ज़ेटा पपिस तारा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
ज़ेटा पपिस का एक काल्पनिक चित्रण

ज़ेटा पपिस, जिसका बायर नाम भी यही (ζ Puppis या ζ Pup) है, पपिस तारामंडल का सब से रोशन तारा और पृथ्वी से दिखने वाले तारों में से ६२वाँ सब से रोशन तारा है। पृथ्वी से देखी गई इसकी चमक (सापेक्ष कान्तिमान) +२.२१ मैग्नीट्यूड है और यह पृथ्वी से लगभग १,०९० प्रकाश वर्ष की दूरी पर है। यह एक O श्रेणी का अत्यंत गरम नीला महादानव तारा है।

अन्य भाषाओँ में[संपादित करें]

ज़ेटा पपिस तारे को कभी-कभी नेऑस (Naos) भी कहते है। यह यूनानी भाषा के "नाउस" (ναύς) शब्द से लिया गया है, जिसका अर्थ "नाव" है। क्योंकि हिंदी, संस्कृत और यूनानी सभी हिंद-यूरोपीय भाषाएँ हैं "नाव" और "नाउस" वास्तव में सजातीय शब्द हैं। अरबी में इस "सुहेल हदार" (ur) है, जिसका मतलब "गरजता चमकता वाला" है।

विवरण[संपादित करें]

ज़ेटा पपिस एक O5 Iaf श्रेणी का नीला महादानव तारा है। इसका द्रव्यमान हमारे सूरज के द्रव्यमान का ६० गुना और व्यास हमारे सूरज के व्यास का १७ गुना है। इसकी निहित चमक (निरपेक्ष कान्तिमान) सूरज की लगभग ३,६०,००० गुना है, यानि सूरज से तीन लाख गुना से भी ज़्यादा। यह आकाशगंगा (हमारी गैलेक्सी) के सब से रोशन तारों में गिना जाता है। इसका सतही तापमान ३४,३२६ कैल्विन है, जो बहुत ही गरम है और जिस वजह से यह गहरे नीले रंग से चमकता है। इस तारे की आयु केवल ४० लाख साल है। तुलना के लिए हमारे सूरज की उम्र ४.५७ अरब साल है।

ज़ेटा पपिस की चमक इतनी भयंकर है की अगर सूरज की जगह यह होता तो पृथ्वी पिघलकर उबलने लगती और घरों-दीवारों से भी इसकी प्रतिबिंबित चमक किसी काले चश्मे पहने मनुष्य को क्षणों में अँधा कर देती। अगर यह पृथ्वी से इतना दूर होता जितना व्याध तारा है तो आकाश में इसकी चमक एक-चौथाई चाँद के बराबर होती और उस से वस्तुओं की ज़मीन पर परछाइयाँ पड़ती।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]