सुन्दा जलसन्धि

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
सुन्दा जलसन्धि
Sunda Strait map-fr.svg
सुन्दा जलसन्धि
प्रकार जलसन्धि
तटवर्ती क्षेत्र व देश Flag of Indonesia.svg इण्डोनेशिया
अधिकतम गहराई −20 मी॰ (−66 फीट)
1729 में पियरे वैन डेर एए द्वारा बनाया गया सुन्दा जलडमरूमध्य का नक्शा
सुन्दा जलडमरूमध्य का नक्शा 1702-1707

सुन्दा जलसन्धि इण्डोनेशिया के सुमात्रा द्वीप और जावा द्वीप के बीच की जलसन्धि है। यह जावा सागर को हिन्द महासागर से जोड़ती है। इसका नाम पश्चिम जावा द्वीप के सुन्दा समुदाय पर पड़ा है। यह अपने न्यूनतम चौड़ाई पर केवल २४ किमी है और इसमें कई छोटे टापू व द्वीप स्थित हैं। यह अपने पश्चिमी छोर पर बहुत गहरी है लेकिन इसके पूर्वी अंत पर गहराई केवल २० मीटर तक आ जाती है। इस कम गहराई और समुद्र सतह से नीचे कई रेतीले टीलों की उपस्थिति से यह बड़ी नौकाओं के लिए बहुत ख़तरनाक माना जाता है। इस कारण से समुद्री जहाज़ इस जलसन्धि की बजाय मलक्का जलसन्धि का मार्ग अपनाते हैं।[1]

भूगोल[संपादित करें]

सुन्दा जलसन्धि

जलसन्धि लगभग उत्तर-पूर्व / दक्षिण-पश्चिम की ओर फैला हुआ है, 24 किमी (15 मील) की न्यूनतम चौड़ाई के साथ केप टुआ के बीच सुमात्रा और जावा पर केप पुजत के बीच इसके उत्तरी-पूर्वी छोर पर स्थित है। यह अपने पश्चिमी छोर पर बहुत गहरा है, लेकिन जब यह पूर्व की ओर बढ़ता है तो यह बहुत उथला होता जाता है, जिसकी गहराई पूर्वी छोर के हिस्सों में केवल 20 मीटर (65 फीट) रह जाती है। यह सदियों से एक महत्वपूर्ण नाविक मार्ग रहा है, खासकर उस अवधि के दौरान जब डच ईस्ट इंडिया कंपनी ने इसे इंडोनेशिया के स्पाइस द्वीप समूह (1602-1799) के प्रवेश द्वार के रूप में इस्तेमाल किया था। हालांकि, जलसन्धि की संकीर्णता, उथल-पुथल, और सटीक मानचित्र की कमी से कई आधुनिक बड़े जहाजों के लिए यह अनुपयुक्त हो जाता था, जिनमें से अधिकांश मलक्का जलसन्धि का उपयोग करते हैं।[2]

जलसन्धि, कई जलसन्धि द्वीपों द्वारा श्रृंखलाबद्ध है, जिनमें से कई में मूल ज्वालामुखी हैं। उनमें शामिल हैं: सांगियांग (थ्वार्ट-द-वे), सेबेसी, सेबुकु और पानितान (प्रिंस)। हालांकि, सबसे प्रसिद्ध ज्वालामुखी क्राकोटाउ है, जो 1883 में अपने समय के सबसे घातक और विनाशकारी विस्फोटों में से एक के लिये जाना जाता है। जलडमरूमध्य में द्वीप और आस-पास के जावा और सुमात्रा के आसपास के क्षेत्र उस विस्फोट में तबाह हो गए थे, मुख्य रूप से ज्वालामुखी से निकले राख और और विशाल सूनामी के कारण। विस्फोट ने जलडमरूमध्य की स्थलाकृति को बदल दिया, ज्वालामुखी के आसपास 1.1 मिलियन वर्ग किमी के क्षेत्र में लगभग 18-21 किमी का प्रज्वलन किया गया। उनमें से कुछ क्षेत्रों को कभी भी बसाया नहीं गया है (जैसे कि जावा के तटीय क्षेत्र को अब उज्ंग कुलोन नेशनल पार्क में शामिल कर लिया गया है), लेकिन बहुत से समुद्र तट अब बहुत घनी आबादी वाले हैं। क्राकाटाउ की एकमात्र शेष चोटी, रकाटा के अलावा, क्राकाटु द्वीपसमूह में लैंग (पंजंग या रकाटा सेसिल), वर्लटन (सेर्टुंग) के द्वीप शामिल हैं, और सबसे हाल ही में, अनारक क्रकटु, जो मूल क्राकोटा के बिखर गए अवशेषों से 1927 में उभरा था।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Donald B. Freeman, The Straits of Malacca: Gateway Or Gauntlet?. McGill-Queen's Press, 2006.
  2. Donald B. Freeman, The Straits of Malacca: Gateway Or Gauntlet?. McGill-Queen's Press, 2006.