सिक्किम गोर्खा जागरण संघ

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
सिक्किम गोर्खा जागरण संघ
संक्षेपाक्षर SGJS
स्थापना 2015 (2015)
प्रकार सामाजिक संस्था
मुख्यालय नाम्ची, सिक्किम
स्थान
  • भारत
क्षेत्र served
सिक्किम
आधिकारिक भाषा
नेपाली
अध्यक्ष
के. बी. राई
सम्बन्धन IN-DL264923247905480

सिक्किम गोर्खा जागरण संघ सिक्किम के गोरखा समुदाय की राज्य स्तरीय गैर-सरकारी संस्था है। इसकी स्थापना सन २०१५ में हुई। इसका मुख्य कार्यालय सिक्किम राज्य के दक्षिणी जिले नाम्ची में है और इसकी शाखाएं सिक्किम के सभी मुख्य स्थानों पर हैं। इसके वर्तमान अध्यक्ष के० बी० राई हैं।

लक्ष्य एवं उद्देश्य[संपादित करें]

सिक्किमी गोर्खा समुदाय को भारत के अन्य आधुनिक सभ्य समुदायों की बराबरी में सभ्य सुसंस्कॄत और देशभक्त समाज के रूप मे स्थापित कराना इसका प्रमुख लक्ष्य है। भारतीय संविधान प्रदत्त अधिकार और कर्त्तव्यों के प्रति जागरुक कराना तथा समुदाय के प्रत्येक सदस्य का सामाजिक, सांस्कॄतिक, शैक्षिक, आर्थिक तथा राजनैतिक विकास के लिए कार्य करना इसका उद्देश्य है।

मागें[संपादित करें]

सिक्किम गोर्खा जागरण संघ के तरफ से सिक्किमी भारतीय गोर्खा जाति की समस्याओं का राष्ट्रीय और राज्य स्तर में समाधान हेतु निम्नलिखित मागें है:

  • (1) जनप्रतिनीधित्व संशोधन कानून 1980 को पुनः संशोधन कर सिक्किम विधानसभा के आसन जनसंख्या के अनुपात में आरक्षण कर् एक आदमी एक मत (वोट) एक मूल्य बनाकर सदा-सर्वदा के लिए प्यारिटी प्रथा का अन्त चाहता है।
  • (2) रेभिन्यू अर्डर नम्बर 1 कानून को संशोधन कर सिक्किम सब्जेक्ट प्रमाण-पत्रधारी गोर्खा र भोटे/लाप्चे बीच बराबर जमीन खरीद-बीक्री चाहता है।
  • (3) 1642 से पहले के सिक्किमी गोर्खाओं का भौगोलिक इतिहास को स्कूल, कलेज र विश्वविद्यालय के पाठ्यक्रम में समावेश कर उचित ढंग से गोर्खाओं की पहचान स्थापित कराना।
  • (4) सन् २००१ मे सरकारी अधिसूचना के द्वारा हिन्दी, गोर्खा तथा अन्य भाषाओ में स्थापित कंचनजंघा, भालेढुंगा, तातोपानी, पोखरी आदि स्थलों के जो नाम भोटे भाषा में परिवर्तन किए गए हैं उन स्थलों के नाम यथावत करने की माग।

सदस्यता[संपादित करें]

इस संस्था की सदस्यता सिक्किमी गोर्खा जाति के सभी लोग ले सकते हैं।

सन्दर्भ[संपादित करें]