मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
ऍ की ध्वनि सुनिए
ए की ध्वनि सुनिए - यह ऍ से भिन्न है
ऐ की ध्वनि सुनिए - यह भी ऍ से भिन्न है

देवनागरी लिपि का एक वर्ण है। अन्तर्राष्ट्रीय ध्वन्यात्मक वर्णमाला (अ॰ध॰व॰) में इसके उच्चारण को ɛ के चिन्ह से लिखा जाता है। इसका प्रयोग अक्सर अंग्रेज़ी के शब्दों को लिखने के लिए किया जाता है। इसकी ध्वनि हिंदी के शब्दों में भी पाई जाती है लेकिन प्रथानुसार उन्हें भिन्न तरीक़े से लिखा जाता है।

अर्धविवृत प्रसृत अग्रस्वर[संपादित करें]

'ऍ' को भाषाविज्ञान के नज़रिए से "अर्धविवृत प्रसृत अग्रस्वर" कहा जाता है। अंग्रेजी में इसे "ओपन-मिड फ्रंट अनराउंडिड वावल" (open-mid front unrounded vowel) कहते हैं।

उच्चारण[संपादित करें]

यह स्वर उच्चारण में '' और '' के बीच का स्वर है। उदाहरण के लिए, अंग्रेज़ी के तीन शब्दों को देखा जा सकता है:

  • : इसका प्रयोग "pain" (अर्थ: दर्द) शब्द में होता है, जिसे 'पेन' उच्चारित किया जाता है। इसे अ॰ध॰व॰ में /pen/ लिखा जाता है।
  • : इसका प्रयोग "pen" (अर्थ: क़लम) शब्द में होता है, जिसे 'पॅन' उच्चारित किया जाता है। इसे अ॰ध॰व॰ में /pɛn/ लिखा जाता है।
  • : इसका प्रयोग "pan" (अर्थ: तवा) शब्द में होता है, जिसे 'पैन' उच्चारित किया जाता है। इसे अ॰ध॰व॰ में /pæn/ लिखा जाता है।

हिंदी शब्दों में ऍ की ध्वनि का प्रयोग[संपादित करें]

हिंदी शब्दों में भी 'ऍ' की ध्वनि इस्तेमाल होती है लेकिन इसे प्रथानुसार लिखा नहीं जाता। हिंदी में अक्सर यदि 'ह' से पहले 'अ' की ध्वनि हो तो मानक रूप से उसे 'ऍ' उच्चारित किया जाता है।[1] उदाहरण के लिए:

  • कहना: आधुनिक मानक हिंदी में इसका उच्चारण 'कॅहना' होता है।[2]
  • रह: आधुनिक मानक हिंदी में इसका उच्चारण 'रॅह' होता है।[2]
  • शहर: इसका मानक उच्चारण 'शॅहॅर' होता है।
  • नहटौर: यह उत्तर प्रदेश के बिजनौर ज़िले का एक नगर है जिसे 'नॅहटौर' उच्चारित किया जाता है और अंग्रेजी में लिप्यन्तरण करके 'Nehtaur' लिखा जाता है।

यदि इन्हें 'ऍ' की बजाए अन्य ध्वनि से बोला जाए तो उसे क्षेत्रीय लहजा माना जाता है:

  • कहना - यदि इसे वास्तव में 'अ' से उच्चारित किया जाए तो इसे पूर्वी हिंदी लहजा समझा जाता है। मानक हिंदी के साथ-साथ, अमिताभ बच्चन अपनी फ़िल्मों और गानों में इसका प्रयोग अक्सर किया करते थे।
  • केहना - यदि इसे 'ए' से उच्चारित किया जाए तो इसे गुजराती लहजा समझा जाता है। अंग्रेज़ी में इस से सम्बंधित एक ग़लती "हॅलो" (hello) को "हेलो" (helo) उच्चारित करना है।[3]
  • कैहना - यदि इसे 'ऐ' से उच्चारित किया जाए तो इसे पंजाबी लहजा समझा जाता है, हालांकि इसमें अक्सर 'ह' की ध्वनि भी हट जाती है (यानी शब्द 'कैना' सा प्रतीत होता है)।

ग़लत उच्चारण[संपादित करें]

अंग्रेज़ी के मूल के शब्दों में 'ऍ' की ध्वनी का उच्चारण 'ए' करने से ग़लतफ़हमियाँ हो सकती है। मसलन "डू यू हैव अ पॅन" ("do you have a pen", अर्थ: "क्या तुम्हारे पास कलम है") को ग़लती से "डू यू हैव अ पेन" ("do you have a pain", अर्थ: "क्या तुम्हें कोई दर्द हो रहा है") कहने से प्रशन का पूरा अर्थ ही बदल जाता है।

हिन्दी और मराठी में अंतर[संपादित करें]

'ऍ' और 'ऐ' के प्रयोग हिन्दी और मराठी में भिन्न होते है। मराठी में (पूर्वी हिंदी की तरह) 'ऐ' का उच्चारण 'अइ' से मिलता संयुक्त स्वर (डिप्थाँग) होता है।[4] उदाहरण के लिए मराठी में 'बैल' को 'बइल' और 'ऐनक' को 'अइनक' से मिलता हुआ पढ़ा जाता है। ठीक ऐसा ही पूर्वी हिन्दी क्षेत्रों में होता है।[1][5] मराठी में 'ऍ' का प्रयोग मानक हिन्दी के 'ऐ' स्वर के बराबर होता है।

इन्हें भी देखिये[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Michael C. Shapiro. "A Primer of modern standard Hindi: Language and Linguistics Series". Motilal Banarsidass Publ., 1989. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9788120805088. http://books.google.com/books?id=vvuP8sD1wloC. "... In normative varieties of Western Hindi, the first of these has approximately the quality of the vowel in English cat. In Eastern Hindi, however, this vowel may be noticeably diphthongal, sounding like a rapid sequence of an a or ā and an i-like sound ... The vowel अ a frequently receives an irregular pronunciation when adjacent to ह h. In one extremely common variant the अ a preceding the ह h is realized as [ɛ] (the vowel in English get) ..." 
  2. Bal Govind Misra. "Historical phonology of modern standard Hindi: Proto-Indo-European to the present". Cornell University, 1967. http://books.google.com/books?id=KFk-AAAAIAAJ. "... OH saha 'to bear, tolerate' > pre-MSH */seh/ > MSH /seh/: OH raha 'be, live' > pre -MSH */rah/ > MSH /reh/ ..." 
  3. Radha Sharma (Jul 22, 2006). "Now, they want to shed Gujarati accent". http://articles.timesofindia.indiatimes.com/2006-07-22/ahmedabad/27795269_1_accent-gujarati-english. "... I would say helo instead of 'hello' in a typically Kathiawadi accent, provoking giggles ..." 
  4. Rajeshwari Pandharipande. "MarathiDescriptive grammarsCroom Helm descriptive grammars series". Psychology Press, 1997. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9780415003193. http://books.google.com/books?id=JntxV7MO7cIC. "... ..." 
  5. Colin P. Masica. "The Indo-Aryan Languages". Cambridge University Press, 1993. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9780521299442. http://books.google.com/books?id=J3RSHWePhXwC. "... The symmetrical ten-vowel system of Hindi and Punjabi (/i, I, e, æ; a, ə; u, U, o, ɔ/ - often represented as /ï, i, e, ai; ā, a; ū, u, o, au/) is considered the normative NIA system ... The diphthongs ai, au coventionally counted as part of the Sanskrit inventory of "vowels" (though not of NIA inventories, being properly relegated to the category of diphthongs), are monophthongized to æ, ɔ in these languages, although in eastern (i.e. Bihari) pronunciations of common Hindi (and in some acrolectal pronunciations of tatsamas) a diphthongal element is retained ..."