खण्डेला

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

खण्डेला[संपादित करें]

राजस्थान (Rajasthan) राज्य के सीकर (Sikar) जिलान्तर्गत खण्डेला (Khandela) कस्बा अवस्थित है। खण्डेला महाभारत काल खण्ड ईला (वह भूमी जो दो खण्डों में विभक्त हो) के नाम से जाना जाता था। यह स्थान अरावली की पहाडियों से घिरा हुआ है । काटली नदी का उद्गम यही से हुआ है । काटली नदी कस्बे को दो भागों में बांटती है ।खण्ड+ईला शब्द आगे चलकर खण्डेला हो गया । यहां निर्वाणों ओर शेखावत राजपूतों का राज्य रहा । वीर राजाओं में केसरी सिंह का नाम प्रमुखता से लिया जाता है ।उनके द्वारा किये युद्ध का वर्णन केसरी सिंह रासो नामक ग्रन्थ में है । इतिहास विशेषज्ञ पं झाबरमल शर्मा, बाघसिंह नेवरी ओर साहित्यकार रघुनाथ प्रसाद तिवारी 'उमंग' ने खण्डेला के इतिहास लिखे हैं। कर्नल टांड ने भी खण्डेला के विषय में विस्तृत रूप से लिखा है ।अतित में खण्डेला गोटा ओर लकडी़ के खिलोनों के लिये भारत में प्रसिद्ध रहा है । भक्त माल ग्रन्थ में वर्णित शेखावाटी की मीरा कर्मैती बाई का जन्म भी खण्डेला में ही हुआ था । कवियों में शिवानन्द भिन्डा, शिवदीन राम जोशी के नाम आदर से लिया जाता है ।