सैरोस चक्र

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

सैरोस चक्र लगभग 18 वर्ष 11 दिन 8 घंटे की एक अवधि है (लगभग 6585⅓ दिन), जिसका उपयोग सूर्य व चंद्र ग्रहणों का पूर्वानुमान लगाने में किया जा सकता है। किसी ग्रहण के बाद एक सैरोस चक्र बीत जाने पर, सूर्य, पृथ्वी व चंद्रमा लगभग उसी आपेक्षिक ज्यामिति (अर्थात् स्थिति) में लौट आते हैं, तथा मूल स्थान के पश्चिम में लगभग समान ग्रहण फिर से घटित होते हैं।

ग्रहणों की वह शृंखला जो एक सैरोस चक्र के अंतर्गत आती है सैरोस शृंखला कहलाती है।