समान अवसर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

समान अवसर की परिभाषा और अर्थ पर काफी मतभेद है। मोटे तौर पर इसका अर्थ ऐसे सामाजिक वातावरण से है जिसमें व्यक्तियों को शिक्षा, रोजगार (जीविका), स्वास्थ्य-सुविधा आदि की प्राप्ति में ऐसे चीजों (traits) के आधार पर भेदभाव न किया जाता हो जिन्हे व्यक्ति कोशिश करके भी नहीं बदल सकता (immutable traits)। समान अवसर के निर्माण एवं क्रियान्यवन के लिये सरकार और संस्थाएँ तरह-तरह के उपाय करतीं हैं। समान अवसर प्रदाता संस्थाएँ निम्नलिखित चीजों के आधार पर कोई भेद-भाव नहीं करतीं-

  • लिंग (sex)
  • जाति (race)
  • वैवाहिक स्थिति (marital status)
  • कैरीअर से जुड़े उत्तरदायित्व (carers' responsibilities)
  • अपंगता (disability)
  • आयु
  • राजनैतिक झुकाव (political conviction)
  • धार्मिक विश्वास (religious belief)

बहुत से लोगों का विचार है कि समानता का सिद्धान्त एक मिथक मात्र है जबकि समान अवसर का सिद्धान्त व्यावहारिक धरातल पर उतारा जा सकता है और अधिक उपयोगी है। समान अवसर की नीति का लक्ष्य होता है कि संस्था में विविधता (diversity) सुनिश्चित की जाय।

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]