सदस्य वार्ता:Kavita Singh Chauhan/1

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

आर्यभट्टा के युग सिद्धांत - समय का विभाजन (भौतिक विज्ञान और खगोल विज्ञान )

आर्यभट्ट ब्रह्माण्ड के निर्माण या विनाश की अवधारणा से सहमत न थे, जो की लोकप्रिय पारंपरिक पुराणों और स्मृतियों पर आधारित विश्वास का खंडन था। समय एक निरंतर अस्तित्व है जिसका कोई आरम्भ या अंत नहीं अथार्त वह अनादि और अनंत है| समृतियों और सूर्य सिद्धांत के नियमानुसार, बहुसंख्यक पैमाने पर समय का विभाजन युग सिद्धांत के आधार पर कुछ इस प्रकार होता है:

          1 कल्प =     14 मानुस 
          1 मानु =     71 महा युगों 
          1 महा युग =  43,20,000 वर्षों

तथापि, दो लगातार माणुस के बीच में एक महा युग की अवधि के दो-पाँचवें के समकक्ष संध्या (मध्यवर्ती सांझ) काल होता है| 14 माणुस के लिए 15 संध्याएँ होती है| अतेव, 1 कल्प 14 मानुसों और उनके 15 संध्याओं से मिलकर बनता है, दूसरे शब्दों में, 1 कल्प = ( 14 x 71 x 43,20,000) + (15 x 2/5 x 43,20,000)

          = 1000 x 43,20,000 वर्षों 
          =432 x 10^7 वर्षों 

अथार्थ 1 कल्प = 1000 महा युग

इसके आलावा, एक महायुग को 4:3:2:1 के अनुसार चार भागों में विभाजित किया गया है: सत्ययुग, त्रेता युग, द्वापर युग, काली युग| इन चार युगों की अवधि है:

         सत्य युग    =  17,28,000 वर्षों 
         त्रेता युग    =   12,96,000 वर्षों 
         द्वापर युग   =   8,64,000 वर्षों 
         काली युग   =   4,32,000 वर्षों 
        संपूर्ण:१ महा युग  =  43,20,000 वर्षों 

वर्तमान में, हम श्वेत वराहा कल्प में है जिसमें छः मानुस समाप्त हो चुके हैं| हम इस समय सातवेँ मानुस में हैं जो कि वैवस्वता महावंतरा है| यहाँ तक कि इस सातवेँ माणुस में भी 27 महायुग बीत चुके हैं| इस अट्ठाईसवें महायुग में 3 युग बीत चुके हैं और यह चौथा और आखरी युग, काली युग है| आर्यभट्टा ने इस समलैंगिक पारंपरिक सिद्धांत की जगह:एक सरल और अधिक खगोलीय वैहवार्य सिद्धांत दिया –

          1 कल्प =     14 मानुस 
          1 मानु =      72 महा युगों 
          1 महा युग =   43,20,000 वर्षों

उद्देश्य [संपादित करें]

इस व्यवस्था में, 1 कल्प = 1008 (महा) युग के बराबर होता है (१००० के बजाय) । क्योंकि 1008, 7 से विभाज्य है, इस वजय से हर कल्प एक ही कार्य दिवस पर शुरू होता है| आर्यभट्ट पूरी तरह से 'सृजन' और 'सांझ'(संध्या) काल में बिताए समय के तिथि को तिरस्कृत करते हैं| इसके अतिरिक्त, आर्यभट्टा ने एक महायुग को चार भागों में विभाजित किया, लेकिन समान अवधी में, पारंपरिक 4:3:2:1 विभाजन के विपरीत| खगोलीय चंद्रग्रहण के लिए 10, 80, 000 साल का समान विभाजन ज्यादा सरल पड़ता है, क्योंकि इस अवधि में सभी ग्रह अपने अभिन्न संख्यक क्रांतियों की पूर्ति करते हैं| ग्रह राशि-चक्र की शुरुआत के साथ संयोजन में हो जाते हैं| हो सकता है, आर्यभट्टा एक महायुग के 4 भागों में बराबर विभाजन की योजना का निर्णय इस लिए किया क्योंकि हर एक महायुग में ग्रहों की क्रान्तियाँ 4 कारक में समानता से बाटीं गयी हैं| (चंद्रमा के पराकाष्ठा और ग्रंथि के मामलों को छोड़कर) ।