आकाश

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
ऊँचाई से वायुयान द्वारा आकाश का दृष्य

किसी भी खगोलीय पिण्ड (जैसे धरती) के वाह्य अन्तरिक्ष का वह भाग जो उस पिण्ड के सतह से दिखाई देता है, वही आकाश (sky) है। अनेक कारणों से इसे परिभाषित करना कठिन है। दिन के प्रकाश में पृथ्वी का आकाश गहरे-नीले रंग के सतह जैसा प्रतीत होता है जो हवा के कणों द्वारा प्रकाश के प्रकीर्णन के परिणामस्वरूप घटित होता है। जबकि रात्रि में हमे धरती का आकाश तारों से भरा हुआ काले रंग का सतह जैसा जान पड़ता है।

रंग[संपादित करें]

आसमान का रंग उसके नही होते है। सूर्य से आने वाले प्रकाश जब आकाश में उपस्थित धुल इत्यादि से मिलता है तो वह फैल जाता है। नीला रंग का तरगधेर्य के कारण अन्य रंगो कि अपेक्षा अधिक फैलता है।

अन्य नाम[संपादित करें]

  • नभ
  • आसमान
  • अम्बर
  • व्योम
  • निलाम्बर
  • गगन

भारतीय धर्म-दर्शन में आकाश[संपादित करें]

प्राचीन भारतीय धर्म ग्रंथों के अनुसार सृष्टि का निर्माण पांच तत्वों से हुआ माना जाता है जिनमें कि एक आकाश है (बाकी चार हैं-पृथ्वी, वायु, जल, अग्नि)। यदि तुलना की जाए तो भारतीय धर्म-दर्शन में वर्णित आकाश की अवधारणा वर्तमान वैज्ञानिक ज्ञान और शब्दावली के एक अयाम "स्थान" (स्पेस) के निकट प्रतीत होता है। इसका एक उदाहरण अष्टावक्र गीता का निम्न श्लोक हैं-

एकं सर्वगतं व्योम बहिरन्तर्यथा घटे | नित्यं निरन्तरं ब्रह्म सर्वभूतगणे तथा ||१- २०|| [1]

जिस प्रकार एक ही सर्वव्यापक आकाश घड़े के अंदर व बाहर है,उसी प्रकार सदा स्थिर (सदा विद्यमान) व सदा गतिमान (सदा रहने वाला) ब्रह्म सभी भूतों (all existence) में है।

तज्ज्ञस्य पुण्यपापाभ्यां स्पर्शो ह्यन्तर्न जायते | न ह्याकाशस्य धूमेन दृश्यमानापि सङ्गतिः ||४- ३|| [2]

उसे(ब्रह्म को) जानने वाला अपने अंतः में पाप व पुण्य को स्पर्श नहीं करता, यह ऐसा ही है जैसे ऊपर से कितना ही प्रतीत हो किंतु वास्तव में धुआं कभी आकाश को स्पर्श नहीं करता।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. अष्टावक्र गीता, भाग १, श्लोक-२०
  2. अष्टावक्र गीता, भाग ४, श्लोक-३