सिन्धुपंक

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

महासागर के गहरे सागरीय मैदान की तली पर पाया जाने वाला निक्षेप सिंधुपंक या निपंक (ooze) कहलाता है। यह मुख्यतः तरल पंक (liquid mud) के रूप में होता है। इसमें अधिकांशतः उन जीवों के अवशेष पाये जाते हैं जो जल के उपरी भाग में रहते हैं। मरने के बाद उनके अवशेषों का निक्षेप महासागरीय तली पर जमा होता रहता है। इसमें ज्वालामुखी धूलि के निक्षेप भी मिलते हैं।

टेरापोड सिंधु पंक (pteropod ooze) और ग्लोबिजेरिना सिंधुपंक (globigerina ooze) चूना प्रधान सिंधुपंक के उदाहरण हैं जिनका निर्माण क्रमशः टेरेपाड तथा ग्लोबिजेरिना जीवों के अवशोषों द्वारा होता है और इनमें कैल्सियम की मात्रा क्रमशः 80 प्रतिशत और 65 प्रतिशत पायी जाती है। रेडियो लेरियन सिंधु पंक (radiolarian ooze) और डायटम सिंधुपंक (diatom ooze) सिलिका प्रधान सिंधुपंक हैं जिनका निर्माण रेडियोलेरिया, डायटम तथा फोरामिनिफेरा जीवों के अवशेषों के निक्षेप से होता है।[1]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. सिंधु पंक (Ooze) (इण्डिया वाटर पोर्टल)