गाउस का नियम (चुंबकत्व)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भौतिकी में चुंबकत्व से संबन्धित गाउस का नियम मैक्सवेल के चार समीकरणों में से एक है। (गाउस का स्थिरविद्युत से संबंधित नियम भी गाउस के चार समीकरणों में शामिल है)

इस नियम के अनुसार चुंबकीय क्षेत्र B का डाइवर्जेंस शून्य होता है। इसी को दूसरे शब्दों में कह सकते हैं कि चुंबकीय एकध्रुव (मोनोपोल्स) हो ही नहीं सकते। चुंबकत्व में सबसे मूल या आधारभूत चीज चुंबकीय द्विध्रुव है।

अवकलन रूप में (Differential form)[संपादित करें]

\nabla\cdot\mathbf{B} = 0

जहाँ

\nabla \cdot डाइवर्जेंस आपरेटर है,
B चुंबकीय क्षेत्र है।

समाकलन रूप में (Integral form)[संपादित करें]

\oint_S \mathbf{B} \cdot \mathrm{d}\mathbf{A} = 0

जहाँ,

S कोई भी बंद तल है,
dA एक सदिश है जिसका मान तल S का एक अनंतसूक्ष्म क्षेत्र है एवं दिशा S के लंबवत बाहर की तरफ होती है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]