॅल्फ़ाइनाइ (ε Delphini) - यह एक B6 III श्रेणी और +४ मैग्नीट्यूड का तारा है। इस तारे को डॅनॅब डल्फ़िम (Deneb Dulfim, यानि "सूंस की दुम") भी कहते हैं।
  • आर डॅल्फ़ाइनाइ (R Delphini) - यह एक परिवर्ती तारा है जिसका मैग्नीट्यूड +७.६ और +१३.८ के बीच बदलता रहता है। याद रहे की मैग्नीट्यूड एक उल्टा माप है: यह जितना अधिक हो तारे की चमक उतनी ही कम होती है।
  • ऍन॰जी॰सी॰ ६८९१ (NGC 6891) - यह एक ग्रहीय नीहारिका (नेब्युला) है।
  • ऍन॰जी॰सी॰ ६९३४ (NGC 6934) - यह एक गोल तारागुच्छ है।
  • ऍन॰जी॰सी॰ ७००६ (NGC 7006) - यह भी एक गोल तारागुच्छ है, जो पृथ्वी से बहुत ही दूर १,८५,००० प्रकाश वर्ष की दूरी पर स्थित है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Ian Ridpath and Wil Tirion (2007). Stars and Planets Guide, Collins, London. ISBN 978-0007251209. Princeton University Press, Princeton. ISBN 978-0691135564.