यूरोपीय नाभिकीय अनुसंधान संगठन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
स्विटजरलैंड से फ्रांस की तरफ देखते हुए सर्न का विहंगम दृश्य
European Organization
for Nuclear Research
Organisation Européenne
pour la Recherche Nucléaire

सर्न के सदस्य देश
स्थापना २९ सितम्बर 1954
प्रकार कण त्वरक प्रयोगशाला
मुख्यालय जिनेवा
सदस्यता 20 सदस्य देश एवं 8 पर्यवेक्षक देश
रॉबर्ट ऐमार (Robert Aymar)
जालपृष्ठ

सर्न (CERN = Organisation Européenne pour la Recherche Nucléaire (फ्रेंच में) = यूरोपीय नाभिकीय अनुसंधान संगठन) कण भौतिकी (particle physics) की संसार की संसार की सबसे बड़ी प्रयोगशाला है। यह फ्रान्स और स्विट्जरलैण्ड की सीमा पर जिनेवा के उत्तर-पश्चिमी उपनगरीय क्षेत्र में है। इस संस्था में बीस यूरोपियन सदस्य देश हैं। इस समय लगभग २६०० स्थायी कर्मचारी एवं दुनिया भर के कोई ५०० विश्वविद्यालयों एवं ८० राष्ट्रों के लगभग ७९३० वैज्ञानिक एवं अभियन्ता कार्यरत हैं।

भारत भी इसका पर्यवेक्षक देश है।


कार्य एवं उद्देश्य[संपादित करें]

इसका प्रमुख उद्देश्य उच्च ऊर्जा भौतिकी से सम्बन्धित अनुसंधान करने के लिये विभिन्न प्रकार के कण त्वरकों का विकास करना है।

सर्न के त्वरकों का जाल एवं परस्पर सम्बन्ध

सार्वजनिक प्रदर्शन[संपादित करें]

एक आम आदमी के लिए सर्न में निम्न सुविधाएँ उपलब्द्ध हैं:

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

वाह्य सूत्र[संपादित करें]