त्वचा का रंग बदलना

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
त्वचा का रंग बदलना
वर्गीकरण व बाहरी संसाधन
रोग डाटाबेस 21207
एमईएसएच D017496

त्वचा के हाइपोपिगमेंटेशन के तीन मुख्य प्रकार होते हैं: विटिलिगो, पोस्‍ट इनफ्लेमेटरी हाइपोपिगमेंटेशन तथा रंजकहीनता। विटिलिगो को अरंजक क्षेत्रों के आधार पर वर्गीकृत किया जाता है। यह आमतौर पर सीमांकित एवं अक्सर सुडौल होते है जो मेलेनोसाइट्स (त्वचा के रंग के लिए जिम्मेदार कोशिकाएं) की कमी के कारण होते हैं। अरंजकता एक या दो स्थानों पर हो सकता है या ज्‍यादातर त्वचा की सतह को ढँक सकता है। विटिलिगो वाले क्षेत्रों में बाल सामान्यतः सफेद होते है। त्वचा के घाव वुड्स प्रकाश डालने पर उभरते हैं।

प्रज्वलन या प्रदाह बाद की हाइपो रंजकता कुछ किस्म के प्रदाह विकारों के भरने (उदाहरण डर्मिटाइटिस), जलने एवं त्वचा संक्रमण के बाद होता है। यह चोट के निशानों तथा एट्रोफिक त्वचा से संबंधित है। त्वचा की रंजकता कम होती है, लेकिन विटिलिगो समान दूधिया सफेद नहीं होती है। कभी स्वतःस्फूर्त पुन:रंजकता हो सकती है।

रंजकहीनता एक दुर्लभ ऑटोसोमल रिसेसिव इनहेरिटेड विकार है जिसमें मेलेनोसाइट्स उपस्थित होता हैं लेकिन मेलेनिन नहीं बनाते (पदार्थ जो त्वचा को रंगता है)। वे विभिन्न रूपों के होते हैं। टाइरोसिनेस-निगेटिव रंजकहीनता में बाल सफेद होते हैं, त्वचा पीली, एवं आंखें गुलाबी होती है; नायस्‍टेग्‍मस् एवं अपवर्तन की त्रुटियाँ एक सामान्य बात हैं। उन्‍हें सूर्य के प्रकाश से बचना चाहिए, धूप के चश्मे का उपयोग करना चाहिए, दिन के समय सनस्क्रीन एस.पी.एफ़ >= 15 का इस्तेमाल करना चाहिए। इन तीन मुख्य प्रकार के हाइपोपिगमेंटेशन के अलावा त्वचा की एक सामान्य स्थिति जो सामान्यत: त्वचा मे अरंजकता करती है, पिट्रियासिस के रूप में जानी जाती है।