स्टैनली कप

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
स्टैनली कप

स्टैनली कप (फ़्रान्सीसी: La Coupe Stanley‎), नैशनल हॉकी लीग के फाइनल में विजेता को प्रतिवर्ष सम्मानित करने की चैम्पियनशिप ट्रॉफी है।[1][2] यह ट्रॉफी लॉर्ड् स्टेनली के नाम पर नामित की गई है जो कनाडा के उस समय के गवर्नर जनरल थे और जिन्होंने यह कनाडा के शीर्ष क्रम के शौकिया आइस हॉकी क्लब को सम्मानित करने के लिये शुरू किया था।[3]

मूल कप चांदी से बना है और ऊंचाई में १८.५ सेंटीमीटर (७.२८ इंच) और व्यास में २९ सेंटीमीटर (११.४२ इंच) का है। वर्तमान मे मूल कप की एक प्रतिमा कप पे सबसे ऊपर स्थित है, वर्तमान स्टैनले कप, रजत और निकल मिश्र धातु से बना है; यह ८९.५४ सेंटीमीटर (३५.२५ इंच) ऊंचा है और वजन १५.५ किलोग्राम (३४.५ पौंड) है।[4]

उत्कीर्णन[संपादित करें]

स्टैनले कप विजेता खिलाड़ियों, कोचों, प्रबंधन, और क्लब के कर्मचारियों के नाम के साथ उत्कीर्ण होता है। हालाँकि, यह हमेशा ऐसा ही नहीं रहा था, लॉर्ड्स स्टेनली की मूल शर्तों की एक-एक टीम अपने स्वयं के खर्च पर अपनी जीत का जश्न मनाने के लिए कप में एक रिंग जोड़ सकता थी।[5] प्रारंभ में, केवल एक ही आधार रिंग हुआ करती थी जो वहाँ मॉन्ट्रियल हॉकी क्लब द्वारा मूल कप के नीचे जुड़ी होती थी। क्लब आमतौर पर "टीम का नाम" "वर्ष (जिसमें जीता गया)" उत्कीर्ण करते थे और यह तब तक रहा जब तक इस रिंग का वर्तमान रूप सन् १९०२ में पूरा हुआ। नाम खोदने के लिए कोई और अधिक जगह नहीं होने और एक नया दूसरी रिंग के लिए भुगतान करने को तैयार नहीं होने के कारण टीमों ने कप पर ही अपनी छाप छोड़ने का फ़ैसला किया। सन् १९०७ मे मॉन्ट्रियल वांडरर्स कप एक ऐसा पहला क्लब बन गया जिसके हर सदस्य का नाम ट्रोफी की आतंरिक सतह पर उनके क्लब के नाम के साथ र्ज़ की गयी। इस तरह वे पहले ऐसे चैम्पियन बने जिनकी टीम के हर सदस्य का कप पर नाम दर्ज़ किया गया।[6]

सन्दर्भ[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]