सामन्था क्रिस्टोफोरेटी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
सामन्था क्रिस्टोफोरेटी

सामन्था क्रिस्टोफोरेटी एक इतालवी यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी की अंतरिक्ष यात्री और इतालवी वायु सेना की पायलट और इंजीनियर हैं। वह अंतरिक्ष की पहली इतालवी महिला अंतरिक्ष यात्री है और पहली अंतरिक्ष महिला जो अंतरिक्ष में एस्प्रेसो कॉफी पीती थी।[1] सामन्था क्रिस्टोफोरेटी का जन्म २६ अप्रैल १९७७ को मिलन में हुआ था। उन्होंने १८ साल की उम्र में अपने पहले अंतरिक्ष शिविर में भाग लिया। उन्होंने बोलजानो और ट्रेंटो में पढ़ाई की और मैकेनिकल इंजीनियरिंग में डिग्री के साथ म्यूनिख की तकनीकी विश्वविद्यालय से स्नातक की उपाधि प्राप्त की। और टूलूज़, फ्रांस में इकोले नेशनलियल सुपरएरियरे डी ल'एरोनॉटिक एट डी एल एस्पेस और मॉस्को में मैडेलीव रूसी रसायन विज्ञान और प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय से अपनी शिक्षा ग्रहण की। उन्होंने पोज़ज़ूली में अकैडिया एयरोनॉटिका में एरोनॉटिक्स साइंसेज (यूनिवर्सिटी 'फेडेरिको II', नेपल्स) में स्नातक किया और इतालवी वायु सेना में लेफ्टिनेंट और फाइटर पायलट होने वाली पहली महिला बन गई। वह ग्रहपथ पर होने वाली दूसरी अंतरिक्ष शिविर छात्रवृत्ति है।

अपने प्रशिक्षण के तहत उन्होंने यूरो-नाटो संयुक्त जेट पायलट प्रशिक्षण पूरा किया। उन्होंने ५०० घंटों तक लॉग इन किया है और छह प्रकार के सैन्य विमानों को भेजा है: एसएफ -260, टी -37, टी -38, एमबी-33 9 ए, एमबी-33 9 सीडी और एएम-एक्स वह अब कप्तान के रैंक रखती है। ३ जुलाई २०१२ को, यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी ने घोषणा की कि क्रिस्टोफोरेटी २०१४ में एक लंबी अवधि के मिशन के लिए आईएसएस को निर्धारित की गयी है। और २३ नवंबर २०१४ को कजाखस्तान के बायकोनुर कॉस्मोड्रोम से क्रिस्टोफोरेटी और दो अन्य अंतरिक्ष यात्री ले जाने वाले सोयुज टीएमए -15 एम यह सफलतापूर्वक लगभग छह घंटे बाद इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन पर डॉक किया गया था।[2] क्रिस्टोफोरेटी, उसके चालक दल के साथी के साथ, ११ जून २०१५ को आईएसएस से सुरक्षित रूप से लौट आए। वह अंतरिक्ष में १९९ दिन बिताकर सबसे लंबे एकल मिशन के रिकॉर्ड के धारक बने। इससे पहले, नासा के अंतरिक्ष यात्री सुनीता विलियम्स ने आईएसएस के एक्सपेंडिशन-33 मिशन के १९५ दिनों के बाद यह रिकॉर्ड रखा था।[3] १६ जुलाई २०१५ को उन्हें राष्ट्रपति मैटरेला द्वारा इतालवी गणराज्य के आदेश (मेरिट ऑफ़ ऑरडीन अल मेरिटो डेला रिपब्लिका इटालियाना) से सम्मानित किया गया। इतालवी राष्ट्रपति ने कहा, "वह सभी इटालियंस से प्यार और प्यार के साथ अनुगमन की जाएगी"।[4]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "To boldly brew: Italian astronaut makes first espresso in space". the Guardian. Retrieved September 26, 2015.
  2. "Crew docks at International Space Station". USA Today. 23 November 2014. Retrieved 24 June 2015.
  3. "Samantha beats ESA astronaut single-duration record - Outpost 42". Outpost 42. Retrieved September 26, 201
  4. "Samantha Cristoforetti becomes Cavaliere di Gran Croce". Italoamericano.org. Retrieved 2015-07-21.