हौवा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

हौवा एक काल्पनिक जीव है जिसका डर दिखाकर वयस्क लोग बच्चों में अनुशासन और शिष्टाचार की आदतों को प्रेरित करते हैं। जहां बच्चों के लिए हौवा एक वास्तविक दानव या शैतान है वहीं वयस्क इसे डर या गुस्से के एक प्रतीक के रूप में इस्तेमाल करते है। हिन्दी में हौवा कई कहावतों और मुहावरों में भी प्रयुक्त होता है। बच्चों को डराया जाता है कि अगर उन्होने कोई भी अनुशासनहीनता की या कोई भी ऐसी बात की जिसको न करने की हिदायत उनके बड़ों ने दी हो तो “हौवा आ जाएगा” और उन्हें उसकी सज़ा देगा। वहीं वयस्क इसे अलग ढंग से प्रतीकात्मक रूप से प्रयोग करते हैं जैसे “ आप क्यों हर बात पर कानून का हौवा खड़ा करते हो?“।

सन्दर्भ[संपादित करें]