हथगोला

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

हथगोला (हंड ग्रेनेड) बारूद आधारित हथियार है जो छोड़ने के थोड़ी देर बाद फटता है। मूल रूप से युद्ध में ये हथगोला फेकने में दक्ष सैनिक-टोली का यह काम होता था। किन्तु वर्तमान समय में हथगोले राइफल से फेके जाते हैं या इसी काम के लिये विशेष रूप से डिजाइन किये हुए 'ग्रेनेड-लांचर' से फेके जाते हैं।

विशेषताएँ[संपादित करें]

हथगोलों की पांच विशेषताएँ हैं-

  • कम दूरी तक जाते हैं (कम परास)
  • लगभग ५ मीटर की हत्या-त्रिज्या (किल रेडियस)
  • लगभग १५ मीटर की चोट-त्रिज्या (कैजुअल्टी रेडियस)
  • इसमें एक देरी करने वाला अवयव लगा होता है जो सुरक्षित रूप से फेंकने में मदद करता है।
  • इसकी खोल सख्त होती है जो किसी सख्त चीज (जैसे दीवार, फर्श) से टकराकर विस्फोटित होती है।

हथगोले के तीन मुख्य घटक हैं-

  • शरीर, जिसमें विस्फोटक रसायन भरा जाता है।
  • विस्फोटक जो तेजी से फटने में मदद करता है।
  • फ्यूज, जो हथगोले में आग लगाता है।

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]