सदस्य वार्ता:Yamaxy420/प्रयोगपृष्ठ/sanskratik reporting

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

सांस्कृतिक पत्रकारिता[संपादित करें]

चित्र:Report-It-Stop-It.jpg
सांस्कृतिक पत्रकारिता

उपक्षेप[संपादित करें]

संस्कृती काफी हद तक परंपरा द्वारा संरक्षित और प्रचारित है। और परंपराएं पीढ़ी से पीढ़ियों तक विशेष रूप से मौखिक रूप, या पारंपरिक प्रदर्शनों और संचार द्वारा मान्यताओं, अनुभवों और रीति-रिवाजों को नियंत्रित करती हैं। लोक मीडिया परंपरागत रूप से भारत में सूचना के प्रसार के साधन या विरासत, इतिहास, सामाजिक मूल्यों, धर्मों और समुदाय के दर्शन के रूप में इस्तेमाल किया गया है। परंपरागत मीडिया में कहानी, क्रिया, नाटक, संगीत, यंत्र और रंग इतनी एकत्रित होते हैं कि वे मनोरंजन के माध्यम से लोगों को जागरूक किए बिना निर्देश के सर्वोत्तम माध्यम बनते हैं कि वे क्या सीख रहे हैं। सांस्कृतिक रिपोर्टर अलग- अलग जगह जाकर अनेक कार्यक्रमों और कार्यशालाएं का हिस्सा बनते हैं जिससे उन्हें अपने लेखों के लिए जानकारी मिल सके।[1]

सांस्कृतिक पत्रकारिता के विभिन्न क्षेत्र[संपादित करें]

चित्र:Republic Day Parade Cultural Performance.jpg
सांस्कृतिक पत्रकारिता के विभिन्न क्षेत्र

सांस्कृतिक रिपोर्टर को विभिन्न घटनाओं, भाषणों, कला रूपों को कवर करने का कार्य है जो विशेष अवसरों और कार्यशालाओं पर आयोजित किए जाते हैं।दृश्य कला में सभी प्रकार की प्रदर्शन सामग्री शामिल होती है जो संस्कृति को दर्शाती है जैसे की पेंटिंग प्रदर्शनी, कार्टून प्रदर्शनी और मूर्तिकला प्रदर्शनी के बारे में जागरुकता पैदा करने के लिए विभिन्न मंत्रालयों और संगठनों ने कार्यक्रमो़ का आयोजन किया है।उदाहरण के लिए गणतंत्र दिवस पर, कई समूहों में गरबा, कुचीपुडी नृत्य आदि जैसे सांस्कृतिक कार्यक्रमों के आयोजन के द्वारा विभिन्न राज्यों का प्रतिनिधित्व किया जाता है। यह सारी घटनाएं रिपोर्टर विस्तार तौर पर अपने लेख में लिखते हैं। इन सब के अलावा रिपोर्टर ज्यादातर उस्ताद जाकिर हुसैन, रविशंकर जैसे प्रसिद्ध कलाकारों के साक्षात्कार के लिए देखते है, क्योंकि वे अच्छे लेख बनते हैं। वे सरकार और गैर सरकारी संगठनों की गतिविधियां भी देखते हैं जैसे की संगीत नाटक अकादमी, ललित कला अकादमी, सहयता कला परिषद, आदि जिनके बारे में लिखने से पाठकों को पढ़कर मिले। कभी कभी विशेष अवसरों और समारोह द्वारा रिपोर्टर को अपने लेख के लिए अच्छी जानकारी मिल सकती है। जैसे की राजपथ में स्वतंत्रता दिवस पर गोल्डन जुबली कार्यक्रम, गणतंत्र दिवस की परेड, स्वतंत्रता दिवस कार्यक्रम, आदि । [2]

सांस्कृतिक पत्रकारिता के विभिन्न स्रोत[संपादित करें]

चित्र:Independence-day-udaipur1.jpg
सांस्कृतिक पत्रकारिता के विभिन्न स्रोत

सांस्कृतिक पत्रकारिता के विभिन्न स्रोतों में कला विषयों पर सेमिनार शामिल हैं, जहां कई संगठन और सांस्कृतिक मामलों के मंत्रालय राष्ट्र की संस्कृति या कला से संबंधित सेमिनार का आयोजन करते हैं। कई संस्थानों और संगठनों ने आजकल अपने छात्रों या उनके कर्मचारियों के लाभ के लिए विभिन्न विषयों पर कार्यशालाओं का आयोजन किया है। ऐसी कार्यशालाएं सांस्कृतिक पत्रकारों को महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान करती हैं। विशेष व्याख्यान अनेक विषयों पर कॉर्पोरेट कार्यालयों और विभिन्न शैक्षणिक संस्थानों द्वारा आयोजित किए जाते हैं। जैसे पर्यावरण, पानी की कमी, आदि। कला विषयों पर प्रकाशित साहित्य, पत्रकारों के लिए एक अच्छा स्रोत माना जाता है। उदाहरण के लिए, विरासत विभाग द्वारा प्रकाशित पुस्तक संस्कृति और विभिन्न अन्य विकास के मुद्दों का व्यापक विवरण देती है। प्रेस कॉन्फ्रेंस और विज्ञप्ति को सांस्कृतिक रिपोर्टिंग में सूचना का एक महत्वपूर्ण स्रोत माना जाता है।को अपने लेखों में किसी भी तरह का पक्षपात नहीं करना चाहिए। लेखन संतुलित होना चाहिए। और उनमें उद्देश्य होना चाहिए। रिपोर्ट को आधे दिल से लिखना नहीं चाहिए और आवश्यक जानकारी पाठकों के लिए उपलब्ध होनी चाहिए। एक सांस्कृतिक रिपोर्टर को अपने लेखों में अपने विचारों को थोपना नहीं चाहिए। एक रिपोर्टर को सामान्य जनता के पसंद और नापसंद पर विचार करना चाहिए। सांस्कृतिक रिपोर्टिंग केवल देखने के बाद ही की जानी चाहिए। इसे माध्यमिक स्रोतों के आधार पर नहीं किया जाना चाहिए। और, इन पत्रकारों के प्रकाशन में विलंब नहीं होना चाहिए वरना वे पाठकों के लिए कम दिलचस्प हो सकते हैं । पत्रकारों को सांस्कृतिक हित को कवर करने के लिए संस्कृति की भाषा के साथ अच्छी तरह से वाकिफ होना चाहिए। रिपोर्टर को संस्कृति की उचित समझ होनी चाहिए ताकि वे लेख लिख सकें जिससे आखिरकार लेख के टुकड़े को एक विशिष्ट पहचान मिल सके। इसके अलावा, एक सांस्कृतिक रिपोर्टर को विभिन्न कला रूपों के प्रति दिलचस्पी और साथ में झुकाव भी होना चाहिए।सांस्कृतिक रिपोर्टिंग के लिए कुछ सावधानी रखना आवश्यक हैं। और इन्हें नज़र अंदाज नहीं किया जा सकता हैं।[3]

  1. https://journalism.nyu.edu/graduate/programs/cultural-reporting-and-criticism/
  2. https://www.upf.edu/pra/en/3383/21371.html
  3. https://www.centerforhealthjournalism.org/resources/lessons/cross-cultural-reporting