अक्षर कला

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
,
अक्षर कला
विराम चिन्ह
apostrophe ( ’ ' )
कोष्टक ( [ ], ( ), { }, ⟨ ⟩ )
अपूर्ण विराम ( : )
अल्पविराम ( , ، 、 )
dash ( , –, —, ― )
ellipsis ( …, ..., . . . )
विस्मयादिबोधक चिह्न ( ! )
पूर्णविराम ( )
दशमलव ( . )
hyphen ( )
hyphen-minus ( - )
प्रश्नवाचक चिह्न ( ? )
उद्धरण चिह्न ( ‘ ’, “ ”, ' ', " " )
अर्द्धविराम ( ; )
slash / stroke / solidus ( /,  ⁄  )
Word dividers
interpunct ( · )
space ( ) ( ) ( )
General typography
ampersand ( & )
asterisk ( * )
at sign ( @ )
backslash ( \ )
bullet ( )
caret ( ^ )
dagger ( †, ‡ )
degree ( ° )
ditto mark ( )
inverted exclamation mark ( ¡ )
inverted question mark ( ¿ )
number sign / pound / hash ( # )
numero sign ( )
obelus ( ÷ )
ordinal indicator ( º, ª )
percent, per mil ( %, ‰ )
plus and minus ( + − )
basis point ( )
pilcrow ( )
prime ( ′, ″, ‴ )
section sign ( § )
tilde ( ~ )
underscore / understrike ( _ )
vertical bar / broken bar / pipe ( ¦, | )
Intellectual property
copyright symbol ( © )
registered trademark ( ® )
service mark ( )
sound recording copyright ( )
trademark ( )
Currency
currency (generic) ( ¤ )
currency (specific)
( ฿ ¢ $ ƒ £ ¥ )
Uncommon typography
asterism ( )
hedera ( )
index / fist ( )
interrobang ( )
irony punctuation ( ؟ )
lozenge ( )
reference mark ( )
tie ( )
Related
diacritical marks
logic symbols
whitespace characters
non-English quotation style ( « », „ ” )
In other scripts
Chinese punctuation
Hebrew punctuation
Japanese punctuation
Korean punctuation

मुद्रण कला मुद्रण को सजाने, मुद्रण डिजाइन तथा मुद्रण ग्लिफ्स को संशोधित करने की कला एवं तकनीक है. मुद्रण ग्लिफ़ को विभिन्न उदाहरण तकनीकों का उपयोग करके बनाया और संशोधित किया जाता है. मुद्रण की सजावट में टाइपफेस का चुनाव, प्वायंट साईज, लाइन की लंबाई, लिडिंग (लाइन स्पेसिंग) अक्षर समूहों के बीच स्पेस (ट्रैकिंग) तथा अक्षर जोड़ों के बीच के स्पेस (केर्निंग) को व्यवस्थित करना शामिल हैं.[1]

टाइपोग्राफी का टाइपसेटर, कम्पोजिटर, टाइपोग्राफर, ग्राफिक डिजाइनर, कला निर्देशक, कॉमिक बुक कलाकार, भित्तिचित्र कलाकार तथा क्लैरिकल वर्करों द्वारा किया जाता है. डिजिटल युग के आने तक टाइपोग्राफी एक विशेष प्रकार का व्यवसाय था. डिजिटलीकरण ने टाइपोग्राफी को नई पीढ़ी के दृश्य डिजाइनरों और ले युजरों के लिए सुगम बना दिया.

व्युत्पत्ति[संपादित करें]

टाइपोग्राफी शब्द ग्रीक शब्द τύπος टाइपोस "चिन्ह, चित्र" और γράφω ग्राफो "मैं लिखता हूं" से आया है.

इतिहास[संपादित करें]

मुद्रण कला के जन्म के निशान प्राचीन काल में मुद्रा और मुहर बनाने में उपयोग किए गए प्रथम पंच औप ठप्पों में मिलते हैं. टाइपोग्राफिकल सिद्धांत, जो समान अक्षरों के दुबारा उपयोग के द्वारा एक पूर्ण पाठ की रचना है, को सबसे पहले फेस्टोस डिस्क में समझा गया. यह डिस्क ग्रीस के क्रेटे का एक गूढ़ मिनॉन मुद्रण सामग्री है, जिसका समय 1850 और 1600 ई. पू. के बीच है.[2][3][4] इस बात को सबसे पहले रखा गया है कि रोमन लेड पाइप के अभिलेखों को घूमने वाले टाइप प्रिंटिंग के द्वारा बनाया गया था,[5] लेकिन इस दृष्टिकोण को हाल ही में जर्मन टाइपोग्राफर हर्बर्ट ब्रेकल ने अस्वीकार कर दिया है.[6]

टाइप के पहचान के आवश्यक मानदण्ड का समाधान मध्ययुगीन प्रिंट शिल्पकृति जैसे कि 1119 के लैटिन प्रूफनिंग अब्बे अभिलेख से किया गया जिसका निर्माण फैसटोस डिस्क बनाने के समान तकनीक से किया गया था.[7] उत्तरी इटली के सिविडेल शहर में 1200 के आसपास का एक वेनेटियन सिल्वर रिटेबल है जिसका मुद्रण व्यक्तिगत लेटर पंच के माध्यम से किया गया था.[8] ठीक उसी तरह की मुद्रण तकनीक 10वीं से 12वीं शताब्दी के बाइजेन्टाइन स्टॉरोथेका और लिप्सानोथेका में पाई जाती है.[9] व्यक्तिगत अक्षर टाइल मध्ययुगीन उत्तरी यूरोप में व्यापक रूप में प्रचलित था, जहां अक्षरों को वांछित क्रम में सजा कर शब्द बनाए जाते हैं.[10]

यांत्रिक प्रिंटिंग प्रेस के साथ ही आधुनिक चलनशील टाइप का अविष्कार 15वीं शताब्दी के मध्य में यूरोप में जर्मन गोल्डस्मीथ जोहांस गुटेनबर्ग ने किया था.[11] उनके द्वारा इस्तेमाल में लाए गए लेड-आधारित एलॉय मुद्रण के लिए इतने उपयोगी थे कि उसका प्रयोग आज भी किया जाता है.[12] टेक्स्ट की विविध प्रतियों के मुद्रण हेतु जरूरी बड़ी संख्या में लेटरपंचों के कास्टिंग और कंबाईनिंग चिप कॉपियों के लिए गुटेनबर्ग ने एक विशेष तकनीक का विकास किया; यह महत्वपूर्ण तकनीकी खोज शुरूआती प्रिंटिंग क्रान्ति की सफलता में बहुत मददगार साबित हुआ.

टाइपोग्राफी के साथ चलनशील टाइप का अविष्कार 11वीं शताब्दी में चीन में हुआ. धातु टाइप का अविष्कार सबसे पहले लगभग 1230 में गोर्यो राज के दौरान कोरिया में किया गया. हलांकि, दोनों हस्त मुद्रण प्रणालियों का केवल छुटपुट प्रयोग ही किया जाता था और पश्चिमी लेड टाइप और प्रिंटिंग प्रेस के आने के बाद इसका इस्तेमाल होना बंद हो गया.[13]

कार्य क्षेत्र[संपादित करें]

समकालीन उपयोग में, टाइपोग्राफी का इस्तेमाल और अध्ययन बहुत व्यापक हो गया है जिसमें अक्षर डिजाइन और उपयोगिता के सभी पहलू शामिल हैं. इनमें शामिल हैं:

डिजिटलीकरण के बाद से, वेब पेज, एलसीडी मोबाइल फोन के स्क्रिन पर प्रकट होकर, और हाथ से खेले जाने वाले वीडियो गेम के साथ जुड़कर टाइपोग्राफी उपयोग के व्यापक क्षेत्रों में फैल गया है. मुद्रण की सर्वव्यापकता ने टाइपोग्राफरों को इस मुहावरे को भुनाने का अवसर दे दिया है कि "मुद्रण हर जगह है".

पारंपरिक टाइपोग्राफी चार सिद्धांतों का अनुसरण करती है: दुहराव, विषमता, निकटता और संरेखण.

पाठ मुद्रणकला[संपादित करें]

विलियम कैस्लन की रोमन टाइपफ़ेस का एक नमूना

पारंपरिक टाइपोग्राफी में पाठ को पढ़ने योग्य, सुसंगत, पढ़कर संतोष देने के लिए तैयार किया जाता है, जो पाठक की जानकारी के बिना अदृश्य रूप से अपना काम करता है. टाइपसेट सामग्री का वितरण भी, थोड़े विकर्षण असंगति के साथ, शुद्धता और सफाई पर ध्यान रखता है.

फ़ॉन्ट का विकल्प टाइपोग्राफी के पाठ का पहला चरण है- गद्य में लिखी कहानी, कहानी से अलग लेखन, संपादकीय, शैक्षिक, धार्मिक, वैज्ञानिक, आध्यात्मिक और व्यावसायिक लेखन सबकी सही टाइपफेस और फ़ॉन्ट की अपनी अलग विशेषता और जरूरतें होती हैं. ऐतिहासिक सामग्री के लिए स्थापित पाठ टाइपफ़ेस का चुनाव ऐतिहासिक अवधियों के बीच विचारणीय ओवरलैप के साथ संचयन की लंबी प्रक्रिया के द्वारा हासिल की गई ऐतिहासिक विधा की एक योजना के हिसाब से किया जाता है.

समकालीन किताबों को संभवत: स्टेट-ऑफ-द-आर्ट सेरिफ किया हुआ "टेक्स्ट रोमन" या "बुक रोमन " के साथ सेट किया जाता है और उनके डिजाइन मूल्य वर्तमान समय की डिजाइन कला के संकेत देते हैं जो निकोलस जेन्सन, फ्रांसेस्को ग्रिफो (एक पंचकट्टर जिसने एल्डाईन टाइपरफेस के लिए मॉडल तैयार किया) तथा क्लाउड गैरामंड जैसे पारंपरिक मॉडलों पर बहुत हद तक आधारित हैं. अखबार और पत्रिकाएं अपनी विशेष जरूरतों के साथ कॉम्पैक्ट, विशेषकर कार्य के लिए ही कसा हुआ सेरिफ्ड टेक्स्ट फॉंट का इस्तेमाल करती हैं, जो अधिक लचीलापन, पठनीयता और पेज स्पेस के कुशल इस्तेमाल का अवसर प्रदान करता है. सैन्स सेरिफ़ टेक्स्ट फ़ॉन्ट का उपयोग अक्सर परिचयात्मक पैराग्राफ, प्रासंगिक पाठ और सम्पूर्ण लघु लेखों के लिए किया जाता है. एक लेख के टेक्स्ट के लिए मैचिंग स्टाइल के एक हाई परफारमेंस सेरिफ्ड फॉंट के साथ शीर्षकों के लिए सैन्स-सेरिफ टाइप को जोड़ देना एक मौजूदा फैशन है.

टाइपोग्राफी को आकृति विज्ञान और भाषा विज्ञान, शब्द संरचना, शब्द आवृति, मार्फोलॉजी, ध्वन्यात्मक रचना तथा भाषा वैज्ञानिक वाक्य विन्यास के द्वारा ठीक किया जाता है. टाइपोग्राफी एक विशिष्ट सांस्कृतिक चलन के साथ भी जुड़ा हुआ है. उदाहरण के लिए, फ्रेंच के किसी वाक्य में एक विराम(:) या अर्धविराम(;) के पहले एक नॉन-ब्रेकिंग स्पेस देने की प्रथा है, जबकि अंग्रेजी में ऐसा नहीं है.

रंग[संपादित करें]

टाइपोग्राफी में पेज पर स्याही की पूरी सघनता रंग ही होता है, जिसे मुख्य रूप से टाइप फेस और आकार के द्वारा निर्धारित किया जाता है, जो कि महत्वपूर्ण है, लेकिन वर्ड स्पेसिंग और मार्जिन की गहराई द्वारा भी इसका निर्धारण होता है.[14] पाठ लेआउट, टोन या सेट किए हुए मैटर का रंग, तथा पेज के ह्वाइट स्पेस और अन्य ग्राफिक तत्वों के साथ टेक्स्ट का परस्पर प्रभाव विषय वस्तु के प्रति "अनुभव" और "रेज़ोनंस" को दर्शाता है. प्रिंट मीडिया के साथ ही टाइपोग्राफर बाइंडिंग मार्जिन, कागज के चुनाव तथा मुद्रण की विधि के साथ भी जुड़े रहते हैं.

पठनीयता और सुवाच्यता (स्पष्टता)[संपादित करें]

सुवाच्यता टाइपरफेस डिजाइनर का मामला है कि वह सुनिश्चत करे कि प्रत्येक वर्ण या ग्लीफ फॉंट के सभी अन्य वर्णों से साफ़ और सुथरा रहें. सुवाच्यता कुछ हद तक टाइपोग्राफर के साथ भी संबंध रखता है कि नियत आकार पर नियत उपयोग के लिए वह सही और साफ डिजाइन के टाइपरफेस का चुनाव करे. डिजाइन का एक प्रसिद्ध उदाहरण, ब्रश स्क्रिप्ट में बहुत सारे अपठनीय वर्ण होते हैं, चूंकि उनमें से बहुत सारे वर्ण आसानी से गलत पढ़े जा सकते हैं यदि वे पाठ्यगत संदर्भ से अलग दिखें.

पठनीयता मुख्य रूप से टाइपोग्राफर या सूचना डिजाइनर से जुड़ी हुई है. यह जितना हो सके उतने सुस्पष्ट ढंग से पाठ सामग्री को समझाने के लिए उसकी प्रस्तुति की पूरी प्रक्रिया का नियत परिणाम है. ऑप्टिनल इंटर लेटर, इंटर-वर्ड तथा विशेष रूप से इंटर-लाइन स्पेसिंग के साथ पेज पर सही लाइन लेंथ और स्थिति का जुड़ाव, सावधान संपादकीय "चंकिंग", और शीर्षक, फोलियो तथा संबंधित लिंक की टेक्स्ट संरचना के विकल्प के द्वारा एक पाठक को आसानी से जानकारी के आसपास जाने में मदद की जा सकती है.

चित्र:Oscar wilde english renaissance of art 2.png
ऐवोन ओल्ड स्टाइल रोमन में टेक्स्ट टाइपसेट, इटैलिक और छोटी टोपियां, प्रति पंक्ति लगभग 10 शब्दों में अनुकूलित, टाइपफेस साइज्ड 14 अंक पर आकार 1.4 x अग्रणी, अतिरिक्त ट्रैकिंग अंक के साथ.1882 के आसपास ऑस्कर वाइल्ड द इंग्लिश रीनेसन्स ऑफ़ आर्ट की एक निबंध का मुख्य अंश.

इन दो अवधारणाओं के बीच एक सबसे स्पष्ट भेद अपने लेटर्स ऑफ क्रेडिट (साख पत्र) में वाल्टर ट्रेसी द्वारा प्रस्तुत किया गया था. ... 'एक मुद्रण के दो पहलू' ... 'अपनी प्रभावशीलता में मौलिकता' ... हैं. क्योंकि "सुपाठ्य" का आम अर्थ "पठनीय" ही है फिर भी कुछ लोग हैं, जिनमें से कुछ व्यवसायिक रूप से टाइपोग्राफी से जुड़े लोग भी हैं, जो यह सोचते हैं कि "सुपाठ्यता (सुवाच्यता)" एक ऐसा शब्द है जिसपर टाइप की प्रभावशीलता को लेकर और बहस की जरूरत है. लेकिन स्पष्टता और पठनीयता अलग-अलग हैं, हालांकि ये टाइप की पहलू से सम्बंधित हैं. सही तरीके से जाना हुआ है कि ये दो शब्द टाइप की विशेषता और कार्य के विश्लेषण को अकेले सुपाठ्यता शब्द की तुलना में बहुत ही संक्षिप्त ढ़ंग से समझने में मदद कर सकते हैं. ... टाइपोग्राफी में हमें स्पष्टता और आसानी से पहचान योग्य होने की गुणवत्ता का मतलब समझने के लिए...सुवाच्यता की परिभाषा देने की जरूरत है - इसलिए, उदारण के लिए, हम कह सकते हैं कि पुराने इटैलिक शैली के छोटे आकार में लोवर केस h स्पष्ट नहीं होता क्योंकि इसका मुड़ा हुआ पैर b की तरह दिखाई पड़ता है; या वर्गीकृत विज्ञापन में एक अंक 3 बहुत हद तक 8 के समान है. ... डिस्प्ले आकारों में सुवाच्यता के मामले गंभीर होते हैं, एक वर्ण जो 8 प्वाइंट पर अनिश्चितता का कारण होता है वही 24 प्वाइंट पर स्पष्ट हो जाएगा.[15]

ध्यान देने की बात है कि उपरोक्त सिद्धांत जरूरी प्रकाश में उपयुक्त रीडिंग दूरी पर 20/20 दृष्टि वाले लोगों के साथ लागू होता है. अर्थ की स्वतंत्रता और दृश्य की तीक्ष्णता की परीक्षा के लिए एक ऑप्टिशियंस चार्ट की समानता, स्पष्टता (सुवाच्यता) की अवधारणा की गुंजाइश का संकेत करने के लिए उपयोगी है.

'टाइपोग्राफी में ... अगर एक अखबार या पत्रिका या एक किताब के पन्नों के स्तंभों को तनाव या कठिनाई के बिना कई मिनटों तक पढ़ा जा सकता है, तो हम कह सकते हैं कि टाइप की पठनीयता अच्छी है. इस बात से दृश्य आराम की गुणवत्ता का संकेत मिलता है - पाठ की लंबी विस्तृत समझ में यह एक महत्वपूर्ण आवश्यकता है, लेकिन इसके विपरीत, टेलीफोन निर्देशिका या हवाई जहाज की समय सारणी जैसी चीजों के लिए यह उतना महत्वपूर्ण नहीं है, जहां पाठक इसे लगातार पढ़ते नहीं हैं बल्कि एक छोटी चीज की सूचना को ढूंढते हैं. दृश्य प्रभाव के दोनों पहलुओं में अंतर टेक्स्ट सेटिंग के लिए सैन्स-सेरिफ की उपयुक्तता के एक परिचित तर्क द्वारा किया जाता है. एक विशिष्ट सैन्स-सेरिफ़ फेस के वर्ण आपस में पूर्ण रूप से समझ में आ सकते हैं, लेकिन एक प्रसिद्ध उपन्यास को कोई भी इसमें सेट करने के बारे में नहीं सोच सकता क्योंकि इसकी पठनीयता कम है.[16]

सुवाच्यता 'प्रत्यक्ष ज्ञान से संबंधित है' और पठनीयता 'समझ को दर्शाता है'[16]. टाइपोग्राफर का उद्देश्य दोनों में उत्कृष्टता प्राप्त करना होता है.

"चुना हुआ टाइपफ़ेस स्पष्ट होना चाहिए. मतलब, यह प्रयास के बिना पढ़ा जाना चाहिए. कभी कभी स्पष्टता महज टाइप के आकार का मामला है. लेकिन बहुत हद तक अक्सर, यह टाइपरफेस डिजाइन का मामला है. सामान्यत: जो टाइपरफेस बुनियादी लेटरफार्म के नजदीक होते हैं, वे उन टाइपरफेसों के मुकाबले अधिक स्पष्ट होते हैं जो सघन, फैले हुए, संवरे हुए या अलग होते हैं.

हालांकि, एक स्पष्ट टाइपरफेस भी कमजोर सेटिंग और क्रम स्थान के चलते अपठनीय हो सकता है, ठीक उसी तरह स्पष्ट टाइपरफेस अच्छे डिजाइन के द्वारा अधिक पठनीय बनाए जा सकते हैं.[17]

स्पष्टता और पठनीयता दोनों के अध्ययन ने टाइप के आकार और डिजाइन सहित अन्य तत्वों के एक बड़े रेंज की जांच की है. उदाहरण के लिए, सेरिफ बनाम सैन्स सेरिफ टाइप, इटैलिक टाइप बनाम रोमन टाइप, लाइन लेन्थ, लाइन स्पेसिंग, कलर कंट्रास्ट, दायें किनारे का डिजाइन (उदाहरण के लिए, जस्टिफिकेशन, स्ट्रेट राईट हैंड एज) बनाम दायां विस्तार की तुलना करना, तथा यह कि क्या टेक्स्ट हायफन युक्त है.

सुवाच्यता अनुसंधान उन्नीसवीं सदी के बाद के दिनों में प्रकाशित की गई. यद्यपि वहां अक्सर समानताएं और कई विषयों पर सहमति है, लेकिन दूसरे अक्सर संघर्ष और राय की विभिन्नता के मार्मिक क्षेत्रों को सामने लाते हैं. उदाहरण के लिए, एलेक्स पूल के अनुसार किसी ने भी इसका अंतिम उत्तर नहीं दिया है कि कौन फॉंट, सेरिफ्ड या सैन्स सेरिफ सबसे अधिक स्पष्टता प्रदान करता है.[18]

अन्य विषयों जैसे जस्टिफाईड बनाम अनजस्टिफाईड, हायफन का प्रयोग, पढ़ने में कठिनाई महसूस करने वाले लोगों के लिए उपयुक्त फॉंट जैसे कि डाइस्लेक्सिया पर विवाद जारी है. hgredbes.com, बैन कॉमिक सैन्स, ब्रिटेन की राष्ट्रीय साक्षरता ट्रस्ट, और मार्क सिमसोन्सन स्टूडियो जैसे वेब साइटों ने उपरोक्त विषयों तथा कई और विषयों पर विवाद उठाए हैं और उनमें से कई एक पूर्णता और सुव्यवस्थित स्थिति को प्रस्तुत करते हैं.

स्पष्टता को आमतौर पर पढ़ने की गति के माध्यम से, और प्रभावशीलता की जांच के लिए समझ के स्तर के साथ (मतलब, तेज या लापरवाह दंग का पाठ नहीं), मापा जाता है. उदाहरण के लिए, माइल्स टिंकर, जिसने, 1930 से 1960 के दशक में कई अध्ययनों को प्रकाशित कराया, तेज गति से पढ़ने के परीक्षण का उपयोग किया जिसमें ऐसे प्रतिभागियों की जरूरत थी जो प्रभावशीलता के फिल्टर के रूप में बेतुके शब्दों का उपयोग न करें.

ब्रायन को एवं लिंडा रिनॉल्ड्स के साथ प्रोफेसर हरबर्ट स्पेंसर[19] की देखरेख में रॉयल कॉलेज ऑफ आर्ट के पठनीयता की प्रिंट युनिट ने इस क्षेत्र में महत्वपूर्ण काम किया और यह कई केन्द्रों में एक थी जिसने पठनीयता के लिए आंख के सैकाडिक लय के महत्व को बताया - एक बार में तीन शब्द लेने की योग्यता (अर्थात् के समूहों की पहचान में) और आंख की फिजियोग्नमी जिसका मतलब है - आंख की थकावट, यदि लाइन में ३ या 4 से अधिक सेकडिक जम्प की जरूरत पड़ती है. इससे अधिक पढ़ने में तनाव और त्रुटियां पाई जाती हैं (अर्थात् दोहरीकरण).

इन दिनों, स्पष्टता से जु़ड़े अनुसंधान कठिन मुद्दों में सिमट गए हैं, या विशिष्ट डिजाइन समाधान के परीक्षण में सिमट गए हैं (उदाहरण के लिए, जब नए टाइपरफेस को विकसित किया जाता है). कठिन मुद्दों के उदाहरण में दुर्बल दृष्टि वाले लोगों के लिए टाइपरफेस (जिसे फॉंट भी कहा जाता है), और हाईवे चिन्हों के लिए टाइपरफेस या अन्य स्थितियां जहां स्पष्टता एक महत्वपूर्ण अन्तर पैदा कर सकती है, को शामिल किया जा सकता है.

सुवाच्यता अनुसंधान साहित्य का बहुत कुछ एथ्योरेटिकल है - विभिन्न कारकों का व्यक्तिगत या समूह में परीक्षण किया गया (निस्संदेह, विभिन्न कारक एक दुसरे से जुड़े हुए हैं), लेकिन कई परीक्षण पढ़ने के मॉडल या दृश्य धारणा के अभाव में किए गए. कुछ टाइपोग्राफरों का मानना है कि समग्र शब्द आकार (बौमा (Bouma)) पठनीयता के लिए बहुत महत्वपूर्ण है और यह कि पैरलल लेटरवाईज पहचान का सिद्धांत या तो गलत, कम महत्वपूर्ण है, या उसमें सब कुछ समाहित नहीं है.

इस बात के संदर्भ में कि लोग पढ़ते समय अक्षरों की पहचान कैसे करते हैं, बौमा पहचान एवं सामनांतर अक्षर के अनुरूप पहचान में अंतर करने वाले अध्ययनों ने सामानांतर अक्षर के अनुरूप पहचान का समर्थन किया है जिसे संज्ञानात्मक मनोवैज्ञानिकों ने व्यापक तौर पर स्वीकार किया है.[कृपया उद्धरण जोड़ें]

सुवाच्यता अनुसंधान के बारे में कुछ सामान्य सहमत निष्कर्षों में निम्न बातें शामिल हैं:[कृपया उद्धरण जोड़ें]

  • अपर केस में सेट किए गए टेक्स्ट की अपेक्षा लोअर केस में सेट किए गए टेक्स्ट ज्यादा स्पष्ट होते हैं, संभवत: इस कारण से लोवर केस अक्षर संरचना एवं शब्द आकार अधिक विशिष्ट होते हैं.
  • एक्सटेंडर (एसेंडर, डिस्सेंडर एवं अन्य प्रोजेक्टिंग पार्ट) प्रमुखता (प्रधानता) को बढ़ा देती है.
  • नियमित रूप से अपराईट टाइप (रोमन टाइप) इटैलिक प्रकार की तुलना में अधिक सुपाठ्य होता है.
  • चौंधिया देने वाली चमक के बिना कंट्रास्ट, ज्यादा महत्वपूर्ण रहा है, काले पर पीला/क्रीम अधिक प्रभावशाली होता है.
  • सकारात्मक चित्र (जैसे सफेद पर काला) निगेटिव या रिवर्स (जैसे काले पर सफेद) पढ़ने में ज्यादा आसान होता है. हालांकि इस सामान्यतया स्वीकृत बात के कुछ अपवाद भी हैं, उदाहरण के लिए विकलांगता के कुछ मामले में. (इस क्षेत्र में उनके निष्कर्षों के लिए ब्रिटेन राष्ट्रीय साक्षरता ट्रस्ट देखें.)
  • पहचान की प्रक्रिया में अक्षर के उपरी भाग नीचे की तुलना में अधिक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं.
चित्र:Latex example type.png
लाटेक्स डिजिटल टाइपसेटिंग सॉफ्टवेयर के उपयोग वाला टेक्स्ट टाइपसेट

पठनीयता में लेटर-स्पेसिंग, वर्ड-स्पेसिंग या बहुत कसे हुए या एक दम ढीले लिडिंग के द्वारा भी जोखिम पैदा होता है. जब बहुत सारे वर्टिकल स्पेस टेक्स्ट के लाइनों को अलग करते हैं, तो एक लाइन को दूसरे से या पहली वाली से अंतर करके इसे पढ़ने में सुविधाजनक बनाकर इसको सुधारा जा सकता है. खराब डिजाइन वाले फ़ॉन्ट्स और बहुत कसकर या शिथिल रूप से फिट किए गए फॉंट के परिणामस्वरूप भी खराब पठनीयता पैदा हो सकती है.

टाइपोग्राफी सभी मुद्रित सामग्री का एक तत्व है. आवधिक प्रकाशनों, विशेष रूप से अखबार और पत्रिकाओं में आकर्षक एवं विशिष्ट रूप रंग पैदा करने के लिए, प्रकाशन से पाठकों को जोड़ने के लिए और कुछ मामलों में नाटकीय प्रभाव पैदा करने के लिए टाइपोग्राफिकल तत्वों का इस्तेमाल किया जाता है. गाइड शैली के निरूपण के द्वारा टाइपरफेस के अपेक्षाकृत छोटे संग्रहों पर एक आवधिक मानकीकरण किया जाता है, दोनों का उपयोग प्रकाशन में विशिष्ट तत्वों के लिए किया जाता है और इटैलिक, बोल्डफेस, छोटे एवं बड़े कैपिटल लेटर, रंग एवं अन्य टाइपोग्राफिक विशेषताओं को अबाध उपयोगी बनाया जाता है. द गार्जियन और द इकोनमिस्ट जैसे कुछ प्रकाशन उपने विशिष्ट उपयोग के लिए और बेसपोक (कस्टम टेलर्ड) के लिए एक टाइप डिजाइनर नियुक्त करते हैं.

विभिन्न आवधिक प्रकाशन एक निश्चित शैली या टोन को प्राप्त करने के लिए अपने टाइपोग्राफी समेत अपने प्रकाशनों का डिजाइन करते हैं. उदाहरण के लिए, युएसए टूडे (USA Today) विभिन्न टाइपरफेस और रंगों, टाइप आकार का उपयोग, तथा अखबार का नाम रंगीन पृष्ठभूमि में रखकर, रंगीन और अपेक्षाकृत आधुनिक शैली का उपयोग करते हैं. इसके विपरीत, न्यूयॉर्क टाइम्स कम रंग, उससे भी कम टाइपरफेस और अधिक कॉलम के साथ अधिक पारंपरिक दृष्टिकोण का उपयोग करता है.

विशेष रूप से अखबारों के पहले पन्ने और पत्रिकाओ के कवर पर ध्यान आकार्षित करने के लिए हेडलाइनों को प्राय: थोड़े बड़े डिस्पले टाइपरफेस में सेट किया जाता है तथा इसे सबसे उपर रखा जाता है.

डिस्प्ले टाइपोग्राफी[संपादित करें]

लकड़ी और धातु के अक्षरों से मुद्रित 19वीं सदी का पोस्टर

डिस्प्ले टाइपोग्राफी ग्राफिक डिजाइन में एक महत्वपूर्ण तत्व है जहां पठनीयता की बात कम होती है और टाइप का उपयोग कलात्मक ढंग से करने में अधिक ऊर्जा खर्च की जाती है. शब्द और चित्रों के बीच संबंध और संवाद बनाते हुए टाइप नाकारात्मक स्पेस, ग्राफिक तत्वों और चित्रों से जुड़ा हुआ है.

टाइप तत्वों के रंग और आकार टेक्स्ट टाइपोग्राफी की तुलना में अधिक प्रचलित हैं. अधिकतर डिस्प्ले टाइपोग्राफी थोड़े बड़े आकार के टाइप को दबा देते हैं जहां लेटर डिजाइन के विवरण को बड़ा आकार दिया जाता है. विषय वस्तु के टोन और प्रकृति को समझाने में भावनात्मक प्रभाव के लिए रंग का उपयोग किया जाता है.

डिस्प्ले टाइपोग्राफिक में निम्न चीजें शामिल हैं:

अब्राहम लिंकन के हत्यारे के लिए वांटेड पोस्टर को लेड और वुडकट टाइप के साथ मुद्रित किया गया था जिसमें फोटोग्राफी शामिल थी.

विज्ञापन[संपादित करें]

टाइपोग्राफी लंबे समय से विज्ञापन और प्रचार सामग्री का एक महत्वपूर्ण भाग रहा है. डिजाइनर लोग अक्सर टाइपोग्राफी का उपयोग विज्ञापन में मूड और थीम को सेट करने के लिए करते हैं, उदाहरण के लिए बोल्ड, बड़े पाठ का उपयोग करके वे पाठक को एक विशेष संदेश पहुंचाते हैं. प्रभावशाली रंग, आकार और छवियों से युक्त टाइप का उपयोग अक्सर किसी निश्चित विज्ञापन पर ध्यान आकर्षित करने के लिए किया जाता है. आज, विज्ञापन में टाइपोग्राफी अक्सर कम्पनी के ब्रांड को दर्शाता है. फ़ॉन्ट्स विज्ञापनों में इस्तेमाल किए गए फ़ॉन्ट्स पाठकों के पास एक अलग संदेश संप्रेषित करते हैं, पारंपरिक फोंट एक मजबूत व्यक्तित्व के लिए है, जबकि अधिक आधुनिक फ़ॉन्ट्स एक क्लीनर और तटस्थ लुक व्यक्त को करते हैं. बोल्ड फ़ॉन्ट्स का उपयोग कथन निर्माण और ध्यान आकर्षित करने के लिए किया जाता है.

अभिलेखात्मक और वास्तुगत अक्षरीकरण[संपादित करें]

इन्हें भी देखें: Epigraphy
चित्र:EncycBrit1913.png
एक नैशनल ज्योग्राफिक के 1913 के एक मुद्दे से इनसाइक्लोपीडिया ब्रिटानिका का एक मुद्रण विज्ञापन

अभिलेखात्मक अक्षरीकरण का इतिहास लिखने के इतिहास, अक्षर के रूपों के विकास तथा हाथ की कला के साथ काफी गहराई से जुड़ा हुआ है. कंप्यूटर का व्यापक इस्तेमाल और विभिन्न नक़्क़ाशी तथा आज की तेजी से फैलने वाली तकनीकों ने आज हाथ से बनने वाले स्मारकों को दुर्लभ बना दिया है, और यूएसए में हाथ से नक्काशी करने वोलों की बची हुई जनसंख्या लागातार कम होती जा रही है.

स्मारकीय अक्षरीकरण को प्रभावी बनाने के लिए उसपर उसी के संदर्भ में सावधानीपूर्वक विचार किया जाना चाहिए. अक्षरों के अनुपात में उनके आकार और दर्शकों की बढ़ती तादात से उनकी दूरी के अनुरूप बदलाव की जरूरत है. एक विशेषज्ञ लेटरर बहुत अभ्यास और उनके शिल्प के अवलोकन के द्वारा इन बारीकियों को समझने का लाभ उठा पाता है. एक विशिष्ट प्रोजेक्ट के लिए हाथ से तैयार किए गए अक्षरों का एक मास्टर के हाथ से अत्यधिक विशिष्ट और सुंदर बनने की संभावना अधिक रहती है. प्रत्येक को उत्कीर्ण करने में एक घंटे का समय भी लग सकता है[कृपया उद्धरण जोड़ें], इसलिए कोई आश्चर्य़ नहीं कि स्वचालित तेज गति की प्रक्रिया इस उद्योग के लिए मानक बन गई है.

एक सैंडब्लास्टेड अक्षर को बनाने के लिए, एक रबड़ मैट को एक कंप्यूटर फ़ाइल से लेजर कट किया जाता है और उसे पत्थर से चिपका दिया जाता है. रेत तब दिख रहे सतह के चैनल या खुरदरी लकीर पर चिपक जाता है. दुर्भाग्य से, बहुत सारे कंप्यूटर अनुप्रयोग जो कि इन लेजर कटर के साथ इन फ़ाइलों और इंटरफ़ेस को बनाते हैं, उनके पास बहुत सारे उपलब्ध टाइपरफेस नहीं होते हैं और उनके पास प्राय: छोटे संस्करण वाले टाइपरफेस उपलब्ध होते हैं. हलांकि, जो आज मिनटों में किया जा सकता है, उसमें स्ट्राइकिंग वास्तुकला और चिजेल-कट लेटर की ज्यामिति का अभाव होता है, जो प्रकाश को इनके विशिष्ट आंतरिक सतहों पर पड़ने देते हैं.

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सहायक संगठन[संपादित करें]

नोट्स[संपादित करें]

  1. पाइप्स, एलन. प्रोडक्शन फॉर ग्राफिक डिज़ाईनरस 2 संस्करण, पेज 40 : प्रेन्टिस हॉल इंक 1997
  2. Diamond, Jared. "13: Necessity's Mother: The evolution of technology". Guns, Germs and Steel: The Fates of Human Society. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-393-03891-2. 
  3. Schwartz, Benjamin (1959). "The Phaistos disk". Journal of Near Eastern Studies 18 (2): 105–112 (107). 
  4. Brekle 1997, पृष्ठ 60f.
  5. लैंसियानी 1881, पृष्ठ 416, Pace 1986, पृष्ठ 78; Hodge 1992, पृष्ठ 310f.
  6. Brekle 2010, पृष्ठ 19
  7. Brekle 2005, पृष्ठ 22–25; Brekle 1997, पृष्ठ 62f.; Lehmann-Haupt 1940, पृष्ठ 96f.; Hupp 1906, पृष्ठ 185f. (+ fig.)
  8. Lipinsky 1986, पृष्ठ 78–80; Koch 1994, पृष्ठ 213
  9. Lipinsky 1986, पृष्ठ 78; Koch 1994, पृष्ठ 213
  10. Brekle 1997, पृष्ठ 61f.; Lehmann-Haupt 1940, पृष्ठ 97
  11. McLuhan 1962; Eisenstein 1980; Febvre & Martin 1997; Man 2002
  12. ब्रिटैनिका विश्वकोष 2006: "मुद्रण," 27 नवंबर 2006 को पुनःप्राप्त
  13. चे'ऑन हेय-बोंग 1993, पृष्ठ 19
  14. Eckersley, Richard (1994). "Color". Glossary of Typesetting Terms. Chicago guides to writing, editing and publishing. University of Chicago Press. प॰ 22. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9780226183718. OCLC 316234150. "A page is said to have good color if forms an even mass of gray. Squint at the page, and you will see this." 
  15. TRACY (ट्रेसी) 1986.30-31
  16. TRACY (ट्रेसी) 1986.31
  17. क्रेग, जे. और स्काला, आई.के. डिज़ाइनिंग विथ टाइप, द एसेंशियल गाइड टू टाइपोग्राफी. पांचवां संस्करण . पृष्ठ 63. वॉट्सन गुप्तिल. 2006.
  18. http://www.alexpoole.info/academic/literaturereview.html
  19. मुद्रण की स्पष्टता, लिंडा रेनौल्ड्स 1988 बेसलाइन 10

सन्दर्भ[संपादित करें]

  • पोलाराइज़िंग फ़िल्टर इंस्ट्रुमेंटेशन की सहायता से कॉम्पेरेटिव लेजिबिलिटी का एएसटीएम इंटरनैशनल (ASTM International) D7298 स्टैण्डर्ड टेस्ट मेथड
  • Brekle, Herbert E. (1997), "Das typographische Prinzip. Versuch einer Begriffsklärung", Gutenberg-Jahrbuch 72: 58–63, http://www.typeforum.de/news_332.htm 
  • Brekle, Herbert E. (2005), Die Prüfeninger Weihinschrift von 1119. Eine paläographisch-typographische Untersuchung (brief summary), Regensburg: Scriptorium Verlag für Kultur und Wissenschaft, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 3-937527-06-0, http://www.typeforum.de/news_308.htm 
  • Brekle, Herbert E. (2010), "Herstellungstechniken von Inschriften auf römischen Wasserleitungsrohren aus Blei", in Hanneforth, Thomas; Fanselow, Gisbert, Language and Logos. Festschrift for Peter Staudacher on his 70th birthday, Berlin: Akademie Verlag, प॰ 1–20 
  • चे'ऑन हेय-बोंग: "टाइपोग्राफी इन कोरिया", कोरीअना, खंड 7, नं.2 (1993), पीपी 10-19
  • ब्रिंगहर्स्ट, रॉबर्ट (2002). द एलिमेंट्स ऑफ़ टाइपोग्राफिक स्टाइल (संस्करण 2.5) वैंकूवर: हार्टले और मार्क्स. ISBN 0-88179-133-4. अक्सर केवल "ब्रिंगहर्स्ट" के रूप में संदर्भित किया जाता है, एलिमेंट्स को व्यापक रूप से लैटिन टाइपोग्राफी के लिए वर्तमान के रूप में मुद्रण शैली अधिकार का सम्मान है. (उद्धरण). त्शिचोल्ड की द फॉर्म ऑफ़ द बुक के साथ अच्छी तरह से जुडी हुई एक ही प्रकाशक की पुस्तक.
  • Eisenstein, Elizabeth L. (1980), The Printing Press as an Agent of Change, Cambridge University Press, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-521-29955-1 
  • Febvre, Lucien; Martin, Henri-Jean (1997), The Coming of the Book: The Impact of Printing 1450-1800, London: Verso, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 1-85984-108-2 
  • हेलर, स्टीवन और मेग्ग्स, फिलिप बी. टेक्स्ट्स ऑन टाइप: क्रिटिकल राइटिंग्स ऑन टाइपोग्राफी (c) 2001, ऑलवर्थ प्रेस, ऑलवर्थ संचार, न्यूयॉर्क. ISBN 1-58115-082-2. टाइप डिजाइन एवं टाइपोग्राफी के इतिहास, व्यवहार, और सौंदर्यशास्त्र पर पचास से ज्यादा पाठ्य-सामग्रियों का एक संकलन (समूह).
  • Hodge, A. Trevor (1992), Roman Aqueducts & Water Supply, London: Duckworth, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-7156-2194-7 
  • Hupp, Otto (1906), "Die Prüfeninger Weiheinschrift von 1119", Studien aus Kunst und Geschichte, Festschrift für Friedrich Schneider, Freiburg i. Br.: Herder 
  • Koch, Walter (1994), Literaturbericht zur mittelalterlichen und neuzeitlichen Epigraphik (1985−1991), Monumenta Germaniae Historica: Hilfsmittel, 14, München, प॰ 213, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-3886121144 
  • लैंसियानी, आर.: "Topografia di Roma antica. I commentarii di Frontino intorno le acque e gli acquedotti. Silloge epigrafica aquaria", Memorie della Reale Accademia dei Lincei में, सिरी III, खंड IV, क्लासे डे साइंसेज मोराली, रोम 1881 (पुनर्मुद्रण: कुवासर प्रकाशन घर, 1975), पीपी 215–616
  • Lehmann-Haupt, Hellmut (1940), "Englische Holzstempelalphabete des XIII. Jahrhunderts", Gutenberg-Jahrbuch: 93–97 
  • Lipinsky, Angelo (1986), "La pala argentea del Patriarca Pellegrino nella Collegiata di Cividale e le sue iscrizioni con caratteri mobili", Ateneo Veneto 24: 75–80 
  • Man, John (2002), The Gutenberg Revolution: The Story of a Genius and an Invention that Changed the World, London: Headline Review, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0747245049 
  • McLuhan, Marshall (1962), The Gutenberg Galaxy: The Making of Typographic Man (1st ed.), University of Toronto Press, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0802060419 
  • Pace, Pietrantonio (1986), Gli acquedotti di Roma e il Aquaeductu di Frontino (2nd ed.), Rome: Art Studio S. Eligio 
  • ट्रेसी, वॉल्टर की लेटर्स ऑफ क्रेडिट 1986 गॉर्डन फ्रेज़र
  • त्शिचोल्ड, जैन (1991). द फॉर्म ऑफ द बुक: एसेस ऑन द मोरालिटी ऑफ गुड डिज़ाइन . वैंकूवर: हार्टले और मार्क्स. ISBN 978-0-88179-034-4. मुद्रण कला पर आधारित निबन्धों का एक व्यापक संग्रह. ऊपर, ब्रिंगहस्ट का एक और परंपरागत साथी.
  • फ्रेंच टाइपोग्राफी के लिए Lexique des règles typographiques en usage à l'Imprimerie nationale, फ़्रान्सीसी: Imprimerie nationale‎, 2002, ISBN 2-7433-0482-0.
  • स्वेंसन, गुनर ग्राफिक डिज़ाइन एंड रीडिंग: एक्सप्लोरेशन ऑफ एन अनइज़ी रिलेशनशिप (c) 2000, ऑलवर्थ प्रेस, ऑलवर्थ संचार, न्यूयॉर्क. ISBN 1-58115-063-6. द क्रिस्टल गौब्लेट या प्रिंटिंग शुड बी इनविज़िबल बियाट्राइस वौर्ड़े; इम्प्रूविंग द टूल हरन्ट एच. पापाजियन.
  • अलेक्जेंडर लॉसन, ऐनाटॉमी ऑफ़ अ टाइपफेस, पहली बार 1990 में प्रकाशित, टाइपफेसेज़ के व्यक्तिगत या छोटे समूहों के विकास और उपयोग को सम्पूर्ण अध्याय समर्पित है. ISBN 978-0-87923-333-4
  • सफेद, एलेक्स डब्ल्यू. (1999). टाइप इन यूज़ - इफेक्टिव टाइपोग्राफी फॉर इलेक्ट्रॉनिक प्रकाशन (संस्करण 2.0) डब्ल्यू.डब्ल्यू. नौर्टन एंड कंपनी, इंक. न्यूयॉर्क. ISBN 0-393-73034-4 (pbk).
  • Martínez de Sousa, José, Manual de estilo de la lengua española, 3.ª एड., गिज़ों: ट्रा, 2007. स्पेनिश टाइपोग्राफी के लिए.
  • —, Ortografía y ortotipografía del español actual, 2.ª ed., एड., गिज़ों: ट्रा, 2008. स्पेनिश टाइपोग्राफी के लिए.
  • मेस्ट्रेस, जोसफ एम.; कोस्टा, ज़ोन; ओलाइवा, मिरिया; फिट, रिकार्ड. मैनुअल डी'एस्टिल. La redacció i l'edició de textos . 4a ed., rev. i ampl. विक / बार्सिलोना: यूमो / UB /UPF / रोजा सेंसट, 2009. कातालान टाइपोग्राफी के लिए.
  • पुजोल, जे.एम., आई, ज़ोन: ओर्टोटीपोग्राफीय .Manual de l'autor, l'autoeditor i el dissenyador gràfic, 2a एड., रेव. बार्सिलोना: कोलुमना, 2000. कातालान टाइपोग्राफी के लिए.
  • Gill, Eric (2000) [1931]. An Essay on Typography. David R Godine. pp. 188. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0879239506. 

बाहरी लिंक[संपादित करें]

Wiktionary-logo-en.png
typography को विक्षनरी,
एक मुक्त शब्दकोष में देखें।


साँचा:Typography terms