अमरीकी क्रान्ति

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
दिलावर नदी को नाव द्वारा पार करते जनरल जार्ज़ वाशिंगटन व उनके सैनिकों की टोली

अमरीकी क्रान्ति १७७५ से १७८३ के दौरान जनरल जार्ज वाशिंगटन द्वारा अमरीकी सेना का नेतृत्व करते हुए की गयी थी। वाशिंगटन ने अमरीकन उपनिवेशों को एकीकृत करके संयुक्त राज्य अमरीका का वर्तमान स्वरूप प्रदान किया। बाद में उन्हें १७८९ में अमरीका का पहला राष्ट्रपति चुना गया। १४ दिसम्बर १७९९ को वाशिंगटन की मृत्यु हो गयी। उन्हें वर्तमान अमरीका का राष्ट्र-निर्माता कहा जाता है। आज भी अमरीका में उनके ही नाम पर वाशिंगटन शहर है।

इससे पूर्व अमरीका भी हिन्दुस्तान की तरह अनेक (तेरह) उपनिवेशों में बँटा हुआ था और ब्रिटिश राज के अधीन था। मुख्यत: अमरीकी क्रान्ति सामाजिक, राजनीतिक व सैनिक क्रान्ति का मिला-जुला परिणाम थी किन्तु सफलता सैनिक क्रान्ति से ही मिली जिसका श्रेय वाशिंगटन को जाता है।

१९१५ से १९४२ तक अमरीकी क्रान्ति का भारतीय स्वतन्त्रता संग्राम पर व्यापक प्रभाव पड़ा।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]