सोवियत मोंटेज थ्योरी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

सोवियत मोंटेज थ्योरी सिनेमा को समझने और बनाने के लिए एक दृष्टिकोण है जो संपादन पर भारी निर्भर करता है (मॉन्टेज "असेंबली" या "संपादन" के लिए फ्रेंच शब्द है)। यह वैश्विक सिनेमा के लिए सोवियत फिल्म सिद्धांतकारों का मुख्य योगदान है।

यद्यपि 1920 के दशक में सोवियत फिल्म निर्माताओं ने मोंटेज के बारे में असहमति थी, सर्गेई आईजनस्टीन ने "ए डायलेक्टिक अप्रोच टू फिल्म फॉर्म" में समझौते के रूप में चिह्नित किया, जब उन्होंने कहा कि मोंटेज "सिनेमा की तंत्रिका" है, और "मोंटेज की प्रकृति का निर्धारण सिनेमा की विशिष्ट समस्या को हल करना है "। इसका प्रभाव वाणिज्यिक, अकादमिक और राजनीतिक रूप से दूर तक पहुंच रहा है। अल्फ्रेड हिचकॉक संपादन (और अप्रत्यक्ष रूप से मोंटेज) को उपयुक्त फिल्म निर्माण के लिंचपिन के रूप में दर्शाता है। वास्तव में, आज उपलब्ध बहुसंख्यक कथानक फ़िल्मों में मोंटेज को प्रदर्शित किया गया है। सोवियत दौर के बाद के फ़िल्म सिद्धांतों ने मोंटेज से फिल्म विश्लेषण को फिल्म की भाषा, एक व्याकरण, की ओर पुनर्निर्देशित करने पर बड़े पैमाने पर आधारित किया। उदाहरण के लिए, फिल्म की एक सिमिऑटिक समझ, सर्गेई ईसेनस्टीन की भाषा के " पूरी तरह से नए तरीकों" की ऋणी है।[1]  हालांकि कई सोवियत फिल्म निर्माताओं, जैसे कि लेव कोल्शोव, डिजीगा वेर्तोव, एस्फायर शुब और वेस्वोल्द पुडोवकिन ने मोंटेज प्रभाव के गठन के बारे में आपने विचार दिए हैं, आईजनस्टीन का विचार कि  "मॉन्टेज एक विचार है जो स्वतंत्र शॉट्स के टकराव से उत्पन्न होता है" जिसमें "प्रत्येक अनुक्रमिक तत्व को दूसरे के बगल में नहीं, लेकिन दूसरे के ऊपर माना जाता है" सबसे व्यापक रूप से स्वीकार किया गया है।

सोवियत नेतृत्व और फिल्म निर्माताओं के लिए फिल्मों का उत्पादन - किस प्रकार और किन परिस्थितियों केअंतर्गत वो बनती हैं - अति महत्वपूर्ण था? फिल्में जो आम जनता के बजाय व्यक्तियों पर केंद्रित थीं, वे काउंटरवेव्यूशनरी मानी जाती थीं, लेकिन मातर ऐसा नहीं था। फिल्म निर्माण का सामूहीकरण को कम्युनिस्ट राज्य की प्रोग्रामिक पूर्ति के लिए केंद्रीय था। किनो-आई ने एक फिल्म और न्यूज़रील सामूह बना दिया जिस ने लोगों की जरूरतों के ऊपर के कलाकृति के पूंजीवादी विचारों को खत्म करना था। श्रम, आंदोलन, जीवन की मशीनरी, और सोवियत नागरिकों की हर रोज़ की ज़िंदगी, किनो-आई के प्रदर्शनों की सामग्री, रूप और उत्पादक चरित्र में एकत्रित था।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Metz, Christian (1974). Film Language; A Semiotics of Cinema. Oxford University Press. पृ॰ 133.